Global Statistics

All countries
232,528,287
Confirmed
Updated on Monday, 27 September 2021, 12:22:49 am IST 12:22 am
All countries
207,424,432
Recovered
Updated on Monday, 27 September 2021, 12:22:49 am IST 12:22 am
All countries
4,760,548
Deaths
Updated on Monday, 27 September 2021, 12:22:49 am IST 12:22 am

Global Statistics

All countries
232,528,287
Confirmed
Updated on Monday, 27 September 2021, 12:22:49 am IST 12:22 am
All countries
207,424,432
Recovered
Updated on Monday, 27 September 2021, 12:22:49 am IST 12:22 am
All countries
4,760,548
Deaths
Updated on Monday, 27 September 2021, 12:22:49 am IST 12:22 am
spot_imgspot_img

इतिहास के पन्नों मेंः 11 सितंबर

11 सितंबर 1893... जब शिकागो में आयोजित विश्व धर्म महासभा में स्वामी विवेकानंद ने दुनिया के सामने भारतीय संस्कृति और दर्शन की विशिष्टता रखते हुए ऐसी छाप छोड़ी, जिसके बाद भारतीय ज्ञान और मूल्यों की संपदा का विश्व ने लोहा माना।

शिकागो में स्वामी जीः 11 सितंबर 1893… जब शिकागो में आयोजित विश्व धर्म महासभा में स्वामी विवेकानंद ने दुनिया के सामने भारतीय संस्कृति और दर्शन की विशिष्टता रखते हुए ऐसी छाप छोड़ी, जिसके बाद भारतीय ज्ञान और मूल्यों की संपदा का विश्व ने लोहा माना। उन्होंने अपने व्याख्यान में धर्म और राष्ट्र की व्याख्या करते हुए कहा ‘मुझे गर्व है कि मैं ऐसे धर्म से संबंध रखता हूं, जिसने दुनिया को सहिष्णुता और सार्वभौमिक स्वीकृति दोनों सिखाया है। मुझे गर्व है कि मैं ऐसे राष्ट्र से हूं, जिसने सभी धर्म और सभी देशों के शरणार्थियों को शरण दी।’

11 सितंबर से 27 सितंबर तक 17 दिनों चलने वाले विश्व धर्म महासभा में गेरुआ वस्त्रधारी 25 वर्षीय संन्यासी स्वामी विवेकानंद ने छह व्याख्यान दिये। उनमें शून्य पर दिया गया उनका व्याख्यान सुनकर पूरी दुनिया हैरान थी। उन्होंने धर्म के असली स्वरूप को पहचानने की जरूरत बताते हुए आगाह किया कि धर्म के नाम पर दुनिया में सबसे अधिक रक्तपात हुआ। कट्टरता और सांप्रदायिकता को उन्होंने मानवता का सबसे बड़ा दुश्मन बताया। उन्होंने कहा कि सहनशीलता का विचार पूरब के देशों से आया और दुनिया में फैला। उन्होंने धर्मसभा की महत्ता बताते हुए गीता के उपदेश का उल्लेख किया- जो भी मुझ तक आता है, चाहे वह कैसा भी हो, मैं उस तक पहुंचता हूं। लोग अलग-अलग रास्ते चुनते हैं, परेशानियां उठाते हैं लेकिन आखिर में मुझ तक पहुंचते हैं।

सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए वे कुछ सप्ताह पहले ही वहां पहुंच गए थे। 31 मई 1893 को मुंबई से विदेश यात्रा की शुरुआत करते हुए वे जापान पहुंचे। जापान में नागासाकी, कोबे, योकोहामा, ओसाका, क्योटो और टोक्यो का दौरा किया। इसके बाद चीन और कनाडा होते हुए अमेरिका के शिकागो शहर पहुंचे। अमेरिका की सर्दी सहन करने के लिए स्वामी जी के पास पर्याप्त कपड़े नहीं थे और न ही सुविधाएं जुटाने के लिए धनराशि। काफी कठिन परिस्थितियों में उन्होंने वह समय गुजारा लेकिन जैसे ही उन्होंने धर्मसभा में अपने विचार रखे, सभी को अहसास हो गया कि विचार के रूप में भारत के पास दुनिया को देने के लिए बहुत कुछ है।

अन्य अहम घटनाएं:

1895: स्वतंत्रता सेनानी और प्रसिद्ध गांधीवादी नेता विनोबा भावे का जन्म।

1906: महात्मा गांधी ने दक्षिण अफ्रीका में सत्याग्रह आंदोलन की शुरुआत की।

1941: अमेरिकी रक्षा मंत्रालय पेंटागन का निर्माण शुरू।

1948: पाकिस्तान के संस्थापक और गवर्नर जनरल मुहम्मद अली जिन्ना का निधन।

1961ः विश्व वन्यजीव कोष की स्थापना।

1971ः मिस्र में संविधान को स्वीकार किया गया।

2001ः अमेरिका में आतंकवादियों ने विमान अपहरण कर न्यूयॉर्क के वर्ल्ड ट्रेड टॉवर की दो इमारतों, वर्जीनिया स्थित पेंटागन और पेंसिलवेनिया पर हमला किया।

2019ः अमेरिका ने प्रतिबंधित संगठन टीटीपी के सरगना नूर वली महसूद पर प्रतिबंध लगाया और उसे वैश्विक आतंकी करार दिया।

Leave a Reply

spot_img

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!