Global Statistics

All countries
361,819,406
Confirmed
Updated on Thursday, 27 January 2022, 3:10:48 am IST 3:10 am
All countries
283,884,771
Recovered
Updated on Thursday, 27 January 2022, 3:10:48 am IST 3:10 am
All countries
5,641,476
Deaths
Updated on Thursday, 27 January 2022, 3:10:48 am IST 3:10 am

Global Statistics

All countries
361,819,406
Confirmed
Updated on Thursday, 27 January 2022, 3:10:48 am IST 3:10 am
All countries
283,884,771
Recovered
Updated on Thursday, 27 January 2022, 3:10:48 am IST 3:10 am
All countries
5,641,476
Deaths
Updated on Thursday, 27 January 2022, 3:10:48 am IST 3:10 am
spot_imgspot_img

Deoghar: 10 साइबर अपराधियों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

टीम व्यूवर और क्विक सपोर्ट जैसे रिमोट एक्सेस ऐप इंस्टॉल करवाकर लोगों के मोबाइल पर आए ओटीपी को अपने मोबाइल पर एक्सेस कर भी साइबर अपराधियों द्वारा अवैध निकासी करने का कार्य किया जाता था।

Deoghar: जिले में साइबर अपराधियों की संख्या तेजी से बढ़ती जा रही है। पुलिस द्वारा जिले से साइबर अपराध को खत्म करने के लिए लगातार कार्रवाई भी की जा रही है। आए दिन पुलिस द्वारा जिले के विभिन्न थाना क्षेत्र से छापेमारी कर काफी संख्या में साइबर अपराधियों को गिरफ्तार कर जेल भेजने का काम किया जा रहा है।

11 मोबाइल, 20 सिमकार्ड व 2 एटीएम कार्ड बरामद

इसी क्रम में गुरुवार को साइबर पुलिस ने गुप्त सूचना के आधार पर जिले के पथरौल, मधुपुर, कुंडा और जसीडीह थाना क्षेत्र से छापेमारी कर कुल 10 साइबर अपराधियों को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तारी के क्रम में पुलिस द्वारा अपराधियों के पास 11 मोबाइल फोन, 20 सिमकार्ड और 2 एटीएम कार्ड भी बरामद किया है।

छापेमारी के क्रम में पथरौल थाना क्षेत्र अंतर्गत पितौंजिया गांव निवासी तरुण दास, विकास दास, संजीत दास, मधुपुर थाना क्षेत्र अंतर्गत पसिया गांव निवासी अमित कुमार, धनंजय दास, संदीप कुमार दास, निरंजन कुमार दास, कुंडा थाना क्षेत्र अंतर्गत बसमत्ता गांव निवासी रंजीत दास, अंकित कुमार दास व जसीडीह थाना क्षेत्र अंतर्गत राजाडीह गांव निवासी उमेश दास को गिरफ्तार किया गया है।

इस संदर्भ में साइबर डीएसपी सुमित प्रसाद ने प्रेस वार्ता के दौरान पत्रकारों को जानकारी दी कि गिरफ्तार साइबर अपराधी फोन-पे कस्टमर को कैशबैक का झांसा देकर व अन्य गेमिंग एप्स के माध्यम से लोगों से ठगी करने का काम करते थे।

फर्ज़ी बैंक अधिकारी बन करते थे कॉल

साथ ही फर्जी बैंक पदाधिकारी बनकर लोगों को फोन करते हैं और एटीएम बंद होने और उसे चालू कराने के नाम पर बैंक खाते से संबंधित जानकारी प्राप्त कर उनके खाते से अवैध रूप से रुपयों की निकासी की जाती है।

टीम व्यूवर और क्विक सपोर्ट जैसे रिमोट एक्सेस ऐप इंस्टॉल करवाकर लोगों के मोबाइल पर आए ओटीपी को अपने मोबाइल पर एक्सेस कर भी साइबर अपराधियों द्वारा अवैध निकासी करने का कार्य किया जाता था।

बहरहाल एक साथ 10 साइबर अपराधियों की गिरफ्तारी को पुलिस एक बड़ी उपलब्धि मान रही है और पुलिस का कहना है कि यह अभियान लगातार जारी रहेगा। साइबर पुलिस जिले में लगातार अभियान चलाकर साइबर अपराधियों को गिरफ्तार करने का काम करेगी।

Leave a Reply

spot_img
spot_img

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!