Global Statistics

All countries
242,917,357
Confirmed
Updated on Thursday, 21 October 2021, 4:56:13 pm IST 4:56 pm
All countries
218,451,095
Recovered
Updated on Thursday, 21 October 2021, 4:56:13 pm IST 4:56 pm
All countries
4,939,868
Deaths
Updated on Thursday, 21 October 2021, 4:56:13 pm IST 4:56 pm

Global Statistics

All countries
242,917,357
Confirmed
Updated on Thursday, 21 October 2021, 4:56:13 pm IST 4:56 pm
All countries
218,451,095
Recovered
Updated on Thursday, 21 October 2021, 4:56:13 pm IST 4:56 pm
All countries
4,939,868
Deaths
Updated on Thursday, 21 October 2021, 4:56:13 pm IST 4:56 pm
spot_imgspot_img

भवानीपुर सीट से ममता लड़ेंगी उपचुनाव, शोभन ने दिया सीट से इस्तीफा

पश्चिम बंगाल की मुख्­यमंत्री ममता बनर्जी आगामी छह माह के दौरान फिर से चुनाव मैदान में उतरेंगी। इस बार वे भवानीपुर सीट से विपक्षी दलों को चुनौती देंगी। बंगाल के कृषि मंत्री शोभनदेव चटर्जी ने शुक्रवार को मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के लिए कोलकाता की भवानीपुर विधानसभा सीट से विधायक पद से इस्तीफा दे दिया।

कोलकाता
पश्चिम बंगाल की मुख्­यमंत्री ममता बनर्जी आगामी छह माह के दौरान फिर से चुनाव मैदान में उतरेंगी। इस बार वे भवानीपुर सीट से विपक्षी दलों को चुनौती देंगी। बंगाल के कृषि मंत्री शोभनदेव चटर्जी ने शुक्रवार को मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के लिए कोलकाता की भवानीपुर विधानसभा सीट से विधायक पद से इस्तीफा दे दिया।

विधानसभा अध्यक्ष विमान बनर्जी ने इसे स्वीकार कर लिया है। अब इस सीट से मुख्यमंत्री ममता बनर्जी चुनाव लड़ेंगी। 2011 व 2016 में ममता इसी सीट से विधायक निर्वाचित हुई थीं। परंतु इस बार भवानीपुर से शोभनदेव को उतारकर ममता खुद नंदीग्राम से चुनाव लड़ी और कभी अपने करीबी रहे शुभेंदु अधिकारी से हार गईं। इसके बाद अब ममता एक बार फिर भवानीपुर से चुनावी मैदान में उतरेंगी। इधर, विधानसभा के स्पीकर विमान बनर्जी ने शोभनदेव चटर्जी का इस्तीफा भी स्वीकार कर लिया है।

बिमान बनर्जी ने कहा कि मैंने उनसे पूछा है कि क्या उन्होंने स्वेच्छा से और बिना किसी दबाव के इस्तीफा दिया है। मैं संतुष्ट हूं और मैंने उनका इस्तीफा स्वीकार कर लिया है। इस्तीफ़ा देने के बाद पत्रकारों से बातचीत में शोभनदेव चटर्जी ने कहा मुख्­यमंत्री पहले भी भवानीपुर से दो बार जीते थे। सभी पार्टी नेताओं ने चर्चा की और जब मैंने सुना कि वह यहां से चुनाव लड़ना चाहती हैं, तो मैंने सोचा कि मुझे अपनी सीट छोड़ देनी चाहिए, कोई दबाव नहीं है। किसी और में सरकार चलाने की हिम्मत नहीं है। मैंने उससे बात की। यह उनकी सीट थी मैं बस इसकी रक्षा कर रहा था।

Leave a Reply

spot_img

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!