Global Statistics

All countries
195,990,126
Confirmed
Updated on Wednesday, 28 July 2021, 9:23:06 am IST 9:23 am
All countries
175,949,827
Recovered
Updated on Wednesday, 28 July 2021, 9:23:06 am IST 9:23 am
All countries
4,193,155
Deaths
Updated on Wednesday, 28 July 2021, 9:23:06 am IST 9:23 am

Global Statistics

All countries
195,990,126
Confirmed
Updated on Wednesday, 28 July 2021, 9:23:06 am IST 9:23 am
All countries
175,949,827
Recovered
Updated on Wednesday, 28 July 2021, 9:23:06 am IST 9:23 am
All countries
4,193,155
Deaths
Updated on Wednesday, 28 July 2021, 9:23:06 am IST 9:23 am
spot_imgspot_img

जासूसी करते पकड़े गए दिल्ली में पाक उच्चायोग के दो अधिकारी, देश छोड़ने का आदेश


नई दिल्ली।

भारत ने रविवार को बड़ी कार्रवाई करते हुए पाकिस्तान उच्चायोग के दो अफसरों को जासूसी के आरोप में देश छोड़ने का आदेश दिया है। उन्हें 24 घंटे में देश छोड़ने को कहा गया है। नई दिल्ली में स्थित पाकिस्तान के उच्चायोग में कार्यरत दो अधिकारी जासूसी में लिप्त पाए गए हैं। अधिकारियों ने रविवार शाम इस बात की जानकारी दी।

विदेश मंत्रालय के मुताबिक, पाकिस्तानी उच्चायोग के दो अफसरों को भारतीय कानून प्रवर्तन अधिकारियों ने जासूसी करने के आरोप में पकड़ा था। सरकार ने उन्हें अवांछित घोषित किया है। भारत ने उनकी गतिविधियों को राजनयिक मिशन के एक सदस्य के रूप में गैरकानूनी और देश के खिलाफ माना और उनसे कहा गया कि वे 24 घंटे के अंदर देश छोड़ दें।

उनकी गतिविधियों को देश विरोधी बताते हुए सरकार की ओर से पाक के उप राजदूत को एक आपत्तिपत्र भी जारी किया गया है जिसमें इस मामले पर विरोध दर्ज कराया गया है। विदेश मंत्रालय ने बताया कि इसमें यह सुनिश्चित करने को कहा गया है कि पाक के राजनयिक मिशन का कोई भी सदस्य भारत विरोधी गतिविधियों में लिप्त न हो और अपनी उपस्थिति के दौरान असंगत व्यवहार न करे।

विदेश मंत्रालय ने इस संबंध में कहा है, 'नई दिल्ली में पाकिस्तान के उच्चायोग के दो अधिकारियों को भारतीय कानून प्रवर्तन अधिकारियों ने जासूसी में लिप्त होने के आरोप में गिरफ्तार किया था। सरकार ने उन्हें अवांछित घोषित किया है और 24 घंटे के अंदर देश छोड़ने का आदेश दिया है।'

विदेश मंत्रालय ने बताया कि पाक के उप राजदूत को एक आपत्तिपत्र भी जारी किया गया है । जिसमें इस मामले पर विरोध दर्ज कराया गया है। इसमें यह सुनिश्चित करने को कहा गया है कि पाक के राजनयिक मिशन का कोई भी सदस्य भारत विरोधी गतिविधियों में लिप्त न हो और अपनी स्थिति से असंगत व्यवहार न करे।  
हालांकि, यह पहला मौका नहीं है जब भारत में जासूसी नेटवर्क चलाने की साजिशों के नई दिल्ली स्थित पाक उच्चायोग से जुड़े तार उजागर हुए हैं। ससे पहले 2016 में भी पाक उच्चायोग के एक राजनयिक को रंगे हाथों पकड़ा गया था। उसे भी परसोना-नॉन-ग्रेटा करार देते हुए भारत से निकाला गया था।

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!