spot_img
spot_img

Jharkhand के अधिवक्ता की गिरफ्तारी से जुड़े मामले में कोलकाता पुलिस ने ED के डिप्टी डायरेक्टर को नोटिस भेजा

अधिवक्ता राजीव कुमार को कोलकाता पुलिस ने बीते 31 जुलाई को कोलकाता के कारोबारी को कथित तौर पर ब्लैकमेल कर उससे 50 लाख रुपये वसूलने के आरोप में गिरफ्तार किया था।

Ranchi: रांची के अधिवक्ता राजीव कुमार (Ranchi advocate Rajeev Kumar) की गिरफ्तारी से जुड़े मामले में कोलकाता की पुलिस ने ईडी के डिप्टी डायरेक्टर सुबोध कुमार (ED deputy director Subodh Kumar) को पूछताछ के लिए नोटिस भेजा है। हाल तक ईडी के रांची स्थित क्षेत्रीय कार्यालय में पदस्थापित रहे सुबोध कुमार इन दिनों ओडिशा में पोस्टेड हैं। अधिवक्ता राजीव कुमार को कोलकाता पुलिस ने बीते 31 जुलाई को कोलकाता के कारोबारी को कथित तौर पर ब्लैकमेल कर उससे 50 लाख रुपये वसूलने के आरोप में गिरफ्तार किया था। इस मामले की जांच के दौरान कोलकाता पुलिस को अधिवक्ता राजीव कुमार और ईडी के अफसर सुबोध कुमार के बीच व्हाट्सएप चैट मिले हैं। पुलिस इसी संदर्भ में उनसे पूछताछ करना चाहती है।

अधिवक्ता राजीव कुमार झारखंड में पीआईएल मैन के रूप में चर्चित रहे हैं। आरोप है कि कोलकाता के कारोबारी अमित अग्रवाल के खिलाफ की गयी एक पीआईएल वापस लेने के नाम पर उन्होंने दस करोड़ रुपये मांगे और फिर एक करोड़ में डील फाइनल की। इसी की पहली किस्त के तौर पर उन्होंने अमित अग्रवाल से 50 लाख रुपये लिए थे। इसके कुछ ही देर बाद कोलकाता पुलिस ने उन्हें रुपयों के साथ गिरफ्तार कर लिया था। सनद रहे कि राजीव कुमार ही वह अधिवक्ता हैं, जिन्होंने झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन और उनके करीबियों के खिलाफ जांच की मांग को लेकर झारखंड हाईकोर्ट में याचिकाकर्ता शिव शंकर शर्मा की ओर से दो पीआईएल फाइल कर रखी है।

राजीव कुमार को गिरफ्तार करने के बाद कोलकाता पुलिस ने बीते दिनों उनके रांची स्थित आवास और दफ्तर पर छापा मारकर कई संपत्तियों के दस्तावेज और डिजिटल साक्ष्य जब्त किया था। पुलिस ने राजीव कुमार का व्हाट्सएप चैट हासिल किया है। पीआईएल के नाम पर कई लोगों के साथ उनकी बातचीत हुई है। इनमें ईडी के अफसर सुबोध कुमार भी हैं। हालांकि यह स्पष्ट नहीं है कि क्या उनके व्हाट्सएप वातार्लाप में कुछ आपत्तिजनक था, जिसके कारण बंगाल पुलिस ने ईडी के उप निदेशक को तलब किया। नोटिस में कोलकाता पुलिस ने कहा कि सुबोध कुमार मामले के तथ्यों से परिचित हैं और उनका बयान दर्ज करने की जरूरत है।

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!