spot_img

तस्करी कर ले जाई जा रही पांच लड़कियों को रेल पुलिस ने बचाया

झारखंड से लड़कियों की तस्करी अक्सर होती रहती है। लड़कियों को महानगरों में काम दिलाने के नाम पर बहला फुसलाया जाता है और फिर उन्हें मोटी रकम में बेंच दिया जाता है। रामगढ़ में रेल पुलिस ने तस्करी कर ले जाई जा रही पांच लड़कियों को बरामद किया है।

रामगढ़: झारखंड से लड़कियों की तस्करी अक्सर होती रहती है। लड़कियों को महानगरों में काम दिलाने के नाम पर बहला फुसलाया जाता है और फिर उन्हें मोटी रकम में बेंच दिया जाता है। रामगढ़ में रेल पुलिस ने तस्करी कर ले जाई जा रही पांच लड़कियों को बरामद किया है। साथ ही एक तस्कर सोमरा मुंडा को भी गिरफ्तार किया है। निरीक्षक प्रभारी रिसबू, पोस्ट बरकाकाना एम रमेश ने मंगलवार को बताया कि झारखंड स्वर्ण जयंती एक्सप्रेस ट्रेन 02583 से पांच नाबालिग लड़कियों को बरामद किया गया है।

उन्होंने बताया कि 26 जुलाई को उन्हें सूचना प्राप्त हुई कि झारखंड स्वर्ण जयंती एक्सप्रेस के कोच संख्या एस-7 में कुछ बच्चियों को काम कराने के नाम पर बहला-फुसलाकर ले जाया जा रहा है। इस सूचना के बाद उन्होंने अपने पदाधिकारी के साथ मिलकर रेस्क्यू टीम गठित की।

उन्होंने गाड़ी में पूछताछ अभियान चलाया। इस दौरान बरकाकाना में उपनिरीक्षक निरंजन कुमार के साथ महिला उपनिरीक्षक स्मृतिरेखा दत्ता तथा महिला व पुरुष स्टाफ के साथ भी अभियान की शुरुआत की गई। बरकाकाना के पीएफ नंबर 3 पर कोच संख्या एस-7 के बर्थ नंबर 1,4, 9 एवं 12 पर यात्रा कर रही बच्चियों से पूछताछ की गई। उनमें गुमला जिला के कामदारा थाना क्षेत्र अंतर्गत रायबा बड़का टोली निवासी 14 वर्षीय आईलो तोपनो, 16 वर्षीय रीझन तोपनो, 18 वर्षीय निशू तोपनो, 18 वर्षीय मोनिका तोपनो से पूछताछ की।

इसके बाद उन लोगों ने बताया कि उन लोगों को दिल्ली काम करने के लिए ले जाया जा रहा है। वह जिन लोगों के साथ जा रही हैं, वह कोच संख्या एस-6 में बर्थ नंबर 25 एवं 28 पर बैठे हैं। इसके बाद पदाधिकारियों ने उन दोनों बर्थ पर बैठे 19 वर्षीय मंजू होरो और 40 वर्षीय सोमरा मुंडा से पूछताछ की। एम रमेश ने बताया कि मंजू होरो खूंटी जिला अंतर्गत कर्रा थाना क्षेत्र के गारी गिरजा टोली की निवासी है। सोमरा मुंडा रांची जिला अंतर्गत लापुंग थाना क्षेत्र के बोकरंदा गांव का निवासी है।

पूछताछ के दौरान उन लोगों ने बताया कि वह सभी काम के लिए रांची से झारखंड स्वर्ण जयंती एक्सप्रेस से दिल्ली जा रहे हैं। उन सभी लोगों को सोमरा मुंडा के द्वारा ही काम दिलाया जाने वाला था। सोमरा मुंडा ने पुलिस को बताया कि वह चार लड़कियों को दिल्ली में छोड़ देता। जिसके एवज में हर लड़की के बदले उसे ₹10000 मिलता। इसके पूर्व भी उसने कई लड़कियों को इसी तरह दिल्ली ले जाकर रसूखदारों के घर दिया है। एम रमेश ने बताया कि सभी 5 लड़कियों तथा सोमरा मुंडा को आगे की कार्रवाई हेतु गुमला पुलिस के हवाले किया गया है।

Also Reads:

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!