Global Statistics

All countries
176,490,656
Confirmed
Updated on Sunday, 13 June 2021, 7:29:07 pm IST 7:29 pm
All countries
158,748,302
Recovered
Updated on Sunday, 13 June 2021, 7:29:07 pm IST 7:29 pm
All countries
3,812,281
Deaths
Updated on Sunday, 13 June 2021, 7:29:07 pm IST 7:29 pm

Global Statistics

All countries
176,490,656
Confirmed
Updated on Sunday, 13 June 2021, 7:29:07 pm IST 7:29 pm
All countries
158,748,302
Recovered
Updated on Sunday, 13 June 2021, 7:29:07 pm IST 7:29 pm
All countries
3,812,281
Deaths
Updated on Sunday, 13 June 2021, 7:29:07 pm IST 7:29 pm
spot_imgspot_img

WHO ने अमिर देशों से कहा- बच्चों को न लगाएं अभी टीका, जानिए बताई क्या वजह….

शुक्रवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में WHO महानिदेशक ने अमीर देशों से बच्चों का टीकाकरण टालने की भी अपील की। उन्होंने कहा, ''मैं समझ सकता हूं कि क्यों कुछ देश बच्चों और किशोरों का टीकाकरण करना चाहते हैं, लेकिन अभी मैं उनसे अपील करता हूं कि इस पर दोबारा विचार करें और इसके बदले Covax प्रोग्राम के लिए वैक्सीन दान करें।''

संयुक्त राष्ट्र: विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने शुक्रवार को कहा कि कोरोना महामारी का दूसरा साल और पहले से भी ज्यादा जानलेवा साबित होने जा रहा है। इसके अलावा WHO ने अमीर देशों से अपील की है कि वे अभी बच्चों को टीका ना लगाएं, बल्कि गरीब देशों को टीका दें।

WHO के महानिदेशक ट्रेडोस अदनोम ने कहा, ”महामारी का दूसरा साल पहले साल की तुलना में अधिक जानलेवा होने जा रहा है।” शुक्रवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में उन्होंने अमीर देशों से बच्चों का टीकाकरण टालने की भी अपील की। उन्होंने कहा, ”मैं समझ सकता हूं कि क्यों कुछ देश बच्चों और किशोरों का टीकाकरण करना चाहते हैं, लेकिन अभी मैं उनसे अपील करता हूं कि इस पर दोबारा विचार करें और इसके बदले Covax प्रोग्राम के लिए वैक्सीन दान करें।”

बच्चों को अभी ना लगाएं वैक्सीन, अमीर देशों से अपील

विश्व स्वास्थ्य संगठन के डीजी ट्रेडोस अदनोम का कहना है कि युवा और स्वस्थ लोगों को वैक्सीन लगाने की जगह अमीर देशों को अपनी डोज कोवैक्स ग्लोबल वैक्सीन-शेयरिंग स्कीम में देनी चाहिए और यह सुनिश्चित करना चाहिए कि सभी देशों में जिन्हें सबसे ज्यादा सुरक्षा की जरूरत है, उन्हें वह मिल जाए। एक प्रेस कांफ्रेंस में उन्होंने कहा है, ‘जनवरी में मैंने एक संभावित नैतिक तबाही की बात की थी।’ उन्होंने कहा कि, ‘दुर्भाग्य से आज हम वह देख रहे हैं। कुछ अमीर देशों ने ज्यादातर सप्लाई खरीद ली है, अब कम-जोखिम वाले ग्रुपों का वैक्सीनेशन हो रहा है।’ हालांकि, उन्होंने ये भी कहा है कि ‘मैं समझता हूं कि कुछ देश अपने बच्चों और किशोरों को टीका क्यों लगाना चाहते हैं, लेकिन इस समय मैं उनसे गुजारिश करता हूं कि इसपर फिर से विचार करें और उसकी जगह कोवैक्स को दान दें।’

16 फीसदी आबादी तक पहुंची 44 फीसदी डोज- ट्रेडोस

इसका कारण बताते हुए अदनोम ने कहा है कि, ‘क्योंकि कम और कम-मध्य आय वाले देशों में कोविड-19 वैक्सीन की इतनी भी सप्लाई नहीं हो पा रही है कि वह अपने हेल्थकेयर वर्करों का भी टीकाकरण कर सकें और अस्पतालों में ऐसे लोगों की बाढ़ आई हुई है, जिनको तत्काल जान बचाने वाली केयर की जरूरत है।’ एएफपी के आंकड़ों के मुताबिक दुनिया के करीब 210 क्षेत्रों में करीब 140 करोड़ कोविड वैक्सीन की डोज लग चुकी है। इनमें से करीब 44 फीसदी डोज अमीर देशों में लगाई गई है, जिनकी आबादी विश्व की कुल जनसंख्या का महज 16 फीसदी है। जबकि, 29 सबसे गरीब देशों में सिर्फ 0.3 फीसदी डोज ही लग पाई है, जहां विश्व की 9 फीसदी जनसंख्या रहती है।

‘जीवन और आजीविका दोनों को बचाना है’

यही नहीं उन्होंने यह भी चेतावनी दी है कि वैक्सीन आने के बावजूद इस साल पिछले साल के मुकाबले दुनिया में कोरोना वायरस की वजह से ज्यादा लोगों की जान जाएगी। उन्होंने कहा कि ‘जन स्वास्थ्य उपायों और टीकाकरण के जरिए जीवन और आजीविका दोनों को बचाना है- इसके अलावा और कोई उपाय नहीं है।’ आंकड़ों के मुताबिक चीन के वुहान में 2019 के दिसंबर से लेकर अबतक कोरोना वायरस की वजह से विश्व में कम से कम 33 लाख लोगों की जान जा चुकी है। इस बीच 56 वर्षीय ट्रेडोस ने कहा है कि पिछले हफ्ते उन्होंने भी जिनेवा में वैक्सीन ले ली है, जिसे उन्होंने ‘खट्टा-मीठा अनुभव की तरह था’ बताया है। क्योंकि, उनकी चिंता दुनियाभर में महामारी का सामना कर रहे हेल्थ वर्करों को लेकर है। उन्होंने इस स्थिति पर दुख जताते हुए कहा है कि ‘सच ये है कि बहुत सारे अभी तक सुरक्षित नहीं है, जो दुनियाभर में वैक्सीन की पहुंच में बहुत बड़ी दुखद विकृति जाहिर करता है।’

WHO के एक विशेषज्ञ ने कहा है कि आने वाले समय में कोरोना वायरस के और नए स्ट्रेन मिलेंगे। हालांकि अब हमें पता है कि क्या करना है?

Covid-19 को लेकर WHO की टेक्निकल लीड मारिया वान केरकोव ने कहा, ”मैं (नए वेरिएंट के) डर को कुछ उत्पादकता और मजबूती की ओर मोड़ना” चाहूंगा।

बता दें, कनाडा और अमेरिका ने हाल ही में 12 से 15 वर्ष तक के बच्चों के टीकाकरण को मंजूरी दी है।

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles