spot_img

Russia claims: भारतीय छात्रों को ढाल बनाने के लिए यूक्रेन ने किया कैद, वार्ता के लिए बेलारूस पहुंचा रूस का प्रतिनिधिमंडल

रूसी रक्षा मंत्रालय ने दावा (Russian Defense Ministry claims) किया है कि यूक्रेन भारतीय छात्रों को बंधक (Ukraine holds Indian students hostage) बनाकर ढाल के रूप में प्रयोग (used as a shield) कर रहा है।

Moscow: रूसी रक्षा मंत्रालय ने दावा (Russian Defense Ministry claims) किया है कि यूक्रेन भारतीय छात्रों को बंधक (Ukraine holds Indian students hostage) बनाकर ढाल के रूप में प्रयोग (used as a shield) कर रहा है। इसी बीच शांति वार्ता की दूसरी बैठक के लिए रूस का प्रतिनिधिमंडल बेलारूस पहुंच गया है जबकि यूक्रेन का प्रतिनिधिमंडल गुरुवार को यहां पहुंचेगा।

रूस ने दावा किया है कि यूक्रेन के सुरक्षा बलों ने भारतीय छात्रों को मानव ढाल के रूप में इस्तेमाल करने के लिए बंधक बना लिया है ताकि उन्हें जाने से रोका जा सके। खबरों के मुताबिक खारकीव मेट्रो स्टेशन पर तीन सौ से ज्यादा भारतीय कर्फ्यू के चलते फंसे हैं। इससे पहले भारत ने दिन में एडवाइजरी जारी कर कहा था कि जो भी भारतीय खारकीव में फंसे हैं, वो किसी भी तरह वहां से चले जाएं।

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से वार्ता के दौरान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पुतिन से खारकीव में भारतीयों की सुरक्षित वापसी के लिए सहयोग मांगा था। खारकीव को लेकर सरकार पहले ही भारतीयों के लिए दो बार एडवाइजरी भी जारी कर चुकी है। सरकार की ओर से सभी नागरिकों को तत्काल शहर छोड़कर पश्चिमी शहरों की जाने का आग्रह किया गया है। सरकार की एडवाइजरी के बाद जहां रूसी सैनिकों ने शहर में मिसाइल अटैक शुरू कर दिए हैं तो दूसरी ओर स्थानीय प्रशासन भी शहर में कर्फ्यू घोषित लगा दिया गया है। भारत सरकार ने भारतीयों किसी भी सूरत में शहर छोड़ देने की सलाह दी थी। भारतीयों को पैदल चलकर ही पिसोचिन, बाबई और बेज़लुदिवका के सुरक्षित क्षेत्रों में चले जाने की अपील की गई। ये सभी क्षेत्र खारकीव से 11 से 16 किमी के बीच स्थित हैं। भारतीयों को इन स्थानों तक पहुंचने के लिए पांच घंटे से कम समय का समय दिया गया है।

इससे पहले रूस ने कहा है कि वह यूक्रेन में गोलाबारी में मारे गए भारतीय छात्र की मौत की जांच करेगा। भारत में रूसी राजदूत नामित डेनिस अलीपोव ने बुधवार को यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि रूस पूर्वी यूक्रेन में संघर्ष क्षेत्रों में फंसे भारतीय नागरिकों की सुरक्षित निकासी के लिए “मानवीय गलियारा” बनाने के लिए काम कर रहा है और खारकीव में एक भारतीय छात्र की मौत की जांच करेगा।

रूस और यूक्रेन के बीच दूसरे दौर की वार्ता के लिए रूस का प्रतिनिधिमंडल बेलारूस बुधवार को पहुंच गया है। वहीं यूक्रेन का प्रतिनिधिमंडल गुरुवार को पहुंचेगा। ज्ञात रहे कि बुधवार को होने वाली वार्ता एक दिन टाल दी गई थी।(Hs)

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!