spot_img

Jharkhand: कोरोना से अनाथ हुए बच्चों के भरण-पोषण के लिए JHALSA ने लांच किया शिशु योजना

झालसा द्वारा सभी जिला विधिक सेवा प्राधिकार (DLSA) को यह निर्देशित किया गया है कि वे अपने जिले में ऐसे बच्चों का चयन करें जिनके माता-पिता की कोरोना के कारण मृत्यु हो गई है।

रांची: झारखंड राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण (JHALSA) के कार्यपालक अध्यक्ष जस्टिस अपरेश कुमार सिंह ने शिशु योजना लांच की है। यह स्किम ऐसे बच्चों के लिए लांच की गई है, जिनके माता-पिता का निधन कोविड-19 के कारण हो गया है और उनके भरण-पोषण एवं अन्य जरूरतें पूरी नहीं हो पा रही है। जस्टिस अपरेश कुमार सिंह ने यह योजना आज ऑनलाइन लांच की है।

झालसा द्वारा सभी जिला विधिक सेवा प्राधिकार (DLSA) को यह निर्देशित किया गया है कि वे अपने जिले में ऐसे बच्चों का चयन करें जिनके माता-पिता की कोरोना के कारण मृत्यु हो गई है। ताकि जिला प्रशासन के सहयोग से इन बच्चों को शिशु योजना के तहत लाभ दिलाया जाए।

बैठक के बाद लिया गया फैसला

पूरे झारखंड से ऐसे कई मामले प्रकाश में आए हैं, जिनमें बच्चों के माता-पिता का निधन कोविड-19 के कारण हो गया था और उनके भरण-पोषण में दिक्कतें आ रही थी। इसी को ध्यान में रखते हुए जस्टिस अपरेश कुमार सिंह ने राज्य के सभी समाज कल्याण पदाधिकारी, बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष एवं जिला विधिक सेवा प्राधिकार के सचिव की एक बैठक बुलाई थी और ऐसे मामलों को चिन्हित किया था। बैठक में महिला एवं समाज कल्याण सचिव अविनाश कुमार सहित कई वरीय पदाधिकारी शामिल हुए थे। बैठक में एक कार्य योजना तैयार की गई थी कि ऐसे बच्चों को समुचित सहायता प्रदान की जाए और उनके पुनर्वास के संबंध में रणनीति बनाई जाए, ताकि‍ इन बच्चों का सर्वांगीण विकास हो सके। उसके बाद झालसा की ओर से सोमवार को शिशु योजना लांच की गई है।

इस स्कीम के लांच होने के अवसर पर झारखंड के सभी जिला न्यायाधीश, जिला विधिक सेवा प्राधिकार के सभी सचिव वर्चुअल माध्यम से जुड़े हुए थे।

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!