Global Statistics

All countries
529,070,560
Confirmed
Updated on Wednesday, 25 May 2022, 11:46:21 am IST 11:46 am
All countries
485,458,532
Recovered
Updated on Wednesday, 25 May 2022, 11:46:21 am IST 11:46 am
All countries
6,303,878
Deaths
Updated on Wednesday, 25 May 2022, 11:46:21 am IST 11:46 am

Global Statistics

All countries
529,070,560
Confirmed
Updated on Wednesday, 25 May 2022, 11:46:21 am IST 11:46 am
All countries
485,458,532
Recovered
Updated on Wednesday, 25 May 2022, 11:46:21 am IST 11:46 am
All countries
6,303,878
Deaths
Updated on Wednesday, 25 May 2022, 11:46:21 am IST 11:46 am
spot_imgspot_img

बिहार के सहकारिता मंत्री पहुंचे बाबाधाम,कहा-किसानों की बेहतरी के लिए काम कर रही बिहार सरकार


झारखण्ड/देवघर।

बिहार सरकार के सहकारिता मंत्री राणा रणधीर सिंह शुक्रवार को बैद्यनाथधाम पहुंचे और सर्वप्रथम उन्होंने बाबा बैद्यनाथ की पूजा-अर्चना की.

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना से ली प्रेरणा: 

पूजा-अर्चना के बाद देवघर परिसदन में पत्रकारों को संबोधित करते हुए यह बताया कि बिहार में नितिश सरकार द्वारा सहकारिता के क्षेत्र में कुछ नये कार्य शुरू किए गये हैं. पहली बार बिहार में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना से प्रेरणा लेकर बिहार के किसानों के लिए एक नयी योजना बिहार राज्य फसल सहायता योजना की शुरूआत की गयी है. जिसमें बिना प्रीमियम के किसानों को सहायता प्रदान किया जाता है. यह योजना पांच हेक्टेयर भूमि तक के किसानों के लिए है.

किसानों को मिलेगी सहायता: 

उन्होंने बताया कि बिहार के किसानों का फसल उत्पादन बीस प्रतिशत से ज्यादा की होती है तो प्रति हेक्टेयर 10000 रूपये के हिसाब से 20000 हजार रूपये तक सहायता किसान भाईयों को दिया जाता है. अगर यह क्षति 20 प्रतिशत से कम है तो 7500 रूपये प्रति हेक्टेयर के हिसाब से 15000 रूपये किसानों को सहायता प्रदान किया जाता है. सबसे बड़ी बात यह है कि अगर एक प्रतिशत की क्षति भी किसानों के फसल में हुई तो 7500रूपये प्रति हेक्टेयर किसानों को सहायता प्रदान किया जाता है.

बिहार के पैक्सों को किया जा रहा सुदृढ़: 

बिहार के पैक्सों को सुदृढ़ करने के लिए किसान कल्याण केन्द्र के रूप में बिहार सरकार पैक्सों को डेवलप करना चाहती है. पैक्सों से अधिप्राप्ति का काम लिया जाता है. जिसे एजेंसी के रूप में इस्तेमाल किया जाता है. इसलिए पहली बार प्रबंधकीय अनुदान की व्यवस्था की गयी है. जिसमें प्रति क्विंटल पैक्सों को 10 रूपये प्रबंधकीय अनुदान देने का निर्णय लिया गया है जो कि शुरू हो चुका है. इसमें जिला सहकारी बैंक और राज्य सहकारी जो बैंक जो है वह पैक्सों को मदद करता है इसलिए जिला सहकारी बैंकों को 5 रूपये प्रति क्विंटल के हिसाब से प्रबंधकीय अनुदान और राज्य सहकारी बैंकों को 50 पैसे प्रति क्विंटल के हिसाब से प्रबंधकीय अनुदान की शुरूआत की गयी है.

बिहार सरकार ने शुरू करने जा रही एक महात्वाकांक्षी योजना: 

मंत्री ने बताया कि बिहार सरकार द्वारा अभी एक और महात्वाकांक्षी योजना की शुरूआत की जाने वाली है. जिसके तहत पैक्सों को कृषि बैंक के रूप में डेवलप किया जाएगा. जिसके तहत खेती योग्य मशीनें पैक्सों के पास हो और वहां से साधन वीहिन किसान भाईयों को सस्ते दर पर खेती योग्य उपकरण उपलब्ध हो पाए.इसकी व्यवस्था मुख्यमंत्री कृषि संयत्र योजना के माध्यम से शुरूआत की जाएगी. मुख्यमंत्री ने इसकी घोषणा की है. जिसपर काम किया जा रहा है. बिहार के 8463 पैक्सों को 20 लाख रूपये प्रति पैक्स देने का काम किया जाएगा. जिसमें करीब 1692 करोड़ रूपये सरकार खर्च करेगी.

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!