spot_img
spot_img

आवश्यक वस्तुओं की कीमतों में बेतहाशा वृद्धि आम आदमी की जेब पर पड़ रही भारी

वे दिन गए, जब परिवार के कमाने वाले हर महीने की शुरुआत में आवश्यक वस्तुओं को खरीदने के लिए एक निश्चित राशि की गणना और आवंटन करते थे, यहां तक कि अन्य वस्तुओं और सेवाओं पर अपने खर्च को समायोजित करके भी। 

निधि राजदान ने NDTV छोड़ा

New Delhi: वे दिन गए, जब परिवार के कमाने वाले हर महीने की शुरुआत में आवश्यक वस्तुओं को खरीदने के लिए एक निश्चित राशि की गणना और आवंटन करते थे, यहां तक कि अन्य वस्तुओं और सेवाओं पर अपने खर्च को समायोजित करके भी। 

अब परिदृश्य काफी अलग है। दो या तीन सदस्यों के साथ भी एक एकल परिवार को खाद्य तेल, दाल, दूध, पेट्रोलियम इत्यादि जैसी आवश्यक वस्तुओं पर खर्च करने पर खर्च को नियंत्रित करना मुश्किल हो रहा है।

मुद्रास्फीति में वृद्धि के साथ औसत भारतीय परिवारों की क्रय शक्ति में भी कमी आई है।

38 वर्षीय गृहिणी राधा कुमारी ने कहा, “दो साल पहले तक केवल मेरे पति काम कर रहे थे और पांच लोगों के परिवार को बनाए रखने के लिए दाल, चावल, गेहूं और आटा जैसी बुनियादी चीजें खरीदना हमारे लिए मुश्किल था। हालांकि मेरी बड़ी बेटी अब कमा रही है, लेकिन इससे वास्तव में कोई फर्क नहीं पड़ा है, क्योंकि कीमतें काफी बढ़ गई हैं। एक सप्ताह का अतिरिक्त आवश्यक सामान खरीदना भी अब कठिन लगता है।”

एक कामकाजी जोड़े, जिनकी 10 साल पहले शादी हुई थी और हाल ही में उनके घर एक बच्चे का जन्म हुआ है, ने साझा किया कि जब वे नवविवाहित थे, तो वे एक सप्ताह में 2,000 रुपये खर्च करते थे, लेकिन अब किराने का खर्च दोगुना हो गया है।

अपने बेटे के जन्म के साथ जो खर्चो में जुड़ गया है, वे बढ़ती कीमतों के कारण आवश्यक वस्तुओं के लिए भी अपने खर्च को कम करने की कोशिश कर रहे हैं।

इस साल भारत में महंगाई ने निश्चित रूप से कहर बरपाया है। इस साल देश की अर्थव्यवस्था को आकार देने वाले जीडीपी विकास दर, विदेशी मुद्रा भंडार, आयात-निर्यात आदि जैसे शीर्ष आठ मापदंडों में यह देखा गया है कि बढ़ती मुद्रास्फीति अर्थव्यवस्था को प्रभावित करने वाले प्रमुख कारकों में से एक रही है।

सीधे शब्दों में कहा जाए तो मुद्रास्फीति वस्तुओं और सेवाओं की लागत में वृद्धि की दर है। भारत में इसकी गणना साल-दर-साल की जाती है, जो एक महीने की कीमतों की तुलना एक साल पहले उसी महीने से करती है। यह दर हमें यह अनुमान लगाने की अनुमति देती है कि समय के साथ रहने की लागत में कितनी वृद्धि होगी।

दो बच्चों की मां मीनाक्षी (46), जिनके पति कार चालक के रूप में काम करते हैं, ने आईएएनएस को बताया कि कुछ समय पहले, भोजन के खर्च को पूरा करने के लिए 5,000 रुपये पर्याप्त थे। अब उनकी जरूरतों को पूरा करने के लिए 10,000 रुपये भी एक चुनौतीपूर्ण राशि है।

मीनाक्षी ने कहा, “जो दाल 60-80 रुपये किलो बिकती थी, वह अब 130-150 रुपये प्रति किलो बिक रही है, जो लगभग दोगुनी है।” 

मीनाक्षी ने कहा, “प्याज की कीमत कितनी बेतुकी है! 25 रुपये किलो से कम में बेचने वाला कोई नहीं मिलेगा। पहले टमाटर 10 रुपये किलो बिकता था अब 10 रुपये में एक किलो आलू भी नहीं मिलता है।”

खाना पकाने के तेल जैसी आवश्यक चीज के बारे में उन्होंने कहा : “पहले मैं हर दिन दो सब्जियां बनाती थी, लेकिन अब मैं एक ही सब्जी बनाती हूं, क्योंकि रिफाइंड तेल, जो मैं 70-80 रुपये में खरीदती थी, अब लगभग 200 रुपये में बिकता है।”

वित्तवर्ष 2000-01 में अरहर की दाल की कीमत 1,800 रुपये प्रति क्विंटल थी। वित्तवर्ष 2022 में इसकी कीमत 5,820 रुपये प्रति क्विंटल है, 21 वर्षो में कीमत में 224 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

इसी तरह, चना (चना) की कीमत वित्तवर्ष 2000-01 में 1,400 रुपये प्रति क्विंटल से 263 प्रतिशत बढ़कर वित्तवर्ष 2022 में 5,090 रुपये प्रति क्विंटल हो गई है।

समीक्षाधीन अवधि के दौरान मसूर (मसूर), हरा चना (मूंग), और काला चना (उड़द) की कीमत क्रमश: 340 प्रतिशत, 253 प्रतिशत और 264 प्रतिशत बढ़ी है।

सीधे शब्दों में कहा जाए तो 2001 में 1000 रुपए में 59 किलो उड़द मिलती थी, अब इतने ही दाम में 16 किलो उड़द ही खरीद सकते हैं।

दिल्ली में अब पेट्रोल की कीमत 98 रुपये प्रति लीटर है, जबकि वित्तवर्ष 2002-03 में यह 233 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 29.5 रुपये प्रति लीटर पर उपलब्ध था।

वित्तवर्ष 2002-03 में डीजल की कीमत 19 रुपये प्रति लीटर थी, जो अब बढ़कर 89.6 रुपये प्रति लीटर हो गई है, जो कि 19 वर्षो में लगभग 360 प्रतिशत की वृद्धि है।

सरल शब्दों में, एक उपभोक्ता 2003 में 1,000 रुपये में 52 लीटर डीजल खरीद सकता था, जो 2022 में घटकर 11 लीटर रह गया है।

सांख्यिकी और कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, मार्च 2021 की तुलना में मार्च 2022 में खाद्य कीमतें 7.68 प्रतिशत अधिक थीं। भारत में एक विशिष्ट परिवार द्वारा उपभोग किए जाने वाले खाद्य पदार्थो की कीमत 2019 में इसी अवधि की तुलना में 9.5 प्रतिशत अधिक थी। (IANS)

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!