spot_img

बर्बरता: ग्वालियर की महिला को पति और भाभी ने पिलाया तेजाब, हालत गंभीर

लड़की की हालत बेहद खराब होने के चलते उसे दिल्ली के अस्पताल में रेफर कर दिया गया। लड़की के भाई ने 181 पे सूचना कर दिल्ली महिला आयोग को बताया। जिन्होंने लड़की को अस्पताल में भीर्ती करवाया और दिल्ली के एसडीएम के समक्ष उसके बयान भी दर्ज करवाए।

Deoghar Airport का रन-वे बेहतर: DGCA

नई दिल्ली: मध्य प्रदेश के ग्वालियर में रहने वाली एक 25 वर्षीय महिला को उसके पति और भाभी ने 28 जून को तेजाब पिला दिया। जिसके बाद लड़की को गंभीर हालत में ग्वालियर के एक अस्पताल में उसके पड़ोसी ने भर्ती करवाया। मध्य प्रदेश पुलिस ने तीन जुलाई को हल्की कमजोर एफआईआर दर्ज की जिसमे ‘ऐसिड अटैक’ के सेक्शन न डाल मामला सिर्फ घरेलू हिंसा का बनाया गया। लड़की की हालत बेहद खराब होने के चलते उसे दिल्ली के अस्पताल में रेफर कर दिया गया। लड़की के भाई ने 181 पे सूचना कर दिल्ली महिला आयोग को बताया। जिन्होंने लड़की को अस्पताल में भीर्ती करवाया और दिल्ली के एसडीएम के समक्ष उसके बयान भी दर्ज करवाए।

SDM के समक्ष पीड़िता ने बताई आपबती

पीड़िता ने अपने बयान में बताया है की उसके पति के एक महिला के साथ नाजायज संबंध थे जिसकी जानकारी पीड़िता को लगी तो उसके पति ने उसे तेजाब पीला दिया। दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्षा स्वाति मालीवाल और आयोग की सदस्या प्रोमिला गुप्ता ने दिल्ली के लोक नायक जयप्रकाश (एलएनजेपी) अस्पताल पहुंचकर पीड़िता से मुलाकात की।

पीड़िता की हालत बेहद गंभीर है और अस्पताल के डॉक्टर ने बताया है कि उसकी अंदरूनी अंग पूरी तरह खराब हो चुके हैं। लड़की की फूड पाइप, पेट और अंतड़ियां पूरी तरह से गल गई है और आंतें पेट से बाहर आ गई हैं। महिला न तो अब पानी पी सकती है न ही भोजन खा सकती है। लड़की को खून की उल्टियां भी हो रही हैं।

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

दिल्ली महिला आयोग की टीम पिछले दो दिनों से लगातार महिला के साथ अस्पताल में मौजूद है और अब महिला को न्याय दिलवाने के लिए स्वाति मालीवाल ने मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को पत्र लिखा है। स्वाति ने पत्र में शिवराज से जल्द से जल्द अपराधियों को गिरफ्तार करने की मांग की है साथ ही इस मामले में लापरवाही दिखाने वाले पुलिस अधिकारियों पर भी एक्शन लेने की मांग की है।

शर्म आनी चाहिए MP पुलिस

स्वाति मालीवाल ने कहा, ये मामला हमारे संज्ञान ने आया तो हमारा दिल सहम गया। किस प्रकार एक छोटी 25 वर्ष की लड़की के साथ ऐसी बर्बरता की गई। लड़की के ससुराल वालों ने उसे तेजाब पिलाकर मारने की कोशिश की।

डॉक्टर का कहना है की शायद लड़की का बचना भी मुश्किल है। शर्म आनी चाहिए एमपी पुलिस को जिन्होंने मामले की संगीनता को नहीं समझा और एक कमजोर एफआईआर दर्ज की। लड़की ने दिल्ली में एसडीएम को बयान दिए हैं की उसके पति ने उसे तेजाब पिलाया लेकिन एमपी पुलिस इसे घरेलू हिंसा बता रही है।

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!