spot_img

रमेश बैस ने Jharkhand के 10वें Governor के रूप में ली शपथ

झारखंड( Jharkhand) के नये राज्यपाल(Governor) रमेश बैस ने बुधवार को राज्य के 10वें राज्यपाल के रूप में शपथ ली। झारखंड हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस( Chief Justice of Jharkhand High Court) रवि रंजन ने नए राज्यपाल को राजभवन के बिरसा मंडप में पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई।

Ranchi: झारखंड( Jharkhand) के नये राज्यपाल(Governor) रमेश बैस ने बुधवार को राज्य के 10वें राज्यपाल के रूप में शपथ ली। झारखंड हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस( Chief Justice of Jharkhand High Court) रवि रंजन ने नए राज्यपाल को राजभवन के बिरसा मंडप में पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई।

इससे पहले रमेश बैस ने राजभवन( Rajbhawan) में भगवान बिरसा मुंडा की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। अपराह्न 1:51 बजे रमेश बैस शपथ ग्रहण के लिए मंच पर पहुंचे। इस अवसर पर मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन और उनके मंत्रिमंडल के मंत्री और शासन-प्रशासन के अधिकारी सहित अन्य गणमान्य उपस्थित रहे। साथ ही राज्यपाल रमेश बैस के परिवार के लोग भी उपस्थित रहे। छत्तीसगढ़ के रायपुर से सात बार सांसद रहे रमेश बैस झारखंड के 10वें राज्यपाल बने। रमेश बैस मंगलवार को रांची पहुंचे थे।

1989 में पहली बार बने सांसद

रायपुर में 02 अगस्त, 1947 को जन्मे रमेश बैस 1989 में पहली बार सांसद बने। तब से वे लगातार 2019 तक रायपुर का प्रतिनिधित्व करते रहे। अटल विहारी वाजपेयी की सरकार में राज्यमंत्री भी थे। वे लोकसभा में भाजपा के मुख्य सचेतक भी रहे। भाजपा ने 70 वर्ष से अधिक उम्र हो जाने के आधार पर 2019 में लोकसभा के लिए टिकट नहीं दिया था लेकिन इनकी प्रतिबद्धता के मद्देनजर जुलाई 2019 में त्रिपुरा का राज्यपाल बनाया गया। अब इन्हें झारखंड का राज्यपाल बनाया गया है।

New Governor of Jharkhand

रमेश बैस कभी चुनाव नहीं हारे

रमेश बैस कभी चुनाव नहीं हारे। लगातार चुनाव जीतने के बाद भी 2019 में उन्हें टिकट नहीं दिया गया। इसके बाद माना जा रहा था कि उन्हें किनारे कर दिया गया है लेकिन चुनाव के बाद उन्हें त्रिपुरा का राज्यपाल बनाया गया। रमेश बैस लाल कृष्ण आडवाणी के बेहद करीबी माने जाते हैं। वे केंद्रीय मंत्री सुषमा स्वराज के भी करीबी थे। सुषमा स्वराज से उनके पारिवारिक संबंध रहे। सुषमा स्वराज रमेश बैस को भाई मानतीं थीं।

सबसे अधिक उत्तर प्रदेश के तीन लोग बने राज्यपाल

कर्नाटक, केरल, पुडुचेरी, महाराष्ट्र, दिल्ली, ओडिशा और छत्तीसगढ़ से एक-एक माननीय झारखंड में गवर्नर बने हैं। सैयद सिब्ते रजी यूपी युवा कांग्रेस के अध्यक्ष और तीन बार राज्यसभा सांसद रह चुके थे। कांग्रेस पार्टी के एमओएच फारुख पुडुचेरी के मुख्यमंत्री और तीन बार सांसद रह चुके थे। के. शंकर नारायणन केरल कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष और चार बार विधायक रहने के अलावा मंत्री रह चुके थे। द्रौपदी मुर्मू ओडिशा में एक बार विधायक और राज्यमंत्री रह चुकी थीं। सर्वाधिक तीन राज्यपाल प्रभात कुमार, विनोद पांडे और सैयद सिब्ते रजी उत्तर प्रदेश के थे।

झारखंड के अब तक के राज्यपाल

प्रभात कुमार – 15 नवम्बर, 2000 से 03 फरवरी 2002

विनोदचंद्र पांडे – 04 फरवरी, 2002 से 14 जुलाई, 2002

एम रमा जोइस – 15 जुलाई, 2002 से 11 जून, 2003

वेद मारवाह -12 जून, 2003 से 09 दिसम्बर, 2004

सैय्यद सिब्ते रजी – 10 दिसम्बर, 2004 से 25 जुलाई, 2009

के शंकर नारायणन – 26 जुलाई, 2009 से 21 जनवरी, 2010

एम ओ हरान फारुक मारिकार – 22 जनवरी, 2010 से 03 सितम्बर, 2011

सईद अहमद – 04 सितम्बर, 2011 से 18 मई, 2015

द्रौपदी मुर्मू – 18 मई, 2015 से 06 जुलाई, 2021

रमेश बैस – वर्तमान

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!