Global Statistics

All countries
529,841,706
Confirmed
Updated on Thursday, 26 May 2022, 1:49:20 pm IST 1:49 pm
All countries
486,156,477
Recovered
Updated on Thursday, 26 May 2022, 1:49:20 pm IST 1:49 pm
All countries
6,306,402
Deaths
Updated on Thursday, 26 May 2022, 1:49:20 pm IST 1:49 pm

Global Statistics

All countries
529,841,706
Confirmed
Updated on Thursday, 26 May 2022, 1:49:20 pm IST 1:49 pm
All countries
486,156,477
Recovered
Updated on Thursday, 26 May 2022, 1:49:20 pm IST 1:49 pm
All countries
6,306,402
Deaths
Updated on Thursday, 26 May 2022, 1:49:20 pm IST 1:49 pm
spot_imgspot_img

आधुनिक पावर के पूर्व एमडी और टेरर फंडिंग के आरोपित महेश अग्रवाल NIA की गिरफ्त में

आधुनिक पावर (Adhunik Power) के पूर्व एमडी(Ex MD) और टेरर फंडिंग (Terror Funding) के आरोपित महेश अग्रवाल (Mahesh Agarwal) को मंगलवार सुबह राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने गिरफ्तार कर लिया।

Jamshedpur: आधुनिक पावर (Adhunik Power) के पूर्व एमडी(Ex MD) और टेरर फंडिंग (Terror Funding) के आरोपित महेश अग्रवाल (Mahesh Agarwal) को मंगलवार सुबह राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने गिरफ्तार कर लिया। महेश अग्रवाल को एनआइए के अधिकारियों ने तब अपनी हिरासत में ले लिया, जब वह कोलकाता स्थित आवास से निकल रहे थे। महेश अग्रवाल को कहां रखा गया है, इसकी जानकारी एनआइए ने नहीं दी है। उससे एनआइए के अधिकारी अज्ञात स्थान पर पूछताछ कर रहे हैं।

उल्लेखनीय है कि टेरर फंडिंग मामले में आधुनिक पावर के के पूर्व एमडी महेश अग्रवाल और ट्रांसपोर्टर अमित अग्रवाल व विनीत अग्रवाल को झारखंड हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस डॉ रवि रंजन व जस्टिस एसएन प्रसाद की अदालत ने मंगलवार को किसी प्रकार की राहत देने से इन्कार करते हुए याचिका खारिज कर दी थी। इस मामले में बहस पूरी होने के बाद झारखंड हाईकोर्ट ने फैसला सुरक्षित रख लिया था। अदालत ने तीनों आरोपितों की अंतरिम राहत की अवधि को समाप्त करते हुए पुराने सभी स्टे ऑडर्स को भी खारिज कर दिया। हाईकोर्ट के इस आदेश के बाद ही संभावना जतायी जा रही थी कि तीनों की गिरफ्तारी कभी भी हो सकती है।

तीनों पर मगध आम्रपाली प्रोजेक्ट में उग्रवादी संगठनों को फंड देने का आरोप है। इनके खिलाफ एनआइए ने प्राथमिकी दर्ज की है। पूर्व में सुनवाई के दौरान प्रार्थियों की ओर अदालत को बताया कि इस पूरे मामले में उनकी कोई संलिप्तता नहीं है।

उल्लेखनीय है कि मगध एवं आम्रपाली प्रोजेक्ट में कोयला लोडिंग एवं खनन के लिए कार्य कर रही कंपनियों पर उग्रवादी संगठन टीपीसी को आर्थिक मदद पहुंचाने समेत कई गंभीर आरोप लगे हैं। इस मामले की जांच राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआइए) कर रही है।

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!