spot_img

Bihar की सड़कें पांच वर्षों में America की तरह होगी: गडकरी

केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने शुक्रवार को कहा कि बेहतर कनेक्टिविटी से बिहार के हर शहर, हर गांव को सशक्त बनाने के लिए सरकार प्रतिबद्ध है।

Munger: केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने शुक्रवार को कहा कि बेहतर कनेक्टिविटी से बिहार के हर शहर, हर गांव को सशक्त बनाने के लिए सरकार प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि राज्य में फिलहाल दो लाख करोड़ से सड़क और पुल के कार्य हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि पांच लाख करोड़ खर्च की योजना है। केंद्रीय मंत्री ने दावा किया कि बिहार की सड़कें पांच वर्षों में अमेरिका की तरह होगी।

मंत्री नितिन गडकरी ने शुक्रवार को मुंगेर में गंगा नदी पर रेल सह सड़क पुल की पहुंच पथ परियोजना के लोकार्पण किया। इस मौके पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Chief Minister Nitish Kumar) भी शामिल रहे।

बिहार के लिए बड़ा खास दिन: गडकरी

इस कार्यक्रम में वीडियो कांफ्रेंसिंग से जुड़े गडकरी ने कहा कि आज बिहार के लिए बड़ा खास दिन है। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी (Former Prime Minister Atal Bihari Vajpayee) और तत्कालीन रेल मंत्री नीतीश कुमार ने जिस सेतु का शुभारंभ किया था, आज उसी का शुभारंभ मुख्यमंत्री कर रहे हैं। यह राज्य का तीसरा रेल सह सड़क पुल है।

बेहतर कनेक्टिविटी से बिहार के शहर, गांव को सशक्त बनाने के लिए प्रतिबद्ध : गडकरी

भोजपुर के कोइलवर का निर्माण का काम तेजी से चल रहा है। भागलपुर में नए पुल का निर्माण दिसंबर में शुरू होगा। बिहार से पश्चिम बंगाल, झारखंड, उत्तर प्रदेश के लिए कई एक्सप्रेस-वे (express-way) का निर्माण होना है। रामजानकी मार्ग अयोध्या से सीतामढ़ी के भिट्ठा मोड़ होते हुए नेपाल सीमा तक बनेगा। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में हम बेहतर कनेक्टिविटी से बिहार के हर शहर हर गांव को सशक्त बनाने के लिए प्रतिबद्ध है।

उन्होंने कहा कि इस पुल के बनने से मुंगेर से खगड़िया की दूरी 100 किलोमीटर कम हो गई जबकि मुंगेर से बेगूसराय की दूरी 20 किलोमीटर कम हो गई। उन्होंने कहा कि इससे प्रदेश में निवेश को प्रोत्साहन मिलेगा तथा औद्योगिक विकास को बढ़ावा मिलेगा। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि इस पुल के निर्माण से पहले स्थानीय लोगों को उत्तर बिहार में जाने के लिए 70 किलोमीटर दूर मोकामा के राजेंद्र पुल तथा 75 किलोमीटर दूर भागलपुर के विक्रमशिला पुल का उपयोग करना पड़ता था।

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!