spot_img

Jharkhand High Court में फिर पहुंचा सातवीं JPSC विवाद, संशोधित परिणाम को दी चुनौती

झारखंड लोक सेवा आयोग की ओर से संचालित की गई सातवीं झारखंड पब्लिक सर्विस कमिशन (JPSC) परीक्षा को लेकर विवाद खत्म नहीं हो रहा। एक बार फिर यह मामला झारखंड हाईकोर्ट पहुंच गया है।

Ranchi: झारखंड लोक सेवा आयोग की ओर से संचालित की गई सातवीं झारखंड पब्लिक सर्विस कमिशन (JPSC) परीक्षा को लेकर विवाद खत्म नहीं हो रहा। एक बार फिर यह मामला झारखंड हाईकोर्ट पहुंच गया है। कैलाश प्रसाद सहित अन्य की ओर से शनिवार को प्रारंभिक परीक्षा के संशोधित परिणाम के खिलाफ हाईकोर्ट में नई याचिका दाखिल की गई है।

शनिवार को इस मामले में झारखंड हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस डा. रवि रंजन तथा जस्टिस एसएन प्रसाद की अदालत में सुनवाई हुई। प्रार्थियों की ओर से अधिवक्ता चंचल जैन ने यह याचिका दायर की है। वर्तमान में जेपीएससी संशोधित परिणाम के आधार पर मुख्य परीक्षा आयोजित करने की तैयारी में जुटी है। इस बीच फिर यह मामला कोर्ट पहुंचा गया है।

आयोग ने सातवीं से दसवीं मुख्य परीक्षा की अधिसूचना जारी कर दी है। यह परीक्षा 11 से 13 मार्च तक ली जाएगी। परीक्षा राज्य भर में होगी। यह दो पालियों में आयोजित होगी। पहली पाली सुबह दस से एक बजे तक और दूसरी पाली की परीक्षा दोपहर दो बजे से पांच बजे तक ली जाएगी।

कोर्ट में यह चल रही प्रक्रिया

याचिका में कहा गया है कि प्रारंभिक परीक्षा में सामान्य वर्ग के लिए 15 गुना परिणाम जारी करना जरूरी नहीं है। ऐसा करना झारखंड कंबाइंड सिविल सेवा परीक्षा नियमावली 2021 का उल्लंघन है। याचिका में यह भी कहा गया है कि पूर्व के पीटी के परिणाम में दिव्यांग जनों के लिए कट ऑफ निर्धारित किया गया था। संशोधित परिणाम में कोई कट ऑफ जारी नहीं किया गया है।

उल्लेखनीय है कि संशोधित रिजल्ट पब्लिश करने की वजह से 406 चयनित अभ्यर्थी बाहर हो गए हैं। जिनकी ओर से याचिका दाखिल कर संशोधित परिणाम को रद्द करने की मांग की गई है। इससे पहले जेपीएससी ने सुनवाई के दौरान संशोधित रिजल्ट जारी करने की अनुमति कोर्ट से मांगी थी। उनका कहना था कि पीटी परीक्षा में आरक्षण देना गलत है। इसलिए संशोधित परिणाम जारी किया जा रहा है।

आगामी 11 मार्च को पहली पाली में फर्स्ट पेपर एक और दूसरी पाली में द्वितीय पेपर ली जाएगी। 12 मार्च को पहली पाली में तृतीय पेपर और दूसरी पाली में चतुर्थ पेपर की परीक्षा होगी। 13 मार्च को पहली पाली में पंचम पेपर और दूसरी पाली में छठे पेपर की परीक्षा होगी। आयोग ने जानकारी दी है कि प्रवेश पत्र डाक के द्वारा नहीं भेजा जाएगा। अभ्यर्थियों को आयोग के अधिकारिक वेबसाइट पर प्रवेश पत्र डाउनलोड करने की व्यवस्था की गई है। परीक्षा के लिए प्रोविजनल प्रवेश पत्र दिया जा रहा है। मुख्य परीक्षा के ऑनलाइन आवेदन में भाषा और साहित्य विषय चयन के आधार पर प्रवेश पत्र निर्गत होगा। इसके साथ परीक्षा में शामिल होने की अनुमति है।

अभ्यर्थी आयोग के वेबसाइट पर जन्म तारीख और पीटी परीक्षा का रोल नंबर से अपना प्रवेश पर निकाल सकेंगे। प्रवेश पत्र 28 फरवरी से डाउनलोड किया जा सकेगा। प्रवेश पत्र डाउनलोड नहीं होने की स्थिति में आयोग ने हेल्पलाइन नंबर जारी किया है। आठ मार्च तक अभ्यर्थी अपना प्रवेश पत्र हासिल कर सकते हैं। अभ्यर्थियों के नाम, पता और परीक्षा केंद्र की जानकारी में त्रुटि होने पर आयोग के पूछताछ काउंटर में नौ मार्च तक इसमें सुधार किया जाएगा।

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!