Global Statistics

All countries
232,607,643
Confirmed
Updated on Monday, 27 September 2021, 11:26:13 am IST 11:26 am
All countries
207,521,471
Recovered
Updated on Monday, 27 September 2021, 11:26:13 am IST 11:26 am
All countries
4,762,064
Deaths
Updated on Monday, 27 September 2021, 11:26:13 am IST 11:26 am

Global Statistics

All countries
232,607,643
Confirmed
Updated on Monday, 27 September 2021, 11:26:13 am IST 11:26 am
All countries
207,521,471
Recovered
Updated on Monday, 27 September 2021, 11:26:13 am IST 11:26 am
All countries
4,762,064
Deaths
Updated on Monday, 27 September 2021, 11:26:13 am IST 11:26 am
spot_imgspot_img

Jharkhand: ED ने अलकतरा घोटाला मामले में करोड़ो की संपत्ति की अटैच

प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने अलकतरा घोटाला मामले में सोमवार को कार्रवाई करते हुए पवन कुमार सिंह का बरियातू थाना क्षेत्र स्थित एक घर को अटैच किया है। यह संपत्ति बरियातू, बूटी रोड में स्थित है। ED सूत्रों ने बताया कि अटैच किए गए संपत्ति का बाजार मूल्य चार से पांच करोड़ रुपए है।

रांची: प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने अलकतरा घोटाला मामले में सोमवार को कार्रवाई करते हुए पवन कुमार सिंह का बरियातू थाना क्षेत्र स्थित एक घर को अटैच किया है। यह संपत्ति बरियातू, बूटी रोड में स्थित है। ED सूत्रों ने बताया कि अटैच किए गए संपत्ति का बाजार मूल्य चार से पांच करोड़ रुपए है। 

उल्लेखनीय है कि इससे पहले ईडी ने बीते 12 मई को कार्रवाई करते हुए रांची के लाइन टैंक रोड स्थित पल्सर प्लाजा के पांचवें तल्ले पर स्थित दो अचल संपत्तियों को जब्त किया था। अलकतरा घोटाले का यह मामला 6.88 करोड़ रुपये का है। ED ने CBI की रांची स्थित भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (ACB) में दर्ज चार प्राथमिकियों में चार्जशीट के आधार पर मनी लांड्रिंग एक्ट के तहत केस दर्ज किया था।

यह केस क्लासिक कोल कंस्ट्रक्शन प्राइवेट लिमिटेड, इसके प्रबंध निदेशक पवन कुमार सिंह, दूसरे निदेशक दिलीप कुमार सिंह, झारखंड सरकार के सड़क निर्माण विभाग के 22 इंजीनियर व दो अन्य जालसाजों पर किया गया था। इन कंपनियों को HPCL, IOCL, BPCL आदि तेल कंपनियों से अलकतरा लेना था, जो नहीं लिया गया।

कंपनी के निदेशकों ने HPCL के पश्चिम बंगाल स्थित रामनगर के नाम पर 492 फर्जी व जाली कागजात के आधार दिखाकर 4630 मीट्रिक टन अलकतरा खरीदने का दावा किया और सड़क निर्माण विभाग में कागजात जमा कर भुगतान ले लिया। विभागीय इंजीनियर मिलीभगत से आरोपितों ने कुल 6.88 करोड़ रुपये का घोटाला किया और अवैध संपत्ति बनाई। इस मामले में 31 मार्च 2018 व 24 नवंबर 2020 को रांची स्थित ED की विशेष अदालत में ED ने दो अलग-अलग अभियोजन शिकायत दायर किया था। इसमें अभी ट्रायल चल रहा है। 

Leave a Reply

spot_img

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!