Global Statistics

All countries
267,667,243
Confirmed
Updated on Wednesday, 8 December 2021, 9:58:09 pm IST 9:58 pm
All countries
239,299,598
Recovered
Updated on Wednesday, 8 December 2021, 9:58:09 pm IST 9:58 pm
All countries
5,291,236
Deaths
Updated on Wednesday, 8 December 2021, 9:58:09 pm IST 9:58 pm

Global Statistics

All countries
267,667,243
Confirmed
Updated on Wednesday, 8 December 2021, 9:58:09 pm IST 9:58 pm
All countries
239,299,598
Recovered
Updated on Wednesday, 8 December 2021, 9:58:09 pm IST 9:58 pm
All countries
5,291,236
Deaths
Updated on Wednesday, 8 December 2021, 9:58:09 pm IST 9:58 pm
spot_imgspot_img

आगरा में 14 दिन की बच्ची को हुआ ब्लैक फंगस, ऑपरेशन सफल

आगरा में 14 दिन की बच्ची को ब्लैक फंगस होने के बाद डॉक्टरों ने सफल ऑपरेशन करके उसकी जान बचा ली है। इतने छोटे बच्चे में ब्लैक फंगस का यह देश का पहला मामला बताया जा रहा है।

आगरा: आगरा में 14 दिन की बच्ची को ब्लैक फंगस होने के बाद डॉक्टरों ने सफल ऑपरेशन करके उसकी जान बचा ली है। इतने छोटे बच्चे में ब्लैक फंगस का यह देश का पहला मामला बताया जा रहा है। एसएन मेडिकल कॉलेज के नोडल अधिकारी डॉ. अखिल प्रताप ने बताया कि हाथरस निवासी एक परिवार में 14 दिन पूर्व इस बच्ची का जन्म हुआ था। जन्म के बाद बच्ची की तबीयत खराब थी और उसे निजी अस्पताल के एनआईसीयू में भर्ती किया गया था। इस दौरान बच्ची के गाल पर काला दाग नजर आ रहा था। शनिवार को बच्ची के परिजन उसे लेकर आगरा के एसएन मेडिकल कॉलेज लाए थे।

बच्ची की हालत को देखते हुए डॉक्टरों ने उसे भर्ती कर लिया और ऑपरेशन की बात कही।परिजनों की रजामंदी के बाद सोमवार को उसका सफल ऑपरेशन किया गया। 
उन्होंने बताया कि बच्ची की आंख का ऑपरेशन मेडिकल कॉलेज के ईएनटी विभाग की टीम ने किया। बच्ची अब खतरे से बाहर है। विशेषज्ञ डॉक्टर उसकी देखरेख कर रहे हैं। कोविड की दूसरी लहर में पोस्ट कोविड कॉम्प्लिकेशन के दौरान फंगस की बीमारी के मरीज सामने आ रहे हैं। पूरे देश में इतनी कम उम्र की बच्ची का यह पहला मामला सामने आया है। बच्ची फिलहाल बीमारी से मुक्त है पर अभी उसका विशेष ध्यान रखा जा रहा है। 

बच्ची के संपर्क में लगातार रहने के चलते निजी अस्पताल और परिवार के लोगों को जरूरी हिदायत दी गई है। वर्तमान में एसएन मेडिकल कॉलेज में फंगस के 40 मरीज भर्ती हैं जिनमें से 32 में पुष्टि हो चुकी है और 8 मामले अभी संदिग्ध हैं। डॉ. अखिल प्रताप ने बताया कि बच्ची की तबीयत ठीक हो जाने के बाद एक और सर्जरी की जाएगी। उसकी उम्र अभी बहुत कम है, इसलिए सर्जरी के बाद बड़े होने पर उसके चेहरे पर न के बराबर निशान ही रहेंगे। 

Leave a Reply

spot_img

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!