Global Statistics

All countries
264,403,004
Confirmed
Updated on Friday, 3 December 2021, 7:07:47 am IST 7:07 am
All countries
236,678,985
Recovered
Updated on Friday, 3 December 2021, 7:07:47 am IST 7:07 am
All countries
5,249,041
Deaths
Updated on Friday, 3 December 2021, 7:07:47 am IST 7:07 am

Global Statistics

All countries
264,403,004
Confirmed
Updated on Friday, 3 December 2021, 7:07:47 am IST 7:07 am
All countries
236,678,985
Recovered
Updated on Friday, 3 December 2021, 7:07:47 am IST 7:07 am
All countries
5,249,041
Deaths
Updated on Friday, 3 December 2021, 7:07:47 am IST 7:07 am
spot_imgspot_img

रिम्स रांची में पहली बार काॅर्नरी आर्टरी बाइपास की सफल सर्जरी

Reported by: एस के प्रतीक 

रांची।

रिम्स में पहली बार काॅर्नरी आर्टरी बाइपास (सीएबीजी) की सफल सर्जरी की गयी. रिम्स के कार्डियो थोरेसिक एंड वास्कुलर सर्जरी (सीटीवीएस) विभाग के कार्डियेक सर्जन की टीम ने जामताड़ा निवासी 60 वर्षीय घनश्याम भंडारी का ऑपरेशन किया. राज्य के किसी सरकारी अस्पताल में पहली बाइपास सर्जरी की गयी है. 

डाॅ दिनेश कुमार सिंह, निदेशक रिम्स ने बताया कि राज्य के किसी सरकारी अस्पताल में यह पहली बाइपास सर्जरी है. हम सुपरस्पेशियलिटी विंग में बेहतर काम कर देश के पटल पर अपनी पहचान बना सकते हैं, इसलिए इसी पर जोर दिया जा रहा है.  

सीटीवीएस के विभागाध्यक्ष डॉ अंशुल कुमार व डाॅ राकेश चौधरी की टीम द्वारा हार्ट बीटिंग के तहत यह ऑपरेशन किया गया. मरीज के पैर से नस निकाल कर हार्ट की आर्टरी में लगायी गयी. ऑपरेशन के बाद मरीज  को सीटीवीएस आइसीयू में भर्ती किया गया है. मरीज की स्थिति ठीक है, लेकिन रात में डॉक्टरों ने मरीज पर ध्यान रखने के लिए ड्यूटी रोस्टर तैयार की है.  डॉ अंशुल व डॉ राकेश ने बताया कि मरीज को अक्सर हार्ट में दर्द की समस्या थी. मरीज कार्डियोलॉजी विभाग में डॉ प्रशांत कुमार की ओपीडी में गया, वहां से उसे सीटीवीएस भेजा गया. जांच में मरीज का लेफ्ट एंटीरियर डिसेंडिंग आर्टरी (एलइडी) काफी दबा पाया गया. मरीज को स्टेंट लगाना आसान नहीं था, बाइपास ही एकमात्र उपाय था. 

मरीज आयुष्मान भारत योजना का लाभुक था, इसलिए उसका ऑपरेशन नि:शुल्क किया गया. निजी अस्पताल में बाइपास सर्जरी के लिए मरीजों को 3.50 लाख रुपये खर्च करने पड़ते हैं. ऑपरेशन में एनेस्थिसिया विभाग से डॉ शिव, डॉ मुकेश, डॉ नितिन, डॉ फैजुल व डॉ हर्ष आदि शामिल थे. 

 क्या है हार्ट बीटिंग बाइपास सर्जरी 

कार्डियोलॉजिस्ट डॉ अंशुल कुमार ने बताया कि हार्ट बीटिंग ऑपरेशन काफी कम किया जाता है. एम्स जैसे बड़े संस्थान में भी अधिकांश ऑपरेशन हार्ट रोक कर किये जाते हैं. रिम्स में पहली बार बाइपास सर्जरी हार्ट बीटिंग के तहत की गयी है. हार्ट बीटिंग में ऑक्टोपस पर मरीज के हार्ट को रख दिया जाता है, जो धड़कता रहता है. इस बीच डाॅक्टर ऑपरेशन करते रहते हैं. ऑपरेशन खत्म होते ही ऑक्टोपस का सपोर्ट हटा कर मरीज के शरीर से हार्ट को जोड़ दिया जाता है. इससे हार्ट अपने आप काम करने लगता है.   

वही जेडीए के प्रेसिडेंट डॉक्टर अजीत ने भी डॉक्टरों की टीम को सम्मानित कर इस ऐतिहासिक सर्जरी करने पर पूरे देश के अस्पतालों को चुनौती देने की मुकाम हासिल करने की बात कही। 


नमन

Leave a Reply

spot_img

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!