spot_img
spot_img

ताइक्वांडो में गोल्ड मेडल जीतने वाला गैंगस्टर अजय गुर्जर गिरफ्तार

दिल्ली पुलिस (Delhi Police) की स्पेशल सेल (Special Cell) ने दाऊद के भाई इकबाल इब्राहिम कासकर सहित चार अंडरवर्ल्ड डॉन से जुड़े गैंगस्टर अजय गुर्जर को गिरफ्तार किया है। उसके खिलाफ हत्या, हत्या प्रयास, जबरन उगाही, आर्म्स एक्ट आदि के दो दर्जन मामले दर्ज हैं।

Budget 23-24 में नहीं चमका सोना

New Delhi: दिल्ली पुलिस (Delhi Police) की स्पेशल सेल (Special Cell) ने दाऊद के भाई इकबाल इब्राहिम कासकर सहित चार अंडरवर्ल्ड डॉन से जुड़े गैंगस्टर अजय गुर्जर को गिरफ्तार किया है। उसके खिलाफ हत्या, हत्या प्रयास, जबरन उगाही, आर्म्स एक्ट आदि के दो दर्जन मामले दर्ज हैं। आरोपित अजय गुर्जर ने राष्ट्रीय स्तर पर ताइक्वांडो में आठ गोल्ड मेडल जीते हैं। वह अंतरराष्ट्रीय स्तर का खिलाड़ी रहा है। पुलिस ने उसके पास से एक सेमी ऑटोमेटिक पिस्तौल और 5 जिंदा कारतूस बरामद किए हैं।

स्पेशल सेल के डीसीपी जसमीत सिंह ने शनिवार को बताया कि अगस्त 2021 में दो बदमाशों के बीच बातचीत का एक ऑडियो वायरल हुआ था। इस ऑडियो में सतेंद्र उर्फ सत्ते अपने साथी अजय गुर्जर को एके 47 राइफल का बंदोबस्त करने के लिए कह रहा था। कॉल में सतेंद्र तिहाड़ जेल के एक डिप्टी सुपरिटेंडेंट को मारने की बात कह रहा था।

इस डिप्टी सुपरिटेंडेंट पर तिहाड़ जेल में अंकित गुर्जर नामक बदमाश को मारने का आरोप है। फिलहाल यह पूरा मामला सीबीआई के पास है। ऑडियो वायरल होने के बाद बीते 17 अगस्त को स्पेशल सेल ने सतेंद्र को गिरफ्तार कर लिया था। पूछताछ में पता चला कि वह अपने साथी अजय गुर्जर को एके-47 का बंदोबस्त करने के लिए कह रहा था।

इसके बाद से स्पेशल सेल के एसीपी अतर सिंह की देखरेख में इंस्पेक्टर शिव कुमार और जितेंद्र की टीम लगातार अजय गुर्जर की तलाश कर रही थी। करीब चार महीने की कड़ी मशक्कत के बाद पुलिस टीम को इनपुट मिला कि अजय गुर्जर बदरपुर बस स्टॉप के पास आने वाला है। सूचना को पुख्ता कर पुलिस टीम ने उसे गिरफ्तार कर लिया। तलाशी में उसके पास से एक सेमी ऑटोमेटिक पिस्तौल और पांच जिंदा कारतूस बरामद हुए। इसे लेकर आर्म्स एक्ट का मामला दर्ज किया गया है।

गिरफ्तार किया गया अजय गुर्जर बेहद खतरनाक अपराधी है। वह छोटी-छोटी बातों पर लोगों से झगड़ा करता था। वर्ष 2004 में पहली बार उसने झगड़ा होने पर एक युवक को चाकू मारा था। इस मामले में वह जेल गया था। जेल से आने के बाद वह आपराधिक वारदातों में लिप्त बदमाशों के साथ जबरन उगाही करने लगा। उसके खिलाफ हत्या, हत्या के प्रयास, जबरन उगाही, दंगा, आर्म्स एक्ट आदि के दो दर्जन से ज्यादा मामले दिल्ली, हरियाणा, यूपी, राजस्थान और महाराष्ट्र में दर्ज हैं।

इनमें से 10 से ज्यादा मामले अकेले जबरन उगाही के हैं। उसके रिश्तेदार जेपी गुर्जर के अंडरवर्ल्ड से कनेक्शन थे। उसने अजय गुर्जर को मुंबई के गैंगस्टर हाफिज बलोच के पास छिपने के लिए भेजा था। हाफिज बलोच ने वर्ष 2008 में जुबेर पटेल उर्फ कातिया डॉन की हत्या कर दी थी। इस हत्या के बाद वह मुंबई से फरार होकर अजय गुर्जर के घर पर रुका था।

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!