Global Statistics

All countries
339,709,667
Confirmed
Updated on Thursday, 20 January 2022, 4:23:57 pm IST 4:23 pm
All countries
271,051,991
Recovered
Updated on Thursday, 20 January 2022, 4:23:57 pm IST 4:23 pm
All countries
5,584,789
Deaths
Updated on Thursday, 20 January 2022, 4:23:57 pm IST 4:23 pm

Global Statistics

All countries
339,709,667
Confirmed
Updated on Thursday, 20 January 2022, 4:23:57 pm IST 4:23 pm
All countries
271,051,991
Recovered
Updated on Thursday, 20 January 2022, 4:23:57 pm IST 4:23 pm
All countries
5,584,789
Deaths
Updated on Thursday, 20 January 2022, 4:23:57 pm IST 4:23 pm
spot_imgspot_img

Central Cabinet : ‘जनजातीय गौरव दिवस’ के रूप में मनाई जाएगी बिरसा मुंडा की जयंती

केन्द्रीय मंत्रिमंडल(Central Cabinet) ने बुधवार को भगवान बिरसा मुंडा की जयंती 15 नवंबर को जनजातीय गौरव दिवस के रूप में घोषित करने की मंजूरी दी।

New Delhi: केन्द्रीय मंत्रिमंडल(Central Cabinet) ने बुधवार को भगवान बिरसा मुंडा की जयंती 15 नवंबर को जनजातीय गौरव दिवस के रूप में घोषित करने की मंजूरी दी। इस संदर्भ में जनजातीय लोगों की संस्कृति और उपलब्धियों के गौरवशाली इतिहास को मनाने के लिए 15 से 22 नवंबर, 2021 तक सप्ताह भर चलने वाले समारोहों की योजना भी बनाई गई है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने 15 नवंबर को जनजातीय गौरव दिवस के रूप में घोषित करने को मंजूरी दे दी है।

केन्द्रीय मंत्रिमंडल के फैसलों की जानकारी देते हुए सूचना एवं प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने इसकी जानकारी दी। उन्होंने बताया कि भारत सरकार ने आदिवासी लोगों की संस्कृति और उपलब्धियों के गौरवशाली इतिहास के 75 साल पूरे होने का जश्न मनाने के लिए 15 नवंबर से 22 नवंबर 2021 तक सप्ताह भर चलने वाले समारोहों की योजना बनाई है।

सरकार के अनुसार उत्सव के हिस्से के रूप में राज्य सरकारों के साथ संयुक्त रूप से कई गतिविधियों की योजना बनाई गई है और प्रत्येक गतिविधि के पीछे का विषय भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में आदिवासियों की उपलब्धियों, शिक्षा, स्वास्थ्य, आजीविका, बुनियादी ढांचे और कौशल विकास में भारत सरकार द्वारा किए गए विभिन्न कल्याणकारी उपायों को प्रदर्शित करना है।

ये कार्यक्रम अद्वितीय आदिवासी सांस्कृतिक विरासत, स्वतंत्रता संग्राम में उनके योगदान, प्रथाओं, अधिकारों, परंपराओं, व्यंजनों, स्वास्थ्य, शिक्षा और आजीविका को भी प्रदर्शित करेंगे। 

बिरसा मुंडा की 15 नवंबर को जयंती है, जिन्हें देश भर के आदिवासी समुदायों द्वारा भगवान के रूप में सम्मानित किया जाता है। बिरसा मुंडा ने ब्रिटिश औपनिवेशिक व्यवस्था की शोषक व्यवस्था के खिलाफ देश के खिलाफ बहादुरी से लड़ाई लड़ी और ‘उलगुलान’ (क्रांति) का आह्वान करते हुए ब्रिटिश दमन के खिलाफ आंदोलन का नेतृत्व किया। 

उल्लेखनीय है कि संथाल, तामार, कोल, भील, खासी और मिज़ो जैसे आदिवासी समुदायों ने कई आंदोलनों द्वारा भारत के स्वतंत्रता संग्राम को मजबूत किया था।

बड़े पैमाने पर जनता इन आदिवासी नायकों के बारे में ज्यादा जागरूक नहीं है। 2016 के स्वतंत्रता दिवस पर प्रधानमंत्री ने अपने भाषण में देश भर में 10 आदिवासी स्वतंत्रता सेनानी संग्रहालय बनाने की जानकारी दी थी।

Leave a Reply

spot_img

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!