spot_img
spot_img

Jharkhand में दो वर्ष बाद प्राथमिक स्कूलों को खोलने की तैयारी, प्रस्ताव आपदा प्रबंधन प्राधिकार को भेजा गया

झारखंड के स्कूलों में एक बार फिर से नियमित पढ़ाई शुरू होगी। प्राथमिक स्कूलों में लगभग दो साल बाद एक बार फिर से घंटियां गूजेंगी। शिक्षा विभाग ने स्कूलों को खोलने का प्रस्ताव आपदा प्रबंधन प्राधिकार को भेजा है।

Ranchi: झारखंड के स्कूलों में एक बार फिर से नियमित पढ़ाई शुरू होगी। प्राथमिक स्कूलों में लगभग दो साल बाद एक बार फिर से घंटियां गूजेंगी। शिक्षा विभाग ने स्कूलों को खोलने का प्रस्ताव आपदा प्रबंधन प्राधिकार को भेजा है। शनिवार को शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो के आवास पर मंत्री, शिक्षा सचिव व आपदा प्रबंधन विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक के बाद ये निर्णय किए गए हैं।

हालांकि, इस पर अंतिम निर्णय मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की अध्यक्षता में 31 जनवरी को होने वाले आपदा प्रबंधन प्राधिकार समिति की बैठक में किए जाएंगे। शिक्षा विभाग की ओर से भेजे गए प्रस्ताव में स्कूल को कोरोना के पहले की स्थिति में संचालित करने की मांग की गई है। कोरोना गाइडलाइन के अलावा किसी तरह की कोई बंदिश लागू नहीं करने की मांग की गई है। क्लास में निर्धारित अवधि तक पढ़ाई की मांग की गई है।

17 मार्च, 2020 के बाद नहीं खुले हैं प्राइमरी स्कूल

दरअसल, मार्च 2020 में कोरोना महामारी के दस्तक के बाद 17 मार्च, 2020 को राज्य के सभी शिक्षण संस्थान बंद किए गए थे। इसके बाद से आज तक राज्य के प्राथमिक स्कूलों से ताला नहीं हटा है। वहीं, दिसंबर 2020 में केवल दो महीने के लिए आठवीं कक्षा से ऊपर के स्कूल खुले थे। इसके बाद सितंबर, 2021 से छठी से ऊपर कक्षा के स्कूल का संचालन हो रहा था, जिसे दिसंबर में ओमिक्रॉन के फैलाव के बाद बंद किया गया था।

निजी स्कूल संचालकों को आश्वासन

इससे पहले शनिवार सुबह को मंत्री के आवास पर प्राइवेट स्कूल संचालकों के साथ बैठक हुई। इसमें मंत्री ने स्कूल खोलने के संकेत दिए हैं। हालांकि, स्कूल कब से खुलेंगे इस पर स्पष्ट निर्णय नहीं हो पाया है। बैठक के बाद ही इस पर स्पष्ट निर्णय किए जाएंगे। स्कूल खोलने के आश्वासन के बाद स्कूल संचालक के सदस्यों के चेहरे में खुशी देखने को मिल रही है।

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!