spot_img

लोनार झील का पानी अचानक हुआ लाल , वैज्ञानिक भी हैरान


महाराष्ट्र।

महाराष्ट्र के बुलढाना जिले में यहां की मशहूर लोनार झील का पानी अचानक लाल रंग में बदल गया है. पहली बार हुए इस बदलाव को देखकर आम लोग और वैज्ञानिक हैरान हैं. झील को देखने लोगों की भीड़ उमड़ रही है।

वैज्ञानिकों का कहना है कि लोनार झील में हैलोबैक्टीरिया और ड्यूनोनिला सलीना नाम के कवक की वजह से पानी का रंग लाल हुआ है. निसर्ग तूफ़ान की वजह से बारिश हुई जिस कारण हैलोबैक्टीरिया और ड्यूनोनिला सलीना कवक झील की तलहट में बैठ गए और पानी का रंग लाल हो गया।

हालांकि, वैज्ञानिकों का कहना यह भी है कि लोनार झील का पानी लाल होने के पीछे और भी कई कारण हो सकते हैं. जिसकी जांच होना अभी बाकी है.

झील

वहीं, जिले के तहसीलदार सैफन नदाफ ने जानकारी दी कि पिछले 2-3 दिन से लोनार झील का पानी लाल रंग में बदल गया है. हमने वन विभाग को पानी के सैंपल लेकर जांच कर कारण पता करने को कहा है.

लोनार झील के पानी का रंग लाल होने के बाद आसपास के इलाकों से बड़ी तादाद में लोग झील देखने के लिए आ रहे हैं. कुछ लोग तो इसे चमत्कार मान रहे हैं तो वहीं कई अफवाहों ने भी जोर पकड़ लिया है.

जानकारी हो कि लोनार झील बेहद रहस्यमयी है. नासा से लेकर दुनिया भर की तमाम एजेंसियां इस झील के रहस्यों को जानने में बरसों से जुटी हुई है.

लोनार झील का आकार गोल है. इसका ऊपरी व्यास करीब 7 किलोमीटर है. जबकि यह झील करीब 150 मीटर गहरी है. लोनार झील का पानी खारा है. अनुमान लगाया जाता है कि पृथ्वी से जो उल्का पिंड टकराया होगा, वह करीब 10 लाख टन का रहा होगा जिसकी वजह से झील बनी थीं।

लोनार झील

हाल ही में लोनार झील पर हुए शोध में यह सामने आया है कि यह लगभग 5 लाख 70 हजार साल पुरानी झील है. यानी कि यह झील रामायण और महाभारत काल में भी मौजूद थी।

वैज्ञानिकों का मानना है कि उल्का पिंड के पृथ्वी से टकराने के कारण यह झील बनी थी, लेकिन उल्का पिंड कहां गया इसका कोई पता अभी तक नहीं चला है।

वहीं, सत्तर के दशक में कुछ वैज्ञानिकों ने यह दावा किया था कि यह झील ज्वालामुखी के मुंह के कारण बनी होगी. लेकिन बाद में यह गलत साबित हुआ, क्योंकि यदि झील ज्वालामुखी से बनी होती, तो 150 मीटर गहरी नहीं होती।

इस झील से जुड़ा हैरान करने वाला एक वाकया यहां के ग्रामीण भी बताते हैं. वो कहते हैं कि 2006 में यह झील सूख गई थी. उस वक्त गांव वालों ने पानी की जगह झील में नमक और साथ ही अन्य खनिजों के छोटे-बड़े चमकते हुए टुकड़े देखे. लेकिन कुछ ही समय बाद यहां बारिश हुई और झील फिर से भर गई।

लोनार झील की एक ख़ास बात यह भी है कि यहां कई प्राचीन मंदिरों के भी अवशेष हैं. इनमें दैत्यासुदन मंदिर भी शामिल है. यह भगवान विष्णु, दुर्गा, सूर्य और नरसिम्हा को समर्पित है. इनकी बनावट खजुराहो के मंदिरों जैसी है।

इस झील को लेकर कई पौराणिक ग्रंथों में भी जिक्र मिलता है. जानकार बताते हैं कि झील का जिक्र ऋग्वेद और स्कंद पुराण में भी मिलता है. इसके अलावा पद्म पुराण और आईन-ए-अकबरी में भी इसका जिक्र है।

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!