spot_img
spot_img

अंतरिक्ष में अनियंत्रित हुआ चीनी रॉकेट बना दुनिया के लिए चिंता का सबब

अनियंत्रित रॉकेट तेज गति से धरती की तरफ तेजी से बढ़ने के कारण दुनियाभर के लोगों के लिए चिंता का कारण बन गया है।

Beijing: चीन का कोर बूस्टर रॉकेट लॉन्ग मार्च 5बी अंतरिक्ष में अनियंत्रित होने के बाद दुनिया के लिए चिंता का कारण बन गया है। अनियंत्रित रॉकेट तेज गति से धरती की तरफ तेजी से बढ़ने के कारण दुनियाभर के लोगों के लिए चिंता का कारण बन गया है। अंतरिक्ष विशेषज्ञ अभी तक इस बात की गणना नहीं कर सके हैं कि यह रॉकेट कब और कहां गिरेगा। कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि यह अगले कुछ घंटों में कहीं भी क्रैश कर सकता है।

अंतरिक्ष वैज्ञानिकों ने बताया कि चीनी रॉकेट के टुकड़े अमेरिका, भारत, चीन, दक्षिण पूर्व एशिया, ऑस्ट्रेलिया और अफ्रीका के कुछ हिस्सों में गिर सकते हैं। वहीं इस खतरे को देखते हुए स्पेन ने अपना एयरपोर्ट बंद कर दिया है। स्पेन का कहना है कि स्पेनिश एयर ट्रैफिक कंट्रोलर ने 23 टन के चीनी रॉकेट के मलबे को अपने देश से गुजरते हुए नोटिस किया है।

चीन का रॉकेट लॉन्ग मार्च 5बी का कोर बूस्टर है। इसे 31 अक्टूबर को लॉन्च किया गया था। इस रॉकेट की मदद से तियांगोंगे स्पेस स्टेशन के लिए एक एक्सपेरिमेंटल लेबोरेटरी मॉड्यूल को स्पेस में भेजा गया था। रिपोर्टर्स के मुताबिक इसका वजन करीब 23 टन है, जिसकी ऊंचाई 59 फुट है। अगर यह रॉकेट किसी शहर या क्षेत्र में गिरता है तो बड़े स्तर पर जान-माल का नुकसान हो सकता है।

अमेरिकी स्पेस रिसर्च एजेंसी (नासा) का कहना है कि चीन के स्पेस अधिकारियों ने इस खतरे को पैदा किया है। नासा पहले भी कई बार चीन की ऐसी हरकतों को गैर-जिम्मेदार बता चुका है। 2 साल में यह चौथी बार है, जब चीनी रॉकेट का मलबा धरती पर गिर सकता है। इससे पहले 30-31 जुलाई की रात रॉकेट के कुछ टुकड़े धरती पर गिरे थे। 25 टन का ये रॉकेट 24 जुलाई को चीन के अधूरे तियांगोंग अंतरिक्ष स्टेशन को पूरा करने के लिए एक मॉड्यूल लेकर निकला था। इसको लेकर भी वैज्ञानिकों ने चिंता जाहिर की थी। जुलाई से पहले मई 2021 में हिंद महासागर और मई 2020 में आइवरी कोस्ट पर रॉकेट का मलबा गिरा था। हालांकि दोनों मामलों में जान-माल का नुकसान नहीं हुआ था। 

द एयरोस्पेस कॉर्पोरेशन के मुताबिक जो मलबा पृथ्वी के वातावरण में नहीं जलता वो आबादी वाले इलाकों में गिर सकता है, लेकिन इस मलबे से किसी को नुकसान पहुंचाने की संभावना बहुत ही कम होती है। अमेरिका के ऑर्बिटल डॉबरीज मिटिगेशन स्टैंडर्ड प्रैक्टिसेज की 2019 में जारी हुई एक रिपोर्ट के मुताबिक किसी रॉकेट के अनियंत्रित होकर धरती में फिर से प्रवेश करने पर किसी के हताहत होने की संभावना 10 हजार में एक है।

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!