spot_img
spot_img

BIG BREAKING : HC ने रूपा तिर्की केस की जांच CBI को सौंपी

साहेबगंज की दिवंगत महिला थाना प्रभारी रुपा तिर्की के मौत मामले की जांच झारखंड हाईकोर्ट ने सीबीआई से करवाने का आदेश दिया है।

रांची: साहेबगंज की दिवंगत महिला थाना प्रभारी रुपा तिर्की के मौत मामले की जांच झारखंड हाईकोर्ट ने सीबीआई से करवाने का आदेश दिया है। कोर्ट ने साहेबगंज महिला थाना प्रभारी रूपा तिर्की की संदेहास्पद मौत के मामले में उनके पिता द्वारा दायर याचिका पर अपना फैसला सुनाया है। मंगलवार को सभी पक्षों की ओर से बहस पूरी होने के बाद हाई कोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था।

महाधिवक्ता द्वारा अदालत में सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता के अधिवक्ता द्वारा मामले की सीबीआई जांच 200% होने का दावा करने संबंधी जानकारी अदालत को दी गयी। मामले में याचिकाकर्ता के अधिवक्ता द्वारा महाधिवक्ता और अपर महाधिवक्ता पर अदालत की अवमानना करने का आरोप लगाते हुए उन पर अवमाननावाद याचिका चलाने के लिए याचिका दायर की थी। उसी पर सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट के अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने महाधिवक्ता और अपर महाधिवक्ता की ओर से अदालत में पक्ष रखा था।

उन्होंने कहा था कि इस मामले में अवमाननावाद याचिका चलाने योग्य नहीं है। इस क्रम में याचिकाकर्ता के अधिवक्ता ने मामले की सुनवाई के दौरान कहा था कि मामले की सीबीआई जांच जिसके लिए इस याचिका में कहा गया है, वह 200% होगा ही, यह शॉकिंग था। प्रार्थी के अधिवक्ता द्वारा कही गयी बातें महाधिवक्ता ने अदालत को बतायी थी। उन्होंने तो सिर्फ जानकारी दी कि यह अवमानना नहीं होती है। उन्होंने अदालत पर किसी भी प्रकार का दोषारोपण नहीं किया है। कहा था कि अवमाननावाद एकल पीठ में नहीं सिर्फ युगल पीठ में ही सुनवाई योग्य है। उन्होंने अदालत से आग्रह किया था कि अवमानना के लिए दायर की गयी आइए को निरस्त कर दिया जाये। अधिवक्ता के पक्ष सुनने के बाद अदालत ने मामले में निर्णय लेने की बात कही थी। बता दें कि इसी के साथ रूपा तिर्की की संदेहास्पद मौत की सीबीआई जांच के लिए की गयी प्रार्थना पर सुनवाई पूरी कर ली गयी।

सीबीआई जांच की मांग को लेकर हाईकोर्ट में याचिका दायर की गयी थी।

बता दें कि साहेबगंज महिला थाना प्रभारी रूपा तिर्की ने आत्महत्या की थी। रुपा तिर्की की मृत्यु के बाद से ही उसके परिजनों समेत कई सामाजिक संगठनों ने सीबीआई जांच की मांग करते हुए आंदोलन भी किया था और न्यायालय का भी दरवाजा खटखटाया गया था। उनके पिता ने उसे संदेहास्पद मौत की बात कहते हुए मामले की सीबीआई जांच कराने की मांग को लेकर झारखंड हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी।

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!