spot_img
spot_img

रोहतास के चर्चित राहुल हत्याकांड का पुलिस ने किया खुलासा, प्रेम प्रसंग में सुपारी किलरों से कराई गई थी हत्या

इस हत्याकांड में बिक्रमगंज पुलिस ने मोबाइल सर्विलांस और अन्य अत्याधुनिक तकनीकी अनुसंधान के माध्यम से राहुल हत्याकांड को अंजाम देने वाले दो सुपारी किलरों को दबोच लिया है।

Ara(Bihar): रोहतास जिले (Rohtas District) के अस्कामिनी नगर में हुए चर्चित राहुल हत्याकांड में पुलिस ने कई राज खोल दिये हैं। इस हत्याकांड में बिक्रमगंज पुलिस ने मोबाइल सर्विलांस और अन्य अत्याधुनिक तकनीकी अनुसंधान के माध्यम से राहुल हत्याकांड को अंजाम देने वाले दो सुपारी किलरों को दबोच लिया है। दोनों से पूछताछ के बाद हत्या में इस्तेमाल किये गए एक देशी कट्टा को भोजपुर जिले के हसन बाजार स्थित रेलवे लाईन के निकट से बरामद कर लिया है।

हत्यारों ने पुलिस को जानकारी दी कि राहुल की हत्या के बाद इस्तेमाल किये गए देशी कट्टे को हसन बाजार के निकट रेलवे लाइन के पास जमीन में खुदाई कर गाड़ दिया था। पुलिस ने इस हत्याकांड में पहले भी दो कट्टा और एक फर्जी नम्बर की बाइक बरामद को बरामद किया था। पुलिस ने अनुसंधान के बाद जिन दो सुपारी किलरों को गिरफ्तार कर जेल भेजा है उनमें कैमूर जिले के दुर्गावती थानांतर्गत कर्णपुरा गांव निवासी राम मूरत राम के पुत्र नीतीश कुमार उर्फ शुभम कुमार और कैमूर जिले के मोहनिया थानांतर्गत डीडीखली भदवलिया गांव निवासी अंगद प्रसाद के पुत्र रॉकी कुमार उर्फ रोहित कुमार शामिल हैं।

बिक्रमगंज के डीएसपी शशि भूषण सिंह ने सोमवार को बताया कि अस्कामिनी नगर में राहुल की हत्या बीते 6 जनवरी को प्रेम प्रसंग में कर दी गई थी।मोबाइल नम्बर के आधार पर पुलिस हत्यारो की गिरेबां तक पहुंच गई है।डालमियानगर के प्रयाग बिगहा निवासी नागेंद्र सिंह के पुत्र प्रिंस ने राहुल की हत्या के लिए रॉकी और नीतीश को सुपारी दी थी।हत्याकांड को अंजाम देने के लिए कैमूर जिले के एक युवक हिमांशु ने मध्यस्थता कर सुपारी किलरों को पैसे उपलब्ध कराए थे।

राहुल की हत्या के लिए चार लाख रुपये देने की बात पक्की हुई थी और इसमें से 15 हजार रुपये अग्रिम सुपारी किलरों को दिए गए थे।प्रिंस ने राहुल हत्याकांड का ताना बाना बुना था और सुपारी किलरों के माध्यम से राहुल की हत्या कराई थी।मोबाइल सर्विलांस के अनुसंधान के आधार पर पुलिस ने जब प्रिंस को उठाया तो उसने सारा राज उगल दिया।

उसके स्वीकारोक्ति बयान के आधार पर दोनों सुपारी किलरों को पुलिस ने गिरफ्तार किया तो हत्या में इस्तेमाल किया गया हथियार हसनबाजार रेलवे लाइन के निकट से बरामद कर लिया गया।राहुल हत्याकांड में रोहतास,कैमूर और भोजपुर जिले तक हत्यारो ने पांव पसारे और सुपारी किलरों से लेकर हथियार छुपाने और साक्ष्य मिटाने तक इन जिलों का इस्तेमाल किया।

बता दें कि डालमियानगर थाना क्षेत्र के प्रयाग बिगहा निवासी राहुल की अस्कामिनी नगर के गली नम्बर छः के किराए के मकान में बीते 6 जनवरी को हत्या कर दी गई थी। इस घटना में राहुल का दोस्त डालमियानगर थाना क्षेत्र के मथुरी गांव निवासी हिमांशु यादव घायल हो गया था जिसका इलाज पुलिस की सुरक्षा में निजी अस्पताल में चल रहा है। डीएसपी के अनुसार घायल युवक फिलहाल खतरे से बाहर है और सुरक्षित है।प्रेम प्रसंग में हुई राहुल की हत्या का पर्दाफाश कर कातिलों तक पहुंचने में कैमूर पुलिस की महत्वपूर्ण भूमिका बताई जा रही है।

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!