spot_img
spot_img

हम भेड़-बकरियां नहीं जो किसी को भी किसी के बदले बेच दोगे: love marriage कर बोली युवती

वीडियो जारी कर लड़की ने कहा है कि हम लड़कियां कोई भेड़-बकरियां नहीं हैं जो जब चाहे किसी को भी किसी के बदले बेच दोगे। उसने बताया कि घरवाले, गांव के कुछ लोग, राजनेता और सरकारी कर्मचारी उसके भाइयों के बदले में आटा-साटा कर उसकी शादी करवाना चाहते थे।

आटा-साटा की नई कहानीः बेटों का घर बसाने के लिए बेटी की शादी कराना चाहते थे परिवारजन

Ajmer: राजस्थान के अजमेर संभाग के नागौर जिला स्थित हेमपुरा गांव में 13 दिन पहले आटा-साटा का मामला शांत ही नहीं हुआ कि जिले से ऐसा ही एक और मामला सामने आया है। इस प्रथा के सच को लेकर पहली बार एक लड़की खुलकर सामने आई।

वीडियो जारी कर लड़की ने कहा है कि हम लड़कियां कोई भेड़-बकरियां नहीं हैं जो जब चाहे किसी को भी किसी के बदले बेच दोगे। उसने बताया कि घरवाले, गांव के कुछ लोग, राजनेता और सरकारी कर्मचारी उसके भाइयों के बदले में आटा-साटा कर उसकी शादी करवाना चाहते थे। यह भी बताया कि उसे व उसके पति को मारने के लिए सुपारी भी दी गई है। इसके बाद सोमवार को दोनों एसपी के सामने पेश हुए और सुरक्षा की मांग की।

मंगलवार को चितावा थाने ने लड़की को सुरक्षा प्रदान करते हुए उसकी इच्छानुसार पति के साथ उसके निवास पर पहुंचा दिया। चितावा थाना पुलिस आगे निगरानी बनाए हुए हैं।

दरअसल, जिले के चितावा थाने के शिव गांव की सरिता कुमारी ने एक वीडियो जारी किया। उसने इस वीडियो में बताया कि परिवार वाले उसके भाइयों के बदले में आटा-साटा कर उसकी शादी करना चाहते थे, लेकिन ये उसे पसंद नहीं था। इसके चलते उसने आर्य समाज के मंदिर में जाकर अपने प्रेमी रतन जाखड़ से लव मैरिज कर ली। युवती ने वीडियो में बताया कि अब राजनीतिक रसूख से उसके घरवाले और कुछ पुलिसकर्मी उसे और उसके पति को परेशान कर रहे हैं। इतना ही नहीं उसके पति को अपहरण और दुष्कर्म के झूठे मामलों में फंसाने की धमकियां दे रहे हैं।

सरिता सोमवार सुबह अपने पति रतन जाखड़ निवासी चावण्डिया के साथ एसपी कार्यालय पहुंची और एसपी अभिजीत सिंह के समक्ष अपने परिजनों से पति सहित खुद की सुरक्षा की गुहार लगाई। सरिता ने बताया कि उसके पिता शिवपाल अणदा, चाचा केसाराम अणदा और उसके ताऊ सहित अन्य परिजन मिलकर उसका आटा-साटा में ब्याह करना चाहते थे, लेकिन वो चावण्डिया निवासी रतन जाखड़ से प्यार करती थी, इसलिए वो 5 जुलाई को चुपचाप अपने घर से निकल गई और अगले दिन 6 जुलाई को रतन जाखड़ से विवाह कर लिया है, लेकिन इस शादी के उसके परिजन खिलाफ हैं। उन्होंने पुलिस थाना चितावा में उसके अपहरण की झूठी रिपोर्ट दर्ज करवा दी है। सरिता ने एसपी से अपने पति रतनाराम सहित खुद के सुरक्षा की गुहार भी लगाई है।

आटा-साटा कुप्रथा से बचाए

पहले वीडियो में युवती ने बताया कि स्थानीय राजनेता भी आटा-साटा कुप्रथा को बढ़ावा देने में लगे हुए हैं। उसने गुहार लगाते हुए कहा कि हम लड़कियां कोई भेड़-बकरियां नहीं हैं जो जब चाहे किसी को भी किसी के बदले बेच दी जाएं। हमारी भी कोई जिंदगी है। पहले नावां की बेटी को इसके चलते अपनी जान देनी पड़ी और अब शायद मुझे भी। इसके बाद ही शायद मेरे घरवाले और इन राजनेताओं को कोई अक्ल आएगी। आप सभी से गुहार है कि हम बेटियों का साथ दे और हमें आटा-साटा कुप्रथा से बचाए।

दूसरे वीडियो में उसने बताया कि शिव ग्राम पंचायत के सरपंच लालाराम अणदा, प्रभराम अणदा और सरकारी अध्यापक सुरेश अणदा इस आटा-साटा प्रथा को बढ़ावा दे रहे हैं और उस पर दबाव बना रहे हैं। युवती ने किसी बजरंग रेवाड़ नाम के व्यक्ति को अपनी और अपने पति कि हत्या की सुपारी दिए जाने के आरोप भी लगाए।

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!