Global Statistics

All countries
260,820,699
Confirmed
Updated on Saturday, 27 November 2021, 4:12:39 am IST 4:12 am
All countries
233,847,566
Recovered
Updated on Saturday, 27 November 2021, 4:12:39 am IST 4:12 am
All countries
5,205,398
Deaths
Updated on Saturday, 27 November 2021, 4:12:39 am IST 4:12 am

Global Statistics

All countries
260,820,699
Confirmed
Updated on Saturday, 27 November 2021, 4:12:39 am IST 4:12 am
All countries
233,847,566
Recovered
Updated on Saturday, 27 November 2021, 4:12:39 am IST 4:12 am
All countries
5,205,398
Deaths
Updated on Saturday, 27 November 2021, 4:12:39 am IST 4:12 am
spot_imgspot_img

खान विभाग के सचिव पद पर बने रहने लायक नहीं, सरयू राय ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

रांची: झारखंड के पूर्व मंत्री और विधायक सरयू राय ने रविवार को मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को पत्र लिखा है। यह पत्र उन्होंने सचिव खान एवं भूतत्व विभाग के अवैध आचरण और अपने पद का दुरुपयोग कर लौह अयस्क का अवैध खनन, अवैध उठाव तथा अवैध व्यवसाय कराने के संबंध में लिखा है।

पत्र में उन्होंने लिखा है कि खान विभाग में चल रही अवैध गतिविधियों, खासकर लौह अयस्क के खनन एवं व्यवसाय से संबंधित अवैध गतिविधियों, के केंद्र में खान विभाग के वर्तमान सचिव हैं। ये खान विभाग के सचिव पद पर बने रहने लायक नहीं हैं। इनके कारनामों के विधि सम्मत विश्लेषण से ही तय हो सकता है कि शासन एवं न्याय प्रणाली में ये किस स्थान पर रहने की अहर्ता रखते हैं। इस बारे में वह अलग से अवगत कराएंगे। उन्होंने अनुरोध किया कि झारखंड उच्च न्यायालय द्वारा मुकदमा डब्ल्यूपी(सी) नम्बर 2013/2020 में 21 मई 2021 को पारित आदेश के विरुद्ध खंडपीठ के समक्ष एलपीए दायर करने का निर्देश देने अथवा उच्च न्यायालय की खंडपीठ के समक्ष निर्णय के लिए लंबित मुकदमा एलपीए संख्या 183/2019 को सुनवाई के लिए सूचीबद्ध कराने के लिए सरकार के सक्षम विधि अधिकारी को निर्देश देने की कृपा करें।

इधर सरयू राय ने झारखंड स्थापना दिवस समारोह 2016 में बहुचर्चित टॉफी, टी-शर्ट, साज-सज्जा एवं गीत संगीत घोटाले की अपने स्तर से भी जांच करानी शुरू कर दी है। इसके लिए उन्होंने मुख्यमंत्री और एसीबी को भी पत्र लिखकर इस पूरे प्रकरण की जांच का अनुरोध किया है।

जानकारी के अनुसार सरयू राय ने अपने विशेष दूत को दिल्ली से पंजाब में वाणिज्य कर अधिकारी के पास भेजा है ,ताकि उनसे मिलकर अधिक जानकारी जुटाई जा सके।

Leave a Reply

spot_img

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!