spot_img

Kolkata का प्रीमियम शिक्षण संस्थान GD Birla School अनिश्चितकाल के लिए बंद

कोलकाता के एक प्रीमियम शिक्षण संस्थान, जीडी बिड़ला स्कूल (GD Birla School ) ने गुरुवार सुबह से स्कूल को अनिश्चित काल के लिए बंद करने की घोषणा की है।

Deoghar Airport का रन-वे बेहतर: DGCA

Kolkata: कोलकाता के एक प्रीमियम शिक्षण संस्थान, जीडी बिड़ला स्कूल (GD Birla School ) ने गुरुवार सुबह से स्कूल को अनिश्चित काल के लिए बंद करने की घोषणा की है। गुरुवार तड़के स्कूल के गेट पर एक नोटिस चस्पा मिला, जिसपर लिखा है कि स्कूल में संचालन को स्थगित करने का निर्णय छात्रों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए लिया गया है।

स्कूल के वाइस प्रिंसिपल अतराय सेनगुप्ता द्वारा हस्ताक्षरित नोटिस में कहा गया है कि “स्कूल के अंदर और बाहर विरोध के कारण उत्पन्न कानून-व्यवस्था की वर्तमान स्थिति को देखते हुए, हम छात्रों और शिक्षकों की सुरक्षा के लिए अगली सूचना तक स्कूल को बंद करने के लिए मजबूर हैं।”

हाल ही में जीडी बिड़ला स्कूल के छात्रों के अभिभावकों के एक वर्ग ने स्कूल परिसर के सामने आंदोलन किया था। अभिभावकों ने आरोप लगाया कि महामारी की स्थिति के कारण लंबे समय तक बंद रहने के बाद और स्कूल खुलने के बाद भी अधिकारियों ने छात्रों के एक वर्ग को कक्षाओं में भाग लेने की अनुमति नहीं दी, क्योंकि महामारी बंद होने के दौरान उनकी फीस बकाया थी।

इस मामले में कलकत्ता उच्च न्यायालय की खंडपीठ में एक याचिका दायर की गई थी। इस बीच शहर के कुछ अन्य निजी स्कूलों पर भी ऐसे ही आरोप लगे हैं। बुधवार को अदालत ने निजी स्कूल के अधिकारियों को लंबित फीस के आधार पर प्रवेश या पदोन्नति से इनकार करने से रोक दिया। खंडपीठ ने निजी स्कूलों को छात्रों की मार्कशीट देने पर भी रोक लगा दी है।

इसके ठीक बाद गुरुवार को जीडी बिड़ला स्कूल के अधिकारियों ने स्कूल को अनिश्चित काल के लिए बंद करने का नोटिस चस्पा किया। हालांकि, जब तक रिपोर्ट दर्ज नहीं की गई, तब तक इस संबंध में स्कूल के अधिकारियों की ओर से मीडिया को कोई आधिकारिक बातचीत नहीं हुई थी।

बता दें कि 1 दिसंबर, 2017 को एक ही स्कूल के दो शारीरिक शिक्षा शिक्षकों, अभिषेक रॉय और मोहम्मद मोफिजुल को स्कूल की चार वर्षीय छात्रा के यौन उत्पीड़न के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। उस समय, यह पता चला था कि स्कूल के अधिकारियों ने स्कूल परिसर में सीसीटीवी लगाने की सीबीएसई की सिफारिश का पालन नहीं किया था। 2019 में फिर से स्कूल परिसर में एक छात्र की अप्राकृतिक मौत के बाद मीडिया की सुर्खियों में आया था।

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!