Global Statistics

All countries
196,647,618
Confirmed
Updated on Thursday, 29 July 2021, 7:31:40 am IST 7:31 am
All countries
176,357,806
Recovered
Updated on Thursday, 29 July 2021, 7:31:40 am IST 7:31 am
All countries
4,202,786
Deaths
Updated on Thursday, 29 July 2021, 7:31:40 am IST 7:31 am

Global Statistics

All countries
196,647,618
Confirmed
Updated on Thursday, 29 July 2021, 7:31:40 am IST 7:31 am
All countries
176,357,806
Recovered
Updated on Thursday, 29 July 2021, 7:31:40 am IST 7:31 am
All countries
4,202,786
Deaths
Updated on Thursday, 29 July 2021, 7:31:40 am IST 7:31 am
spot_imgspot_img

दो महिला पत्रकार पहुंचीं Supreme Court, राजद्रोह कानून की संवैधानिक वैधता को दी चुनौती

सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में एक और याचिका दायर कर राजद्रोह के कानून की संवैधानिक वैधता को चुनौती दी गई है। नई याचिकाएं दो महिला पत्रकारों ने दायर की हैं।

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में एक और याचिका दायर कर राजद्रोह के कानून की संवैधानिक वैधता को चुनौती दी गई है। नई याचिकाएं दो महिला पत्रकारों ने दायर की हैं।

पैट्रिशिया मुकीम और अनुराधा भसीन ने याचिका दायर की है। याचिका में कहा गया है कि राजद्रोह कानून का इस्तेमाल पत्रकारों को चुप कराने के लिए किया जा रहा है। पिछले छह दशकों के अनुभवों के मुताबिक ये निष्कर्ष साफ है कि जब तक इस कानून को खत्म नहीं किया जाता है तब तक अभिव्यक्ति की आजादी का कोई मतलब पूरा नहीं होता है।

याचिका में नेशनल क्राइम रिकार्ड्स ब्यूरो के 2016 से 2019 के आंकड़े का जिक्र किया गया है, जिसमें कहा गया है कि राजद्रोह के केस 160 फीसदी बढ़े हैं लेकिन इनमें दोष साबित होने की दर काफी कम है, जो कि 2019 में 3.3 फीसदी है। याचिका में कहा गया है कि राजद्रोह का कानून संविधान की धारा 14, 19 और 21 का उल्लंघन है।

पिछली 15 जुलाई को राजद्रोह की संवैधानिकता को चुनौती देने वाली याचिका पर सुनवाई के दौरान चीफ जस्टिस एनवी रमना ने केंद्र सरकार से पूछा था कि क्या आजादी के 75 साल बाद भी राजद्रोह जैसे क़ानून की ज़रूरत है।

चीफ जस्टिस ने कहा था कि कभी महात्मा गांधी, तिलक जैसे स्वतंत्रता सेनानियों की आवाज़ को दबाने के लिए ब्रिटिश सत्ता इस क़ानून का इस्तेमाल करती थी। क्या आजादी के 75 साल बाद भी राजद्रोह कानून की ज़रूरत है। सुनवाई के दौरान चीफ जस्टिस ने कहा था कि राजद्रोह में दोषी साबित होने वालों की संख्या बहुत कम है लेकिन अगर पुलिस या सरकार चाहे तो इसके जरिये किसी को भी फंसा सकती है। इन सब पर विचार करने की ज़रूरत है।

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!