spot_img
spot_img

Ukraine Crisis: Russian Parliament ने दी Armed Forces के इस्तेमाल को मंजूरी

रिपोर्ट के अनुसार रूस के संसद के ऊपरी सदन ने देश के बाहर सशस्त्र बलों के उपयोग को मंजूरी दे दी है।

Moscow: रूसी संसद ने सशस्त्र बलों के इस्तेमाल को मंजूरी दे दी है। यह मंजूरी रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के अलगाववादी-नियंत्रित पूर्वी यूक्रेन के डोनबास क्षेत्र में डोनेट्स्क और लुहान्स्क क्षेत्रों की स्वतंत्रता को मान्यता देने वाले एक डिक्री पर हस्ताक्षर करने के एक दिन बाद दिया है। रिपोर्ट के अनुसार रूस के संसद के ऊपरी सदन ने देश के बाहर सशस्त्र बलों के उपयोग को मंजूरी दे दी है।

जर्मनी के चांसलर ओलाफ शुल्ज स्कोल्ज़ ने मंगलवार को यह भी घोषणा की कि रूस से नॉर्ड स्ट्रीम 2 गैस पाइपलाइन के प्रमाणीकरण को रोक रहा है। वहीं ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने कहा कि यूनाइटेड किंगडम ने पांच रूसी बैंकों और तीन धनी व्यक्तियों पर प्रतिबंध लगा रहा है।

कई दिनों से जताई जा रही है हमले की आशंका

पिछले कई दिनों से आशंका जताई जा रही है कि ‘रूस किसी भी समय’ यूक्रेन पर हमला कर सकता है। लेकिन इसी बीच अमेरकी रक्षा मंत्रालय ने सोमवार को दावा किया कि रूस ‘आज’ यूक्रेन पर हमला कर सकता है। पुतिन ने सोमवार को कहा कि उन्हें अब ऐसा नहीं लगता कि फ्रांस, जर्मनी और कीव के साथ सहमत 2015 की एक महत्वपूर्ण योजना यूक्रेन के अलगाववादी संघर्ष को हल करने में सक्षम होगी।

एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक पुतिन ने अपनी सुरक्षा परिषद को बताया कि हम समझते हैं कि 2015 मिन्स्क शांति समझौते के कार्यान्वयन के लिए कोई संभावना नहीं है। इस समझौते पर बेलारूस की राजधानी में यूक्रेन की सेना और रूस समर्थित विद्रोहियों के बीच लड़ाई को खत्म करने के लिए सहमति बनी थी।

एक रिपोर्ट के मुताबिक पेंटागन के प्रवक्ता जॉन किर्बी ने कहा कि हम लंबे समय से कह रहे हैं कि रूस किसी भी वक्त हमला करता है और उदाहरण के तौर पर यह हमला आज भी हो सकता है। आपको बता दें कि अमेरिकी रक्षा मंत्रालय से यह दावा तब हो रहा है जब रूस और यूक्रेन के बीच जारी संघर्ष को लेकर राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने पूर्वी यूक्रेन में रूस समर्थित क्षेत्रों की स्वतंत्रता को मान्यता देने पर विचार-विमर्श करने के लिए सोमवार को शीर्ष अधिकारियों की बैठक बुलाई।

राष्ट्रपति की सुरक्षा परिषद की बैठक ऐसे समय पर बुलाई गई है, जब पश्चिमी देशों को इस बात का डर है कि रूस किसी भी समय यूक्रेन पर हमला कर सकता है और वह पूर्वी यूक्रेन में झड़पों को, हमले करने के लिए बहाने के तौर पर इस्तेमाल कर सकता है।

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!