spot_img

भारतीय सेना से रिटायर कर्नल के साथ करोड़ों की ठगी, आरोपित बंगाल से गिरफ्तार

भारतीय सेना से सेवानिवृत्त हुए कर्नल (Colonel retired from Indian Army) के साथ 2.40 करोड़ की ठगी (cheating) करने के आरोप में दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा ने एक आरोपित को पश्चिम बंगाल से गिरफ्तार किया है।

New Delhi: भारतीय सेना से सेवानिवृत्त हुए कर्नल (Colonel retired from Indian Army) के साथ 2.40 करोड़ की ठगी (cheating) करने के आरोप में दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा ने एक आरोपित को पश्चिम बंगाल से गिरफ्तार किया है। पकड़े गए आरोपितों की पहचान जॉयजीत सरकार के रूप में हुई है। पीड़ित सेवानिवृत्त कर्नल ने इंश्योरेंस पॉलिसी के नाम पर 20 लाख रुपये निवेश किया था। लेकिन उनको किसी वजह से रुपयों की जरूरत पड़ी तो उन्होंने अपनी पॉलिसी को मैच्योर होने से पूर्व ही तोड़ने का प्रयास किया।

इस क्रम में वह ठगों के जाल में फंस गए। पहले उन्होंने 50 लाख रुपये गंवाए। इसके बाद धीरे-धीरे आरोपितों ने उनसे 2.40 करोड़ रुपये ठग लिये। यहां तक पीड़ित ने अपने रिश्तेदारों और जानकारों से कर्जा लेकर आरोपितों को रुपये दिए। पुलिस पकड़े गए आरोपित से पूछताछ कर उसके बाकि साथियों की तलाश कर रही है।

आर्थिक अपराध शाखा की संयुक्त आयुक्त छाया शर्मा ने बताया कि 18 अक्टूबर 2018 में रिटायर्ड कर्नल रघुजीत सिंह ने आर्थिक अपराध शाखा में 2.40 करोड़ रुपये ठगे जाने की शिकायत की थी। पीड़ित ने बताया कि 2010 से पूर्व उन्होंने इंश्योरेंस के नाम पर 20 लाख रुपये निवेश किए थे। उनको रुपयों की जरूरत हुई तो उन्होंने पॉलिसी को बीच में ही तुड़वाने का फैसला किया। 2012-13 में रघुजीत ने फोन पर किसी ओपी राठौर से बातचीत की।

आरोपित ने उनकी पॉलिसी की रकम जल्द दिलवाने का वादा किया। आरोपित ने पॉलिसी की रकम दिलवाने के बजाए उल्टा 50 लाख रुपये निवेश के नाम पर ठग लिये। इस बीच 2017 में अजय अवस्थी नामक अन्य आरोपित ने कॉल कर ठगी की बाकी रकम को जल्द दिलवाने की बात की।

अलग-अलग मदों में उनसे रुपये वसूलना शुरू कर दिया। इसके अलावा कई अन्य लोगों ने ऐसा ही कर पीड़ित से कुल 2.40 करोड़ रुपये ठग लिये। काफी समय बाद रघुजीत सिंह ने पुलिस से शिकायत की। पुलिस ने मामला दर्ज कर आरोपितों की तलाश शुरू की। पीड़ित ने पुलिस को बताया कि उसने आरोपियों पर भरोसा करके अपने रिश्तेदारों व जानकार लोगों से उधार लेकर भी इनको दिया था।

जांच के बाद पुलिस ने उन बैंक खातों का पता किया, जिनमें ठगी की रकम ट्रांसफर हुई थी। इन सभी खातों का संबंध किसी जॉयजीत सरकार नामक शख्स से था। आरोपित ने फर्जी कागजातों के आधार पर दिल्ली में अलग-अलग जगहों के नाम से बैंक खाते खोले हुए थे। पुलिस ने उसकी काफी तलाश की। आठ मार्च को टेक्निकल सर्विलांस की मदद से पुलिस को पता चला कि आरोपी जॉयजीत सरकार, पश्चिम बंगाल के केसटोपुर, कोलकाता में छिपा है। एक टीम को तुरंत वहां भेजकर उसे गिरफ्तार कर लिया।

आरोपित को वहां की अदालत में पेशकर ट्रांजिट रिमांड पर दिल्ली लाया गया। पूछताछ के दौरान आरोपी ने बताया कि उसने पंजाब टेक्निकल विश्वविद्यालय से बीटेक किया था। इसके बाद उसने दिल्ली की एक कंपनी में इंजीनियर की नौकरी की थी। बाद में आरोपित ने साकेत, दिल्ली से डिजीटल मार्केटिंग का कोर्स किया था। फिलहाल वह शेयर मार्केट और क्रिप्टो करेंसी का काम कर रहा था। पुलिस आरोपित से पूछताछ कर उसके बाकी साथियों की तलाश करने का प्रयास कर रही है।

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!