spot_img
spot_img

इतिहास में अब तक का सबसे बड़ा परमाणु बल विस्तार जारी रखेगा बीजिंग: अमेरिका

बीजिंग अपने इतिहास में (Beijing in its history) अब तक का सबसे बड़ा परमाणु बल विस्तार (nuclear force expansion) और शस्त्रागार विविधीकरण (Arsenal Diversification) जारी रखेगा।

संजीव शर्मा

New Delhi: बीजिंग अपने इतिहास में (Beijing in its history) अब तक का सबसे बड़ा परमाणु बल विस्तार (nuclear force expansion) और शस्त्रागार विविधीकरण (Arsenal Diversification) जारी रखेगा। अमेरिकी खुफिया समुदाय के 2022 वार्षिक खतरे के आकलन में यह आशंका जताई गई है।

इस रिपोर्ट में कहा गया है कि बीजिंग उन समझौतों में दिलचस्पी नहीं रखता है, जो उसकी योजनाओं को प्रतिबंधित करते हैं और वह उन वातार्ओं के लिए सहमत नहीं होगा, जो अमेरिका या रूसी फायदे के लिए हैं। चीन एक बड़ी और तेजी से सक्षम परमाणु मिसाइल और बमवर्षक बल (bomber force) का निर्माण कर रहा है, जो पहले की तुलना में अधिक टिकी रहने वाली, अधिक विविध और उच्च अलर्ट पर है, जिसमें क्षेत्रीय वृद्धि को प्रबंधित करने और किसी भी परि²श्य में अंतरमहाद्वीपीय स्ट्राइक क्षमता सुनिश्चित करने के लिए डिजाइन किए गए परमाणु मिसाइल सिस्टम शामिल हैं।

बीजिंग प्रमुख क्षमताओं के विकास में तेजी ला रहा है, उसका मानना है कि पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) को बड़े पैमाने पर, निरंतर संघर्ष में संयुक्त राज्य अमेरिका का सामना करने की आवश्यकता है। पीएलए नौसेना और वायु सेना इस क्षेत्र में सबसे बड़ी हैं और उन्नत प्लेटफार्मों को तैनात करना जारी रखे हुए हैं, जो चीन की वायु श्रेष्ठता और परियोजना शक्ति स्थापित करने की क्षमता में सुधार करती हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि पीएलए रॉकेट फोर्स (पीएलएआरएफ) शॉर्ट, मीडियम और इंटरमीडिएट-रेंज पारंपरिक सिस्टम क्षेत्र में अमेरिकी बलों और ठिकानों को खतरे में डाल सकता है।

रिपोर्ट में कहा गया है, हम आकलन करते हैं कि चीन अमेरिकी सरकार और निजी क्षेत्र के नेटवर्क के लिए सबसे व्यापक, सबसे सक्रिय और लगातार साइबर जासूसी का खतरा प्रस्तुत करता है।

चीन की साइबर गतिविधियों और संबंधित प्रौद्योगिकियों के निर्यात से अमेरिकी मातृभूमि के खिलाफ हमलों का खतरा बढ़ जाता है, अमेरिकी वेब सामग्री का दमन, जिसे बीजिंग अपने नियंत्रण के लिए खतरा मानता है और वैश्विक स्तर पर प्रौद्योगिकी-संचालित सत्तावाद के विस्तार को बढ़ाता है।

यह भी आशंका जताई गई है कि चीन लगभग निश्चित रूप से साइबर हमले शुरू करने में सक्षम है जो तेल और गैस पाइपलाइनों और रेल प्रणालियों सहित संयुक्त राज्य के भीतर महत्वपूर्ण बुनियादी ढांचा सेवाओं को बाधित करेगा।

चीनी कम्युनिस्ट पार्टी (सीसीपी) चीन को पूर्वी एशिया में एक प्रमुख शक्ति और विश्व मंच पर एक प्रमुख शक्ति बनाने के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के ²ष्टिकोण को प्राप्त करने के लिए प्रयास जारी रखेगी। सीसीपी ताइवान पर एकीकरण के लिए दबाव बनाने, अमेरिकी प्रभाव को कम करने, वाशिंगटन और उसके सहयोगियों के बीच दरार पैदा करने और कुछ मानदंडों को बढ़ावा देने के लिए काम करेगी, जो इसकी सत्तावादी व्यवस्था के पक्ष में हैं।

बीजिंग तेजी से प्रतिस्पर्धी यूएस-चीन संबंधों को एक युगांतरकारी भू-राजनीतिक बदलाव के हिस्से के रूप में देखता है और बीजिंग के खिलाफ वाशिंगटन के राजनयिक, आर्थिक और सैन्य उपायों को चीन के उदय को रोकने और सीसीपी शासन को कमजोर करने के लिए एक व्यापक अमेरिकी प्रयास के हिस्से के रूप में देखता है।

इसके साथ ही रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि बीजिंग विदेशों में चीन की आर्थिक, राजनीतिक और सैन्य उपस्थिति का विस्तार करने के लिए बेल्ट एंड रोड इनिशिएटिव (BRI) को बढ़ावा देना जारी रखेगा। बीजिंग प्रचार और स्थिरता चुनौतियों के जवाब में बीआरआई के प्रति अपने ²ष्टिकोण को समायोजित करेगा और पहल के ब्रांड को बेहतर बनाने और अंतरराष्ट्रीय आलोचना को कम करने के प्रयास में परियोजना चयन में विविधता लाएगा। रिपोर्ट में कहा गया है कि चीन प्रौद्योगिकी और मानवाधिकारों के लिए नए अंतरराष्ट्रीय मानदंडों को भी बढ़ावा देगा।(IANS)

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!