spot_img
spot_img

मानसिक अवसाद में हैं बाबूलाल मरांडी, अगले 50 सालों तक BJP को सत्ता नहीं मिलनेवाली: JMM

भट्टाचार्य ने कहा कि उन्हें डर सता रहा है कि 50 साल बाद भाजपा की सरकार अगर आती है तो गैर आदिवासी सीएम बन जाता है उस वक्त के लिए उन्हें चिंता सताने लगी है। ऐसे भी भाजपा 50 वर्ष तक यहां सरकार में आने वाली नहीं है।

रांची: झारखंड मुक्ति मोर्चा (JMM) ने भाजपा विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी के बयान पर पलटवार किया है। झामुमो ने कहा है कि भाजपा विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी मानसिक अवसाद में है। विगत चार जून को सरकार के मंत्री मंडल द्वारा राज्यपाल के स्वीकृति से जनजातीय सलाहकार परिषद (TAC) नियमावली 2021 को  राज्य में लागू किया गया। उस पर सवाल उठा रहे हैं। झामुमो महासचिव और प्रवक्ता सुप्रियो भट्टाचार्य ने सोमवार को प्रेसवार्ता में कहा कि बाबूलाल मरांडी ने कहा है कि TAC का अध्यक्ष मुख्यमंत्री और आदिवासी होना चाहिए। वह भूल गए कि मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन आदिवासी हैं।

पिछले पांच साल में उन्हीं के पार्टी के अध्यक्ष थे जो गैर आदिवासी थे। भट्टाचार्य ने कहा कि उन्हें डर सता रहा है कि 50 साल बाद भाजपा की सरकार अगर आती है तो गैर आदिवासी सीएम बन जाता है उस वक्त के लिए उन्हें चिंता सताने लगी है। ऐसे भी भाजपा 50 वर्ष तक यहां सरकार में आने वाली नहीं है। इसलिए यह बातें उन्होंने कही। वह कहते हैं कि इस कमेटी का वह इसलिए विरोध कर रहे हैं कि इसमें कोई महिला नहीं है। शायद वह भूल गए हैं कि विधायक सीता सोरेन TAC की सदस्य हैं। 

उन्होंने कहा कि पांचवी अनुसूची के तहत छत्तीसगढ़ में टीएसी का गठन हुआ था। 2012 में हाई कोर्ट में केस हुआ। 2013 में इसका जजमेंट आया। मुख्यमंत्री को अधिकार है। हर राज्य की राज्यपाल काउंसिल आफ मिनिस्टर्स की अवाइड होती है। हर कानून गवर्नर के नाम होता है। इसलिए यह जायज है। 

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!