spot_img
spot_img

रांची, धनबाद और चक्रधरपुर रेल मंडलों में पूरी तरह महिलाओं के हाथ रही खास ट्रेनों की कमान

झारखंड में रेलवे के तीन डिविजनों रांची, धनबाद और चक्रधरपुर में मंगलवार को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर महिला कर्मियों ने ट्रेन चलाने से लेकर स्टेशन के मैनेजमेंट तक की हर छोटी-बड़ी भूमिका निभाई।

Ranchi: झारखंड में रेलवे के तीन डिविजनों रांची, धनबाद और चक्रधरपुर में मंगलवार को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर महिला कर्मियों ने ट्रेन चलाने से लेकर स्टेशन के मैनेजमेंट तक की हर छोटी-बड़ी भूमिका निभाई। लोको पायलट, सहायक लोको पायलट, गार्ड, स्टेशन मैनेजर, टीटीई, सिक्योरिटी चेक, कंट्रोल रूम, इंटरलॉकिंग, मैकेनिकल और टेक्निकल मामलों तक की जिम्मेदारी महिलाओं के हाथों में रही।

रांची, धनबाद और चक्रधरपुर रेलवे जंक्शन पर सुबह से ही नजारा बदला रहा। रांची से लोहरदगा के बीच चलने वाली पैसेंजर ट्रेन की कमान लोको पायलट दीपाली अमृत और सविता किंडो के हाथ में थी। ट्रेन मैनेजर की भूमिका में नीता कुमारी थीं। रांची रेलवे स्टेशन पर स्टेशन मैनेजर, स्टेशन मास्टर, पोस्ट मास्टर, टिकट कलेक्शन, टिकट रिजर्वेशन काउंटर हर जगह महिलाओं को ड्यूटी पर तैनात किया गया। रेलवे प्रोटेक्शन फोर्स की महिला विंग ने परिचालन के दौरान ट्रेन में पैसेंजर्स की सुरक्षा का मोर्चा संभाला। डीआरएम प्रदीप कुमार गुप्ता और सर्वो की अध्यक्ष प्रियंवादा गुप्ता ने अधिकारियों की मौजूदगी में ट्रेन को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। 70 से ज्यादा महिला कर्मी अलग-अलग भूमिका में थीं। इस ट्रेन में एक महिला स्पेशल कोच भी लगाया गया था।

इसी तरह साउथ बिहार एक्सप्रेस को चक्रधरपुर से राउरकेला स्टेशन के बीच महिला स्पेशल ट्रेन बना कर चलाया गया। इस महिला स्पेशल ट्रेन की मुख्य चालक शिला रानी होरो थीं, जबकि सहायक चालक की जिम्मेदारी संभाली सोनाक कुमारी हांसदा ने। गार्ड की भूमिका श्रावन्ति पांडेय के पास थी।

डिप्टी सीटीआई टीटीई सचिम खातून, सम्पा चौधरी, सीनियर टीटीई एम कलुण्डिया, सुमित्रा तिर्की की महिला टीम ने ट्रेन में यात्रियों के टिकट की जांच की। यात्रियों की सुरक्षा में आरपीएफ महिला सब इंस्पेक्टर एस मंडी, कॉन्स्टेबल बसवा बरला, केएम रीना, रुपाली बिस्वास, पिंकू घोराई ट्रेन में तैनात थी। यही नहीं स्टेशन में भी स्टेशन मैनेजर मीणा सत्पथी ने पूरे स्टेशन में महिला कर्मियों की फौज लगा दी। ट्रेन के महिला चालक और गार्ड को चक्रधरपुर रेल मंडल के डीआरएम विजय कुमार साहू ने गुलदस्ता देकर उनका स्वागत किया।


डीआरएम विजय कुमार साहू तथा दक्षिण पूर्व रेलवे महिला कल्याण संगठन की अध्यक्ष अंजुला साहू ने संयुक्त रूप से हरी झंडी दिखाई। इसी तरह धनबाद रेल मंडल में धनबाद सिंदरी पैसेंजर की बागडोर महिलाओं के हाथ में रही। जंक्शन पर यात्रियों के लिए टिकट जारी करने, टिकट जांच करने, ट्रेनों से जुड़ी जानकारी देने के साथ-साथ सुरक्षा की कमान भी महिला आरपीएफ बटालियन ने संभाली।

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!