spot_img

WHO ने कोविड महामारी से निपटने में आपसी सहयोग का आह्वान किया

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO)के महानिदेशक ट्रेडोस अधानोम घ्रेबरेसियस ने कहा है कि कोरोना महामारी से निपटने के लिए सभी देशों को मिलकर सहयोग करने की जरूरत है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO)के महानिदेशक ट्रेडोस अधानोम घ्रेबरेसियस ने कहा है कि कोरोना महामारी से निपटने के लिए सभी देशों को मिलकर सहयोग करने की जरूरत है।

श्री घ्रेबरेसियस ने शुक्रवार को एक पैनल चर्चा “गेट वेल सून: फाइंडिंग अ वे आउट ऑफ द पेंडेमिक”में शिरकत करते हुए कुछ देशों की इस प्रवृत्ति को खतरनाक बताया कि अधिक वैक्सीन कवरेज के साथ महामारी खत्म हो गई है।

ट्रेडोस ने कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रोन के कम गंभीर होने के दावों को खारिज करते हुए कहा कि हमें इसे भी गंभीरता से लेना चाहिए। विश्व में हर हफ्ते 70,000 लोग कोरोना महामारी से मर रहे है और अफ्रीका में 83 प्रतिशत आबादी को अभी तक कोविड-19 टीके की एक भी डोज नहीं मिली है। इसी तरह की असमानता के चलते विश्व के गरीब देशों में एक प्रकार का स्वास्थ्य अंतर देखा जा सकता है।

उन्होंने कहा “वास्तव में, स्थितियां कोरोना विषाणु के खतरनाक रूपों के उभरने के लिए आदर्श हैं और हमारे पास पहले की तुलना में संसाधन तथा जानकारी है। इसके आधार पर हम इस साल वैश्विक स्वास्थ्य आपातकाल के रूप में कोविड -19 महामारी को समाप्त कर सकते हैं। “

ट्रेडोस ने सभी देशों से वैश्विक स्तर पर टीके, परीक्षण, उपचार और व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण उपलब्ध कराने की दिशा में कोविड -19 टूल्स (एसीटी) तक पहुंच के लिए 16 अरब डालर के तत्काल वित्तपोषण अंतर को भरने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि वैश्विक स्वास्थ्य सुरक्षा को मजबूत करने के लिए राष्ट्रीय और वैश्विक स्तर पर पर्याप्त संसाधनों की आवश्यकता है। इस महामारी को समाप्त करने पर हमारा ध्यान होना चाहिए और इसके साथ ही हमें इससे सबक लेना चाहिए।

उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि वैश्विक स्वास्थ्य सुरक्षा ढांचे को मजबूत करने का कोई भी प्रयास नए तंत्र बनाने को विकसित करने की तुलना में डब्ल्यूएचओ की भूमिका को महत्व देकर ही सफल हो सकता है। नए तंत्र की स्थापना से स्थिति और खराब होगी और संभावित रूप से दुनिया के समक्ष खतरे हो सकते हैं। “हमें आम खतरों के प्रति सहयोग की आवश्यकता है”। भ्रम और असंगति ने महामारी को हवा दी है और इन्हें रोकने, इनका पता लगाने तथा त्वरित गति से निपटने के लिए मजबूत प्रणालियों और उपकरणों की आवश्यकता है।

महानिदेशक ने अपने भाषण का समापन कोविड महामारी के अंत से जुड़े विषय पर करते हुए कहा कि अगर हम चाहे तो इसे समाप्त कर सकते हैं क्योंकि यह मौके का नहीं, बल्कि चयन का मामला है।

इस तीन दिवसीय कार्यक्रम की शुरूआत शुक्रवार से हुई थी और इससे पहले एक सुरक्षा रिपोर्ट के हवाले से बताया गया कि वैश्विक स्तर पर बढ़ रहे तनावपूर्ण संकटों तथा संघर्षों के कारण दुनिया भर के कई समाजों में “असहायता” की भावना बढ़ रही है। (IANS)

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!