spot_img
spot_img

PM मोदी ने 3 मई तक बढ़ाया लॉकडाउन, 20 अप्रैल के बाद मिलेगी सशर्त छूट


नई दिल्ली।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को कोरोना वायरस के चलते 24 मार्च को लगाए गए 21 दिन के राष्ट्रीय लॉकडाउन के आखिरी दिन देश को संबोधित किया. इस दौरान प्रधानमंत्री ने लॉकडाउन बढ़ाने को लेकर बड़ा ऐलान किया. पीएम मोदी ने लॉकडाउन को 3 मई तक बढ़ा दिया है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत में 3 मई तक लॉकडाउन जारी रखने का ऐलान किया है. साथ ही उन्होंने कहा कि कल यानी 15 अप्रैल को सरकार लॉकडाउन को लेकर नई गाइडलाइन जारी करेगी. उन्होंने कहा कि इस बार लॉकडाउन का पालन और कठोर तरीके से किया जाएगा. वहीं, जिन इलाकों में कोरोना संक्रमण के केस नहीं मिलेंगे वहां 20 अप्रैल से कुछ शर्तों के साथ छूट दी जाएगी. हालांकि, पीएम मोदी ने यह भी कहा कि छूट के बाद पहला केस मिलते ही फिर से उस इलाके में पूर्ण रूप से लॉकडाउन कर दिया जाएगा.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि सभी की तरफ से सुझाव आए हैं कि लॉकडाउन को बढ़ाया जाए. सभी के सुझावों को ध्यान में रखते हुए ये फैसला लिया गया है कि लॉकडाउन को तीन मई तक के लिए बढ़ाया जाए. सभी लोग अनुशासन के साथ घर में रहें.

पीएम ने कहा कि 'आज पूरे विश्व में कोरोना वैश्विक महामारी की जो स्थिति है, आप उसे भली-भांति जानते हैं. अन्य देशों के मुकाबले, भारत ने कैसे अपने यहां संक्रमण को रोकने के प्रयास किए, आप इसके सहभागी भी रहे हैं और साक्षी भी.'

पीएम मोदी ने कहा, 'जब हमारे यहां कोरोना के सिर्फ 550 केस थे, तभी भारत ने 21 दिन के संपूर्ण लॉकडाउन का एक बड़ा कदम उठा लिया था. भारत ने समस्या बढ़ने का इंतजार नहीं किया, बल्कि जैसे ही समस्या दिखी उसे तेजी से फैसले लेकर उसी समय रोकने का प्रयास किया.'

20 अप्रैल के बाद मिलेगी सशर्त छूट

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि अगले एक सप्ताह में कोरोना के खिलाफ लड़ाई में कठोरता और ज्यादा बढ़ाई जाएगी. 20 अप्रैल तक हर थाने, हर जिले, हर राज्य को बारीकी से परखा जाएगा. लॉकडाउन का कितना पालन हो रहा है? इसका मूल्यांकन किया जाएगा. जो सफल होंगे, जो हॉटस्पॉट नहीं बढ़ने देंगे, वहां पर 20 अप्रैल से कुछ जरूरी चीजों में छूट की अनुमति दी जा सकती है, लेकिन याद रखिए यह अनुमति सशर्त होगी. लॉकडाउन के नियम अगर टूटते हैं तो सारी अनुमति तुरंत वापस ले ली जाएगी.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि अगर सिर्फ आर्थिक दृष्टि से देखें तो अभी ये महंगा जरूर लगता है, लेकिन भारतवासियों की जिंदगी के आगे इसकी कोई तुलना नहीं हो सकती. सीमित संसाधनों के बीच, भारत जिस मार्ग पर चला है, उस मार्ग की चर्चा आज दुनियाभर में हो रही है. इन सब प्रयासों के बीच, कोरोना जिस तरह फैल रहा है, उसने विश्वभर के हेल्थ एक्सपर्ट्स और सरकारों को और ज्यादा सतर्क कर दिया है.

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!