spot_img

“जलाने वाले जलाते ही हैं चिराग, हवा तेज हो या मध्यम नहीं है वास्ता”

“बारहखड़ी” प्रसिद्ध साहित्यिक संस्था “आयाम साहित्य का स्त्री स्वर” की बारह प्रतिभाशाली लेखिकाओं द्वारा लिखी गई कहानियों का नायाब संग्रह है । आयाम की अध्यक्ष पद्मश्री उषाकिरण खान के संपादन में रश्मि प्रकाशन, लखनऊ द्वारा प्रकाशित इस कहानी संग्रह का विमोचन आज आदर्श काॅलनी स्थित उषाकिरण खान के आवास पर संपन्न हुआ। 

सभी बारह कहानियों पर समीक्षात्मक टिप्पणी  एवं विश्लेषण वरिष्ठ साहित्यकारों द्वारा की गई। इस संग्रह में रानी सुमिता, रीता सिंह, सौम्य सुमन, वीणा अमृत, मीरा मिश्रा, नीलिमा सिंह, सुनीता गुप्ता, निवेदिता, भावना शेखर, उषा ओझा, शहनाज फातमी एवं उषाकिरण खान द्वारा लिखी गई कुल बारह कहानियाँ हैं।

इन कहानियों का विश्लेषण वरिष्ठ साहित्यकार शिवदयाल, शिवनारायण, हृषिकेष सुलभ, सरोज चौबे, रमेश ऋतम्भर, संतोष दीक्षित द्वारा किया गया।  कहानियों का विषय विविध है संग्रह में। लेखिकाओं के मन के छाप उभर कर सामने आयें हैं।

वरिष्ठ साहित्यकार हृषिकेश सुलभ ने कहा कि कलम की ताकत के जरिए लेखिकाएं समाज में उपस्थिति दर्ज कर रही यह अत्यंत हर्ष का विषय है । वरिष्ठ कथाकार शिवदयाल ने कहानी के मर्म और संवेदनशीलता की सराहना की। वहीं वरिष्ठ कवि एवं लेखक शिवनारायण ने लेखिकाओं की अभिव्यक्ति क्षमता को अभूतपूर्व बताया। वरिष्ठ कथाकार संतोष चौबे ने कहानियों के तकनीकी पक्ष की गहन विवेचना की। वरिष्ठ लेखिका सरोज चौबे के अनुसार लेखिकाओं की मेहनत और लगनशीलता कहानियों का मजबूत पक्ष है । वरिष्ठ कवि एवं लेखक रमेश श्रृतंभर ने बिहार की लेखिकाओं की कहानियों को राष्ट्रीय स्तर पर संज्ञान में आना अत्यंत आवश्यक बताया। साहित्यिकारों,सुधी पाठकों व शहर के गणमान्य मेहमानों ने कार्यक्रम में शिरकत की।

कार्यक्रम में कवि मुकेश प्रत्यूष, उपन्यासकार व्यास , शैलेन्द्र कुमार सिंह, कुमार वरूण, प्रोफेसर उमा सिन्हा की उपस्थिति उल्लेखनीय रही । कार्यक्रम का संचालन कवयित्री ज्योति स्पर्श के गुणी हाथों में था वहीं धन्यवाद ज्ञापन प्रसिद्ध कवयित्री इति माधवी के सुमधुर शब्दों द्वारा दिया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता वरिष्ठ कथाकार हृषिकेश सुलभ ने की .

आयाम की ओर से उषाकिरण खान, नीलिमा सिंह, सुनीता गुप्ता, निवेदिता, भावना शेखर, उषा ओझा, शहनाज फातमी, उषा सिन्हा, विभा रानी श्रीवास्तव , केकी कृष्ण, उत्तरा सिंह, शाइस्ता अंजुम, अर्चना त्रिपाठी, रत्ना पुरकायस्थ, रानी सुमिता, रीता सिंह, सौम्य सुमन, वीणा अमृत, मीरा मिश्रा की उपस्थिति रही ।

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!