spot_img
spot_img

गैंगस्टर राजू ठेहट की गोली मारकर हत्या, सीकर में घर के बाहर ही गोलियों से भूना

कुख्यात गैंगस्टर राजू ठेहट की शनिवार सुबह सीकर के उद्योग नगर थाना क्षेत्र में एक कोचिंग इंस्टिट्यूट के पास उसके घर के बाहर ही गोली मारकर हत्या कर दी गई है।

निधि राजदान ने NDTV छोड़ा

Jaipur/Sikar(Rajasthan): कुख्यात गैंगस्टर राजू ठेहट की शनिवार सुबह सीकर के उद्योग नगर थाना क्षेत्र में एक कोचिंग इंस्टिट्यूट के पास उसके घर के बाहर ही गोली मारकर हत्या कर दी गई है। ठेहट का घर शहर के पीपराली रोड पर है। यही पर फायरिंग हुई है। जानकारी के अनुसार उसकी मौके पर ही मौत हो गई। बदमाशों ने मौके पर मौजूद ठेहट के एक रिश्तेदार की भी मोली मार कर हत्या कर दी। इस बीच चार बदमाशों के भी सीसीटीवी फुटेज सामने आए हैं, जिसमें वे हथियारों के साथ भागते नजर आ रहे हैं।

फायरिंग की जानकारी मिलते ही सीकर एसपी कुंवर राष्ट्रदीप सहित बड़े पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंच गए है। एसपी ने कुंवर राष्ट्रदीप ने हत्या की पुष्टि करते हुए बताया कि ठेहट पर पचास से साठ राउंड फायर किये गये हैं। जिले भर में नाकाबंदी के साथ अपराधियों को ढूंढने के लिए बीस टीमों का गठन किया गया है।उन्होंने बताया कि बदमाशों ने घटना के बाद रास्ते में एक आल्टो कार को रुकवाया और उसके मालिक को सडक पर उतार कर कार लूट फरार हो गए।  

रोहित गोदारा ने ली हत्या की जिम्मेदारी

सीकर जिले में सबसे बड़े गैंगस्टर माने जाने वाले राजू ठेहट की गोली मारकर हत्या के मामले में पुलिस हमलावरों के बारे में सुराग जुटा ही रही थी कि लॉरेंस बिश्नोई ग्रुप के रोहित गोदारा ने सोशल मीडिया पर पोस्ट करते हुए इस हत्या की जिम्मेदारी ले ली। रोहित गोदारा ने अपनी पोस्ट में इस बात का जिक्र किया है कि राजू ठेहट ने गैंगस्टर आनंदपाल और बलवीर बानूड़ा की हत्या की थी, जिसके चलते बदला लेने के लिए आज उसकी हत्या की गई है। 

सीसीटीवी में कैद हुई पूरी वारदात

सीकर के पिपराली रोड स्थित एक हॉस्टल के बाहर गेट पर राजू ठेहट खड़ा था, जहां चार युवक आए और एक युवक उसके पास जाकर उससे बात करने लगा। वारदात का जो सीसीटीवी फुटेज सामने आया है उसमें साफ दिखाई दे रहा है कि किस तरह पहले युवकों ने राजू से बात की और फिर पास खड़े युवक ने सबसे पहले उस पर गोली चलाई। फिर उसे घसीट कर गेट से बाहर रैंप पर गिरा दिया और बाकी तीन बदमाशों ने भी उसके बाद उस पर ताबड़तोड़ गोलियां बरसाई। ठेहट के साथ वहां उसका एक रिश्तेदार भी मौजूद था। वह ठेहट पर गोलियां चलाने का मोबाइल पर वीडियो बनाने का प्रयास कर रहा था तभी हमलावरों ने उसके पैरों में गोली मार दी। जब वह भागने लगा तो बदमाशों ने उसकी भी गोली मार कर हत्या कर दी। हत्या करने के बाद चारों बदमाश पास की गली में से होते हुए गुजरे और इस दौरान गोलियों की आवाज सुन कोचिंग करने जा रहे छात्रों में भी भगदड़ मच गई। चारों बदमाशों के हाथ में हथियार देखकर छात्र सहम गए और खुद को बचाने के लिए इधर-उधर भागने लगे। वारदात को अंजाम देने के बाद फरार होते वक्त बदमाशों ने हवाई फायर कर इलाके में दहशत फैलाई।

दो गैंग में वर्चस्व की लड़ाई

ठेहट की गैंग शेखावाटी में काफी सक्रिय थी और आनंदपाल गैंग से भी उसकी दुश्मनी थी। आनंदपाल के एनकाउंटर के बाद भी दोनों गैंग में वर्चस्व की लड़ाई जारी थी। राजू ठेहट सीकर के बाद जयपुर में अपनी जड़ें मजबूत करना चाहता था। इसी मकसद से उसने जयपुर को अपना सुरक्षित ठिकाना बना लिया था। विवादित जमीनों और सट्टा कारोबारियों पर भी राजू ठेहट की नजरें थी। महेश नगर थाना पुलिस ने शांति भंग के आरोप में गिरफ्तार किया था। इसके बाद राजू ठेहट वापस सीकर शिफ्ट हो गया था।

गैंगस्टर्स राजू ठेहट लग्जरी लाइफ जीने का शौकीन था। वह महंगी कार और बाइक पर काफिले के साथ घूमता है। गैंगस्टर राजू ठेहट को सीकर बॉस के नाम से बुलाया जाने लगा है। जयपुर जेल में बंद रहने के दौरान अपनी गैंग को बढ़ाने के मकसद से जयपुर में भी अपना ठिकाना बनाया। उसे जयपुर के स्वेज फार्म में जिस मकान से पकड़ा, उसकी कीमत 3 करोड़ रुपए बताई जा रही है। दरअसल,राजस्थान में गैंगस्टर्स आनंदपाल सिंह और राजू ठेहट में करीब दो दशक वर्चस्व की लड़ाई चली थी। आनंदपाल के एनकाउंटर के बाद राजू ठेहट का वर्चस्व हो गया। जेल में बंद होने के दौरान भी उसके फिरौती मांगकर संरक्षण देने के कई मामले सामने आए थे। राजू ठेहट गैंग परिवार से लोग गैंगस्टर के साथ जुड़ रहे हैं।

गैंगस्टर राजू ठेहट ने अपना वर्चस्व तो बना लिया। लोगों में सक्रिय रहने के लिए वह रील बनाकर सोशल मीडिया पर भी डालता रहता था। महंगी कार और बाइक का शौकीन राजू ठेहट जयपुर स्थित अपने ठिकाने पर कई बार घूमते नजर आया है। कभी अकेले बाइक राइडिंग तो कभी नई लग्जरी कार राइड करते हुए वीडियो शूट किए। अपने गनमैन और कारों के काफिले के साथ रील बनाकर सोशल मीडिया पर डाले हैं। नौ महीने पहले जयपुर में ठेहट के साथ उसके चार साथियों को भी पकड़ा था। जिसमें उसके तीन गनमैन और एक रसोइया भी थे। करीब 3 महीने पहले जमानत पर जेल से बाहर आने के बाद राजू ठेहट गैंग को बढ़ाने में लगा है। 

सोशल मीडिया पर सक्रिय राजू ठेहट की भरतपुर के जिला प्रमुख राजवीर, जयपुर के सांगानेर पंचायत समिति के ग्राम पंचायत पवालियां सरपंच रामराज चौधरी और चाकसू विधानसभा यूथ कांग्रेस अध्यक्ष कैलाश चौधरी के साथ फोटो शेयर कर रखी थी। माना जा रहा है कि राजू ठेहट राजनीति में जल्द से जल्द सक्रिय होना चाहता था। ऐसे में वह पहले से राजनीति में सक्रिय अपने परिचितों से संपर्क साध कर चर्चा करता रहता था। मीटिंग के दौरान शूट किए फोटो भी चर्चा में बने रहते थे। बदमाशों की टोली के साथ घूमने, खाने-पीने की फोटो भी राजू ठेहट ने शूट कर शेयर करता था।

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!