spot_img
spot_img

Coronavirus: ईरान में Covid से हर 2 मिनट में हो रही 1 मौत

ईरान में कोरोना संक्रमण की पांचवीं और अब तक की सबसे बड़ी लहर ने तबाही मचा दी है। देश के सभी अस्पताल मरीजों से भर गए हैं।

Budget 23-24 में नहीं चमका सोना

तेहरान: ईरान में कोरोना संक्रमण की पांचवीं और अब तक की सबसे बड़ी लहर ने तबाही मचा दी है। देश के सभी अस्पताल मरीजों से भर गए हैं। अस्पताल की फर्श और पार्किंग में मरीजों का इलाज करना पड़ा रहा है। ऑक्सीजन की कमी हो गई है। बेड नहीं मिलने पर अस्पताल के बाहर निजी वाहन खड़े कर परिजन अपने मरीजों का इलाज करा रहे हैं और तो और देश में वैक्सीन की भी भारी कमी है।

अस्पतालों में डॉक्टर, नर्स और अन्य मेडिकल स्टाफ अब तक के सबसे बुरे दौर से गुजर रहे हैं। यहां एक दिन में मिलने वाले नए मरीजों का आंकड़ा 40 हजार को पार कर गया है। साथ ही एक दिन में रिकॉर्ड 600 मौतें हो रही हैं।

एक रिपोर्ट में दावा किया गया है कि 8.30 करोड़ की आबादी वाले ईरान में कोरोना से हर दो मिनट में एक मौत हो रही है। लगातार बढ़े मामलों को देखते हुए ईरान में एक हफ्ते का लॉकडाउन लगा दिया गया है।

डेल्टा वैरिएंट के कारण मरीज तेजी से बढ़े

ईरान के स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, देश में कोरोना के डेल्टा वैरिएंट के कारण मरीज तेजी से बढ़े हैं। देश में पिछले एक हफ्ते हर दिन 39 हजार से 40,800 तक नए मामले मिल रहे हैं। ईरान में अब तक 43.90 लाख से ज्यादा मरीज सामने आ चुके हैं। 97200 से ज्यादा मरीजों की मौत हो चुकी है। जबकि 37 लाख से ज्यादा मरीज ठीक हो चुके हैं।

तेहरान की वायरस टास्क फोर्स के डिप्टी हेड नादिर तावाकोली ने कहा कि हम यह अंदाजा नहीं लगा सकते हैं कि कोरोना की पांचवीं लहर कितना कहर बरपाएगी। तेहरान के अस्पतालों और इमरजेंसी वार्ड्स में अब लोगों को एडमिट करने के लिए जगह नहीं बची है।

वैक्सीनेशन से राहत की उम्मीद

उम्मीद है कि टीकाकरण में तेजी आने से कोरोना संकट में कमी आएगी, लेकिन फरवरी से शुरू हुए वैक्सीनेशन की रफ्तार धीमी है। इसके चलते चिंताएं और ज्यादा बढ़ गई हैं। अमेरिकी प्रतिबंधों के चलते ईरान की हालत काफी खराब है और वह कोरोना संकट से निपटने के लिए दवाओं का आयात भी नहीं कर पा रहा है। वैक्सीनेशन की रफ्तार कम होने की यह भी एक वजह है।

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!