spot_img

देश का पहला निजी रॉकेट विक्रम-एस का प्रक्षेपण आज

देश की पहली प्राइवेट स्पेस कंपनी अंतरिक्ष स्टार्टअप स्काईरूट एयरोस्पेस का रॉकेट विक्रम-एस प्रक्षेपण के लिए तैयार है। अगर सबकुछ ठीक रहा तो विक्रम-एस सुबह 11 बजकर 30 मिनट पर लॉन्च हो जाएगा।

New Delhi: देश की पहली प्राइवेट स्पेस कंपनी अंतरिक्ष स्टार्टअप स्काईरूट एयरोस्पेस का रॉकेट विक्रम-एस प्रक्षेपण के लिए तैयार है। अगर सबकुछ ठीक रहा तो विक्रम-एस सुबह 11 बजकर 30 मिनट पर लॉन्च हो जाएगा। हैदराबाद स्थित स्टार्टअप स्काईरूट एयरोस्पेस को इससे पहले विक्रम-एस का प्रक्षेपण खराब मौसम की वजह से टालना पड़ा था।

देश के पहले प्राइवेट स्पेस कंपनी का रॉकेट विक्रम-एस इसरो के श्रीहरिकोटा लॉन्च पैड से उड़ान भरने को तैयार है। स्टार्टअप स्काईरूट एयरोस्पेस के प्रवक्ता ने बताया कि विक्रम-एस 3 पे-लोड के साथ पृथ्वी की सब-ऑर्बिटल कक्षा में छोटे सैटेलाइट्स को स्थापित करने के लिए भेजा जा रहा है। रॉकेट का नाम विक्रम-एस प्रसिद्ध भारतीय वैज्ञानिक और इसरो के संस्थापक डॉ. विक्रम साराभाई के नाम पर रखा गया है। कंपनी को विक्रम-एस से बेहद उम्मीदें हैं। इस पूरे मिशन को कंपनी ने ‘मिशन प्रारंभ’ नाम दिया है।

विक्रम-एस के सफल प्रशिक्षण से युवाओं के लिए अंतरिक्ष की दुनिया के कई रास्ते खुलेंगे। बताया गया है कि यह सिंगल स्टेज का सब-ऑर्बिटल लॉन्च व्हीकल है और इसके साथ तीन कमर्शियल पेलोड्स भेजे जा रहे हैं। इस लॉन्चिंग में आम ईंधन के बजाय लिक्विड नेचुरल गैस और लिक्विड ऑक्सीजन का इस्तेमाल किया जा रहा है। विक्रम-एस का लॉन्च एक तरह की टेस्ट फ्लाइट होगी। अगर इसमें सफलता मिलती है, तो भारत प्राइवेट स्पेस कंपनी के रॉकेट लॉन्चिंग के मामले में दुनिया के अग्रणी देशों में शामिल हो जाएगा।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने विक्रम-एस को देश की अंतरिक्ष में उड़ान को क्रांतिकारी बदलाव करार दिया है। मोदी ने 30 अक्टूबर को अपने ‘मन की बात’ कार्यक्रम में इसे लेकर कई बातें कही थीं। उन्होंने कहा था कि निजी क्षेत्र के लिए अंतरिक्ष के खुलने से कई युवा स्टार्ट-अप इस क्षेत्र में काम करना चाह रहे हैं।

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!