Global Statistics

All countries
261,232,202
Confirmed
Updated on Sunday, 28 November 2021, 12:19:38 am IST 12:19 am
All countries
234,233,113
Recovered
Updated on Sunday, 28 November 2021, 12:19:38 am IST 12:19 am
All countries
5,211,004
Deaths
Updated on Sunday, 28 November 2021, 12:19:38 am IST 12:19 am

Global Statistics

All countries
261,232,202
Confirmed
Updated on Sunday, 28 November 2021, 12:19:38 am IST 12:19 am
All countries
234,233,113
Recovered
Updated on Sunday, 28 November 2021, 12:19:38 am IST 12:19 am
All countries
5,211,004
Deaths
Updated on Sunday, 28 November 2021, 12:19:38 am IST 12:19 am
spot_imgspot_img

वैक्सीन लगवाने वालों को डेल्टा वैरिएंट से मौत का खतरा 99% तक कम, NIV की रिसर्च में खुलासा

सरकार से लेकर हेल्थ वर्कर्स तक सभी वैक्सीनेशन (Vaccination) को ही कोरोना संक्रमण (Corona Virus) के खिलाफ सबसे बड़ा हथियार मान रहे हैं।

पुणे: सरकार से लेकर हेल्थ वर्कर्स तक सभी वैक्सीनेशन (Vaccination) को ही कोरोना संक्रमण (Corona Virus) के खिलाफ सबसे बड़ा हथियार मान रहे हैं। कई रिसर्च में ये साबित भी हुआ है। वैक्सीनेशन पर की गई नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (NIV) की स्टडी में कुछ ऐसी ही जानकारी सामने आई है।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक वैक्सीन (Vaccine) कोरोना के सबसे खतरनाक और तेजी से फैलने वाले डेल्टा वैरिएंट से होने वाली मौतों से 99% तक सुरक्षा मुहैया कराती है। रिसर्च के रिजल्ट से पता चला है कि वैक्सीनेशन के बाद संक्रमित होने वाले 9.8% लोगों को ही अस्पताल में भर्ती करने की जरूरत पड़ी, जबकि सिर्फ 0.4% संक्रमितों की मौत हुई। वैक्सीनेट व्यक्ति के कोरोना संक्रमित होने पर उसे ब्रेकथ्रो इंफेक्शन कहा जाता है।

वैज्ञानिकों ने ये जानने के लिए स्टडी की थी कि वैक्सीन का एक या दोनों डोज लगवाने के बाद भी लोग वायरस से क्यों संक्रमित हो रहे हैं? रिसर्च के लिए इकट्‌ठा किए गए ज्यादातर सैंपल्स में डेल्टा वैरिएंट की पुष्टी हुई। हालांकि, कुछ केस अल्फा, कप्पा और डेल्टा प्लस वैरिएंट के भी मिले। NIV की ये स्टडी जल्द प्रकाशित होने वाली है।

NIV की स्टडी में सामने आया है कि डेल्टा वैरिएंट का पहला केस अक्टूबर 2020 में महाराष्ट्र के विदर्भ क्षेत्र में मिला था। कोरोना की दूसरी लहर के लिए इस वैरिएंट को ही जिम्मेदार माना जाता है। स्टडी के लिए 53 सैंपल महाराष्ट्र से मार्च और जून के बीच लिए गए थे। सबसे ज्यादा 181 सैंपल कर्नाटक और सबसे कम 10 पश्चिम बंगाल से लिए गए। वायरस के वैरिएंट का पता लगाने के लिए इन सैंपल्स की जेनेटिक सिक्वेंसिंग भी की गई।

स्टडी के लिए ज्यादातर 31 से 56 साल के लोगों के सैंपल लिए गए थे। इसमें 65.1% पुरुष थे। 71% मरीजों में संक्रमण के लक्षण ज्यादा थे। 69% को बुखार (समान्य लक्षण) था। 56% संक्रमितों को सिरदर्द और उल्टी के लक्षण थे। 45% को कफ और 37% को गले में दर्द की समस्या थी।

कोरोना के संक्रमण से बचने का वैक्सीनेशन ही एकमात्र रास्ता है। उसमें भी वैक्सीन का दूसरा डोज सबसे अहम है। जब तक आप दोनों डोज नहीं लगवा लेते आप संक्रमण के खतरे से पूरी तरह दूर नहीं हुए हैं।

इसे भी पढ़ें: नई स्टडीः लॉन्ग कोविड मरीजों में रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद भी दिख रहे 203 तरह के लक्षण

Leave a Reply

spot_img

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!