spot_img

Jharkhand में वज्रपात: 4 घटनाओं में 5 की गई जान, 3 झुलसे

Deoghar Airport का रन-वे बेहतर: DGCA

Ranchi: झारखंड में शुक्रवार को बारिश के दौरान वज्रपात (आसमानी बिजली गिरना) की तीन अलग-अलग घटनाओं में पांच लोगों की जान चली गयी, जबकि तीन लोग झुलस गये। मौसम विभाग ने अलर्ट किया है कि अगले पांच दिनों तक राज्य में बारिश के साथ-साथ वज्रपात की घटनाएं बार-बार हो सकती हैं।

पहली घटना पलामू जिले के चैनपुर थाना अंतर्गत करसो गांव की है। यहां दिन साढ़े ग्यारह बजे बारिश से बचने के लिए 65 वर्षीय लालो कुंअर पेड़ के नीचे खड़ी थीं, तभी वज्रपात हुआ और उनकी घटनास्थल पर ही मौत हो गयी। इसी जिले के नीलांबर-पीताबंर पुर प्रखंड के ओरिया गांव में भी खेत में काम करने गयी महिला मखोला देवी ने बारिश से बचने के लिए पेड़ के नीचे शरण ली और इसी दौरान वज्रपात ने उनकी जान ले ली, जबकि पास खड़े एक अन्य व्यक्ति हरिशंकर प्रसाद मेहता जख्मी हो गये, जिन्हें इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया है।

जमशेदपुर के चाकुलिया प्रखंड के राजाबासा गांव में भी शुक्रवार दोपहर खुले मैदान में मवेशियों को चरा रही दो बुजुर्ग महिलाएं वज्रपात की चपेट में आ गयीं। दोनों की तत्काल मौत हो गयी। घटना की जानकारी मिलने पर स्थानीय विधायक समीर मोहंती मौके पर पहुंचे। उन्होंने कहा कि मृतकों के परिजनों को सरकार से मुआवजा दिलाने का प्रयास करेंगे।

इधर गिरिडीह जिले के डुमरी थाना के अंतर्गत आने वाले खुद्दीसार गांव में हुए वज्रपात से राजेश यादव नामक व्यक्ति की मौत हो गयी, जबकि उसकी पत्नी सुनीता देवी और इसी परिवार के एक बालक अकुंश यादव गंभीर रुप से जख्मी हो गये। दोनों का इलाज शहर के एक निजी अस्पताल में चल रहा है।

रांची स्थित मौसम केंद्र के वैज्ञानिक अभिषेक आनंद ने बताया है कि 18 से लेकर 20 जून तक संताल परगना प्रमंडल, हजारीबाग, बोकारो, धनबाद, चतरा, कोडरमा, गिरिडीह, लातेहार, पलामू जिले में बारिश के साथ वज्रपात को लेकर येलो अलर्ट जारी किया गया है।

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!