spot_img
spot_img

दिल्ली ट्रैक्टर परेड में गुम हुआ युवक साढ़े सात माह बाद लौटा घर

गांव कंडेला निवासी 28 वर्षीय युवक बिजेंद्र उर्फ बंडी गत 26 जनवरी की किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान दिल्ली में गुम हो गया था।

जींद: गांव कंडेला निवासी 28 वर्षीय युवक बिजेंद्र उर्फ बंडी गत 26 जनवरी की किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान दिल्ली में गुम हो गया था। वह करीब साढ़े सात माह बाद शनिवार देर रात घर लौट आया है। उसे आश्रय अधिकार अभियान संस्था के लोग घर छोड़कर गए हैं। बेटे के गायब होने से परिजनों का बुरा हाल था।

आश्रय अधिकार अभियान संस्था के कार्डिनेटर साजन लाल ने बताया कि बिजेंद्र उन्हें फरवरी में कश्मीरी गेट के पास फ्लाइओवर के नीचे नग्न अवस्था में मिला था। उसके पैरों में सूजन आई हुई थी और शरीर पर भी काफी चोट के निशान थे।

उसकी मानसिक स्थिति सही नहीं थी। संस्था ने उसे उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती कराया। जहां अपने बारे में सही से नहीं बता पा रहा था। कुछ दिन पहले ही उसने अपने घर वालों के बारे में बताया। जिसके बाद वे शनिवार को उसे घर छोड़ कर गए हैं। अब भी उसका उपचार जारी है।

बिजेंद्र की तलाश के लिए 11 जून को काफी संख्या में कंडेला गांव के ग्रामीण तत्कालीन डीसी डा. आदित्य दहिया से मिले थे और बिजेंद्र का सुराग लगाने की मांग की थी कि वो किसी जेल में है या बीमार है। उसके बाद पुलिस ग्रामीणों को साथ लेकर बिजेंद्र को ढूंढऩे के लिए दिल्ली भी गई थी।

इसके साथ ही बिजेंद्र की विधवा बूढ़ी मां संतोष अपने बेटे की राह देख रही थी। अधिकारियों से रोते हुए ढूंढऩे की फरियाद लगाते हुए कहती कि जिसका जवान कमाने वाला बेटा लापता होए उसका क्या हाल होगा। तीन जून को जब किसान नेता राकेश टिकैत जींद में आए थे तब संतोष उनसे मिली थी और बेटे को तलाश करने की गुहार लगाई थी।

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!