Global Statistics

All countries
177,203,103
Confirmed
Updated on Wednesday, 16 June 2021, 12:53:11 am IST 12:53 am
All countries
159,889,241
Recovered
Updated on Wednesday, 16 June 2021, 12:53:11 am IST 12:53 am
All countries
3,832,376
Deaths
Updated on Wednesday, 16 June 2021, 12:53:11 am IST 12:53 am

Global Statistics

All countries
177,203,103
Confirmed
Updated on Wednesday, 16 June 2021, 12:53:11 am IST 12:53 am
All countries
159,889,241
Recovered
Updated on Wednesday, 16 June 2021, 12:53:11 am IST 12:53 am
All countries
3,832,376
Deaths
Updated on Wednesday, 16 June 2021, 12:53:11 am IST 12:53 am
spot_imgspot_img

ब्लैक फंगस से बचाव और प्रबंधन को लेकर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने दी अहम जानकारी

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने चार स्लाइड के साथ एक ट्वीट करते हुए कहा है कि आमतौर पर म्यूकोर्मिकोसिस जिसे ब्लैक फंगस के नाम से जाना जाता है, हाल ही में कई कोविड-19 के मरीजों में देखा गया है। जागरूकता और शीघ्र निदान फंगस इंफेक्शन को फैलने से रोकने में मदद कर सकता है।

नई दिल्ली: कोरोना वायरस को हरा चुके लोगों को ब्लैक फंगस (Black Fungus) या म्यूकर माइकोसिस (Mucormycosis) तेजी से अपना शिकार बना रहा है। बीते कुछ दिनों में देश के कई हिस्सों में ब्लैक फंगस के कई मामले प्रकाश में आए है। इससे पीड़ित मरीज के आंखों पर इसका ज्यादा विपरीत प्रभाव सामने आ रहा है और उसके देखने की क्षमता खत्म हो जाती है। इस सबके बीच, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन (Dr. Harsh Vardhan) ने शुक्रवार को ट्विटर पर लोगों को इसके संक्रमण से बचने और प्रबंधन को लेकर सलाह दी है। 

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने चार स्लाइड के साथ एक ट्वीट करते हुए कहा है कि आमतौर पर म्यूकोर्मिकोसिस जिसे ब्लैक फंगस के नाम से जाना जाता है, हाल ही में कई कोविड-19 के मरीजों में देखा गया है। जागरूकता और शीघ्र निदान फंगस इंफेक्शन को फैलने से रोकने में मदद कर सकता है। पहली स्लाइड में म्यूकरमायकोसिस की परिभाषा को बताते हुए कहा गया है कि यह एक फंगल इन्फेक्शन है और मुख्य रूप से यह मेडिकल हेल्थ समस्याओं वाले लोगों को प्रभावित करता है। जिनमें पर्यावरण में रहने वाले संक्रमण से लड़ने की उनकी क्षमता को कम कर देता है।

वहीं, दूसरी स्लाइड में बताया गया है कि कोई मरीज कैसे इससे संक्रमित होता है इसके तहत, कोमोरबिडिटीज, वैरिकोनाजोल थेरेपी, अनियंत्रित डायबिटीज मेलिटस, स्टेरॉयड इम्यूनिटी बढ़ाने या लंबे समय तक आईसीयू में रहने वाले लोगों को फंगल संक्रमण होने का खतरा होता है। 
साथ ही अगली दो स्लाइड्स में म्यूकरमायकोसिस के संभावित लक्षणों, क्या करें और क्या नहीं करें की सूची दी गयी है। 

जानकारी हो कि देशभर में तेजी से बढ़ रहे कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या के साथ ही इससे ठीक हो रहे कई मरीजों में ब्लैक फंगस की शिकायतें मिल रही है। कर्नाटक, ओडिशा, दिल्ली, राजस्थान, गुजरात और उत्तर प्रदेश में ब्लैक फंगस के कई मामले प्रकाश में आए है। वहीं, मध्य प्रदेश में ब्लैक फंगस से पीड़ित मरीजों की संख्या में तेजी से बढ़ोतरी दर्ज हो रही है। 

इस बीमारी से पीड़ित मरीज के नाक के ड्राई होने पर उसमें से खून बहना और सिरदर्द आम लक्षण हैं। वहीं, नर्म कोशिकाओं और हड्डी में घुसने पर इस इंफेक्शन के कारण स्किन पर काले धब्बे बनने लगते हैं। साथ ही आंखों में दर्द और सूजन, पलकों का फटना व धुंधला दिखना भी ब्लैक फंगस के संकेत हो सकते हैं। गंभीर होने पर मरीज की जान बचाने के लिए उसकी आंख को हटाना जरूरी हो जाता है। ऐसी स्थिति में पहुंचने पर मरीज की देखने की क्षमता को नहीं बचाया जा सकता।

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles