Global Statistics

All countries
242,917,357
Confirmed
Updated on Thursday, 21 October 2021, 4:56:13 pm IST 4:56 pm
All countries
218,451,095
Recovered
Updated on Thursday, 21 October 2021, 4:56:13 pm IST 4:56 pm
All countries
4,939,868
Deaths
Updated on Thursday, 21 October 2021, 4:56:13 pm IST 4:56 pm

Global Statistics

All countries
242,917,357
Confirmed
Updated on Thursday, 21 October 2021, 4:56:13 pm IST 4:56 pm
All countries
218,451,095
Recovered
Updated on Thursday, 21 October 2021, 4:56:13 pm IST 4:56 pm
All countries
4,939,868
Deaths
Updated on Thursday, 21 October 2021, 4:56:13 pm IST 4:56 pm
spot_imgspot_img

हिंडाल्को के मुरी प्लांट में लिकर पाइप ब्लास्ट, कई मजदूर घायल

हिंडाल्को के मुरी प्लांट में लिकर पाइप फटने से कई मजदूर घायल हो गए। इन मजदूरों को आनन-फानन में रांची के अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती कराया गया है।

रांची: हिंडाल्को के मुरी प्लांट में लिकर पाइप फटने से कई मजदूर घायल हो गए। इन मजदूरों को आनन-फानन में रांची के अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती कराया गया है।

बताया जा रहा है कि मंगलवार को हिंडाल्को में लिकर पाइप में ब्लास्ट हो गया। प्लांट में कास्टिक पाउडर का निर्माण हो रहा था। वहां से निकला कचरा लिकर पाइप के जरिए बाहर आता है। यह पाइप फट गया। इसकी चपेट में मजदूर आ गए मजदूर कहां के रहने वाले हैं। अभी इसका पता नहीं चल सका। प्रबंधन की ओर से घटनास्थल पर जाने से रोक दिया गया है। उस पूरे एरिया को ब्लॉक किया गया है।

प्रबंधन के एक कर्मी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि लापरवाही बरती गई है। गनीमत रही कि घटना में अभी तक किसी की मौत नहीं हुई है। जो लीकर पाइप फटा है उसका तापमान 250 डिग्री सेल्सियस है। इस पाइप से ही कास्टिक पाउडर का कचरा बाहर आता है। घायलों में सुपरवाइजर राजकुमार प्रधान,श्रीकांत महतो,मेघनाथ,भोक्ता सोनार,गणेश महतो,विजय महतो, अनुप महतो शामिल है। बताया जा रहा है कि 12 इंंच के सेलेरी लीकर पाइप में पहले से लीकेज था। बोरा बांध कर काम चलाया जा रहा था। मजदूरों ने प्रबंधन को पहले भी इसकी सूचना दी थी। लेकिन इस पर ध्यान नहीं दिया गया।

कंपनी के पीआरओ राजीव से इस बारे में जानकारी लेने पर उन्होंने कहा कि 32 केजी प्रेशर का हाई प्रेशर टैंक का पाइप फटा है। इस पाइप के जरिए कास्टिक और बॉक्साइट की प्रोसेसिंग होती है। यह कोई घातक केमिकल नहीं है। उन्होंने कहा कि पाइप फटने के बाद कुछ कर्मियों पर मामूली छींटा पड़ा था। इस हादसे में किसी को कोई शारीरिक नुकसान नहीं हुआ है।

गौरतलब है कि नौ अप्रैल 2019 को इसी प्लांट में रेड मड बह गया था। एक ही जगह पर क्षमता से ज्यादा रेड मड को रखा जा रहा था , जो बहकर आसपास के खेतों में चला गया था। खेत को नुकसान होने पर स्थानीय लोगों ने विरोध प्रदर्शन भी किया था। इसके बाद प्रबंधन की तरफ से किसानों को मुआवजा दिया गया था।

Also Read:

Leave a Reply

spot_img

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!