spot_img
spot_img

Shravani Mela 2022: 13 दिनों में साढ़े 15 लाख से ज्यादा कांवरियों ने किया बाबा बैद्यनाथ को जलार्पण, बाबा मंदिर की आय रही 1.5 करोड़ से ज्यादा

Deoghar: श्रावणी मेला 2022 (Shravani Mela 2022) के दौरान अबतक 15 लाख से ज्यादा कांवरिया बाबा बैद्यनाथ का जलार्पण कर चुके हैं। 13 दिनों का आंकड़ा देवघर जिला प्रशासन द्वारा जारी किया गया है। बुधवार को आर0मित्रा प्रागंण स्थित मीडिया सेंटर में उपायुक्त सह जिला दण्डाधिकारी मंजुनाथ भंजत्री की अध्यक्षता में राजकीय श्रावणी मेला, 2022 से संबंधित साप्ताहिक प्रेस वार्ता का आयोजन किया गया। इस दौरान मौके पर सभी को संबोधित करते हुए उपायुक्त ने सभी मीडिया संस्थानों का सहयोग को लेकर आभार प्रकट किया।

13 दिनों में कुल 15,79,269 श्रद्धालुओं ने बाबा बैद्यनाथ का किया जर्लापण

इसके अलावे प्रेस वार्त्ता के दौरान उपायुक्त द्वारा जानकारी देते हुए कहा गया कि श्रावणी मेला, 2022 में 14 जुलाई से 26 जुलाई तक 13 दिनों में कुल 15,79,269 कांवरियों ने बाबा बैद्यनाथ को जलार्पण किया है, जिनमें आंतरिक अर्घा से कुल 11,70,522 एवं बाह्य अर्घा से कुल 3,71,709 श्रद्धालुओं ने जर्लापण किया। साथ हीं शिघ्र दर्शन्म कूपन के माध्यम से 37,038 श्रद्धालु शामिल हैं। 

12 दिनों में कुल 1,58,14,070.00 रूपये की आय प्राप्त

आगे उन्होंने बाबा मंदिर के आय के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि 14 जुलाई से 25 जुलाई तक पिछले 12 दिनों में बाबा मंदिर की कुल आय 1,58,14,070.00 रूपये रही, जिसमें मंदिर के अन्य स्रोतों से आय भी शामिल है। साथ ही मंदिर दान काउंटर से 5 ग्राम सोने का सिक्का 02, 2 ग्राम सोने का सिक्का- 02, चाँदी का सिक्का 10 ग्राम का 283, चाँदी का सिक्का 05 ग्राम का 275 अदद बिक्री की गई एवं शीघ्रदर्शनम कूपन से प्राप्त आय 92,84,100.00 रूपये है। साथ हीं उन्होंने कहा कि इस वर्ष मेला में आए कांवरियों द्वारा बहुतायात संख्या में निःशुल्क टेन्ट सिटी का प्रयोग किया गया है एवं अभी तक इनकी संख्या 53,981 है। 

प्रेसवार्त्ता के दौरान उपायुक्त मंजुनाथ भंजत्री द्वारा मेला क्षेत्र में कांवरियों को स्वास्थ्य सुविधाओं कें संदर्भ में बात करते हुए कहा कि स्वास्थ्य विभाग के द्वारा मेला क्षेत्र में कुल 31 अस्थाई स्वास्थ्य केन्द्र लगाये गये हैं एवं इन स्वास्थ्य केन्द्रों में 14 जुलाई से 25 जुलाई तक 12 दिनों में कुल 49,131 श्रद्धालुओं का ईलाज किया गया है, जिनमें से 32,657 पुरूष, 13,969 महिलाएँ एवं 2,505 बच्चे शामिल हैं। 

प्रेसवार्ता करते देवघर डीसी।

साथ हीं परिवहन विभाग द्वारा 12 दिनों में निबंधित व्यवसायिक वाहनों से राज्य प्रवेश शुल्क के रूप में 73,66,375.00 रुपये एवं वाणिज्य कर वसूली एक जुलाई से 26 जुलाई तक  5,14,88,000.00 रूपये की प्राप्ति हुई है। इसके अलावे सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग द्वारा मेला क्षेत्र में 29 सूचना केन्द्र बनायें गऐ है, जहां 12,960 खोये-पाये कांवरियों को निबंधित किया गया है, जिनमें से 8,296 कांवरियों को उनके परिजनों से मिलाया गया है।

82 कांवरियों को आर्थिक मदद पहुचाई गयी

साथ हीं सूचना केन्द्रों में कुल 174 उद्घोषकों की प्रतिनियुक्ति के अलावा 4 सांस्कृतिक कार्यक्रम का मंच बनाया गया है, वहीं सम्पूर्ण मेला क्षेत्र में शिवधुन का संचालन एवं चल कांवरियां शिव के धाम थीम पर शिवलोक परिसर में भव्य प्रर्दशन का आयोजन किया गया है। वहीं राजकीय श्रावणी मेला, 2022 से जुड़े 161 प्रेस विज्ञप्ति जारी की गयी है। साथ हीं कुल 13 दिनों में आर मित्रा उच्च विद्यालय परिसर में अवस्थित कांवरियां साहायता शिविर के माध्यम से 82 असहाय कांवरियों को आर्थिक मदद सहायता पहुचाई। 

इसके अलावे विधि व्यवस्था व सुरक्षा व्यवस्था को लेकर उपायुक्त द्वारा जानकारी दी गयी कि शिवगंगा के समीप नेहरू पार्क में आईएमसीआर की स्थापना की गयी है। जहां से सीसीटीवी कैमरा के माध्यम से बाबा मंदिर परिसर, शिवगंगा, रूट लाईनिंग तथा कांवरियां पथ दुम्मा से खिजुरिया एवं सम्पूर्ण क्षेत्र की निगरानी रखी जा रही है। साथ हीं पेयजल एवं स्वच्छता प्रमंडल द्वारा काँवरिया पथ दुम्मा से खिजुरिया के बीच प्रदत्त सुविधा हेतु स्नानागार, शौचालय, इन्द्र वर्षा एवं प्याऊ की व्यवस्था की गई है। साथ ही चमारीडीह से कुमैठा स्टेडियम रूट लाईन में स्टेण्ड पोस्ट द्वारा जलापूर्ति की व्यवस्था किया गया है। कोठिया बस स्टेण्ड में अस्थायी शौचालय, युरिनल एवं स्नानागार की व्यवस्था कोठिया बस स्टेण्ड से खिजुरिया तक पथ में बिछे हुए रेत पर जल छिड़काव का कार्य, वहीं विभिन्न पुलिस आवासन/आउट पोस्ट में पेयजलापूर्ति एवं स्वच्छता का कार्य, इसके अलावे दुम्मा से खिजुरिया पुरे काँवरिया पथ का श्रावणी मेला के दौरान साफ-सफाई की व्यवस्था की गई है। सभी स्नानागार, सामुदायिक शौचालय साफ-सफाई की व्यवस्था की गई है।

प्रेसवार्ता में शामिल मीडिया कर्मी व अन्य।

दुम्मा से खिजुरिया तक विभिन्न स्थानों में 73 अदद् ड्रिल्ड नलकूल चालु एवं मेला के दौरान मरम्मति एवं सम्पोषण कार्य की व्यवस्था की गई है। साथ हीं मेला क्षेत्र में फूड सेफ्टी टीम द्वारा लगातार छापेमारी कर कार्रवाई की जा रही है और मेला क्षेत्र में खोवा, पेड़ा, पनीर एवं अन्य खाद्य पदार्थाें की गुणवत्ता जांच कर रही है। इसके अलावे मेला क्षेत्र में प्रोजेक्ट पंछी के तहत डिस्ट्रीक टास्क फोर्स का गठन किया गया है, जिसके द्वारा अबतक कुल 10 बच्चों का रेस्क्यू किया गया है, जिसमें 01 नवजात शीशु भी है, जिसे चाईल्ड लाईन की मदद से सदर अस्पताल में भर्ती किया गया है। वहीं मेला क्षेत्र में विभिन्न कॉलेजों के भॉलेन्टियर द्वारा श्रद्धालुओं की सुविधा का ख्याल रखा जा रहा है।  

प्रेसवर्त्ता के दौरान पुलिस अधीक्षक सुभाष चन्द्र जाट ने सभी को संबोधित करते हुए कहा कि 21 अस्थाई ओपी एवं 11 यातायात ओपी सुरक्षा व्यवस्था व यातायात व्यवस्था को लेकर बनाया गया है। साथ हीं मेला क्षेत्र में बेहतर कार्य हेतु 560 पुलिस पदाधिकारियों व पुलिस जवानों को पुरस्कृत किया जायेगा। वहीं 02 पुलिस पदाधिकारी एवं 20 पुलिस के जवानों को कार्य में कोताही व अनुशासनहीनता बरतने के आरोप में निलंबित किया गया है। आगे पुलिस अधीक्षक ने नगर निगम द्वारा की जाने वाले कार्यों की सराहना की। वहीं मंदिर परिसर में 10 पॉकेटमारों /अपराधियों  की गिरफतारी हुई है और त्रिकुटी पहाड़ से 01 पॉकेटमार गेंग का उद्दभेदन किया गया है। 

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!