Global Statistics

All countries
196,692,497
Confirmed
Updated on Thursday, 29 July 2021, 8:31:56 am IST 8:31 am
All countries
176,381,868
Recovered
Updated on Thursday, 29 July 2021, 8:31:56 am IST 8:31 am
All countries
4,203,599
Deaths
Updated on Thursday, 29 July 2021, 8:31:56 am IST 8:31 am

Global Statistics

All countries
196,692,497
Confirmed
Updated on Thursday, 29 July 2021, 8:31:56 am IST 8:31 am
All countries
176,381,868
Recovered
Updated on Thursday, 29 July 2021, 8:31:56 am IST 8:31 am
All countries
4,203,599
Deaths
Updated on Thursday, 29 July 2021, 8:31:56 am IST 8:31 am
spot_imgspot_img

ये रातें, ये मौसम, नदी का किनारा…लिखकर युवक ने कर ली आत्महत्या

ये रातें, ये मौसम, नदी का किनारा, ये चंचल हवा...ये गाना लिखकर एक युवक ने आत्महत्या कर लिया। युवक का शव उसके ही कमरे में तीन दिनों बाद तब बरामद किया गया जब कमरे से बदबू आने लगी।

कानपूर: ये रातें, ये मौसम, नदी का किनारा, ये चंचल हवा…ये गाना लिखकर एक युवक ने आत्महत्या कर लिया। युवक का शव उसके ही कमरे में तीन दिनों बाद तब बरामद किया गया जब कमरे से बदबू आने लगी। कमरे से बदबू आने पर मकान मालिक ने इसकी सूचना पुलिस को दी। घटना यूपी के कानपुर ज‍िले की है।

मौके पर पहुंची पुलिस ने दरवाजा तोड़ शव को बाहर निकाला। यतींद्र का शव फर्श पर पड़ा हुआ था। पुलिस को घटना स्थल से दो पन्नों का सूइसाइड नोट बरामद हुआ है। युवक ने सूसाइड नोट में बहुत ही मार्मिक गीत लिखा है। फॉरेंसिक टीम को मृतक के गले में फंदा मिला है। दावा किया जा रहा है कि यतींद्र ने बेड पर कुर्सी रखकर स्टॉल से पंखे के सहारे फांसी लगाई थी। स्टॉल की गांठ खुलने की वजह से फंदा खुल गया और शव नीचे फर्श पर गिर गया।

लाखों की हुई थी ठगी

बताया गया क‍ि मृतक के साथ नौकरी के नाम पर लाखों की ठगी हुई थी। जिसकी वजह से वह इन दिनों डिप्रेशन में था। जानकारी के मुताब‍िक, मूलरूप से लखनऊ बालागंज आजाद नगर में रहने वाले यतींद्र कानपुर में कल्यानपुर के सत्यम विहार में किराय का कमरा लेकर परिवार के साथ रहता था। यतींद्र के परिवार में पत्नी और पांच महीने का बेटा था। यतींद्र की पत्नी एक हफ्ते पहले बच्चे को लेकर लखनऊ गई थी। यतींद्र पान की गुमटी पर बैठता था।

कमरे से आ रही थी बदबू

मकान मालिक अमित पांडेय ने बताया कि यतींद्र के कमरे का दरवाजा बीते शनिवार से बंद था। शनिवार के बाद से यतींद्र कमरे के बाहर नहीं देखा गया था। बीते सोमवार को कमरे से तेज बदबू आ रही थी। दरवाजा खटखटाया गया, तो अंदर से किसी तरह की आहट नहीं मिली। इसकी सूचना पुलिस को दी।

सूसाइड नोट में बयां किया दर्द

यतींद्र ने आत्महत्या करने से पहले सूसाइड नोट में दर्द बयां किया है। यतींद्र ने इसकी शुरुआत ‘ये रातें, ये मौसम, नदी का किनारा, ये चंचल हवा’ गाने से किया। यतींद्र ने सूसाइड नोट में लिखा है कि राजकिशोर ने नौकरी लगवाने के नाम पर तीन लाख रुपए लिए थे। इसके बाद उसकी पत्नी माया ने भी बातों में फंसाकर तीन लाख रुपए और ले लिए। इसके साथ ही राज किशोर के एक साथी अरविंद ने ढाई लाख रुपए कल्याण विभाग में नौकरी लगवाने के नाम पर ले लिया। यतींद्र ने आगे लिखा कि मैंने अपने दोस्त सूरज गंगवार से पांच हजार रुपए उधार लिए थे। सूरज के भैया-भाभी पुलिस में है, उधारी नहीं चुकता कर पाने की वजह से पुलिस का खौफ दिखाता था और पूरे परिवार को परेशान करता था।

सूसाइड नोट के आधार पर होगी जांच

कल्यानपुर इंस्पेक्टर वीर सिंह का कहना है कि शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा गया है। परिजनों की तहरीर और सूसाइड नोट के आधार पर जांच की जाएगी।

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!