spot_img

Bihar: पत्रकार के हत्यारों पर ईनाम घोषित, जब्त होगी चल-अचल संपति

बेगूसराय में पत्रकार सुभाष कुमार की हुई हत्या के मामले में पुलिस बिहार ही नहीं, दूसरे राज्यों में भी लगातार छापेमारी कर रही है।

Begusarai: बेगूसराय में पत्रकार सुभाष कुमार की हुई हत्या के मामले में पुलिस बिहार ही नहीं, दूसरे राज्यों में भी लगातार छापेमारी कर रही है। बुधवार को पुलिस ने हत्याकांड में शामिल अपराधियों के संबंध में सटीक सूचना देने वाले को इनाम देने की घोषणा किया है।

एसपी ने बताया कि 20 मई को परिहारा ओपी क्षेत्र के सांखू गांव में अपराधियों ने अर्जुन महतो के पुत्र पत्रकार सुभाष कुमार की गोली मारकर हत्या कर दी। इस मामले में खगड़िया जिला के अलौली थाना क्षेत्र के रानी शकरपुरा निवासी सत्येन्द्र महतो उर्फ नाथो महतो के रौशन कुमार एवं पियूष कुमार तथा सुभाष के ही ग्रामीण सत्यनारायण महतो के पुत्र निलेश कुमार उर्फ लूटन महतो एवं महेश शर्मा के पुत्र बाबुल राठौड़ उर्फ बबलू को नामजद किया गया है। अनुसंधान के दौरान इसके कई साक्ष्य भी मिले हैं।

घटना के बाद से ही स्पेशल टीम गंभीरता पूर्वक अनुसंधान करते हुए वैज्ञानिक साक्ष्य पर काम कर रही है। डीएसपी के नेतृत्व में अब तक दस से अधिक जगहों पर छापेमारी की गई तथा तीन लोगों को संदेह के आधार पर हिरासत में लेकर पूछताछ किया जा गया है। विशेष जांच टीम बिहार के विभिन्न जगहों के साथ ही बिहार के बाहर भी उचित दिशा में अनुसंधान की कर रही है। घटना के बाद भागलपुर से आई एफएसएल टीम द्वारा घटनास्थल से नमूना (खून का सैंपल) लेकर जांच के लिए भेजा गया है।

एसपी ने बताया कि मंगलवार को चारों अपराधियों के खिलाफ नन बेलेबल (गैर जमानती) वारंट जारी कराया गया है। चारों नामजद अभियुक्तों के संपत्ति का पता लगाया जा रहा है, चल एवं अचल संपत्ति को कुर्की में अटैच किए जाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। एसपी ने बताया कि उक्त चारों नामजद अभियुक्तों पर ईनाम घोषित किया गया है, सूचना देने वाले की पहचान गुप्त रखते हुए नगद राशि से पुरस्कृत किया जायेगा। उक्त चारों के संबंध में किसी भी प्रकार की सूचना 8540036840 पर दी जा सकती है।

गौरतलब है कि बेगूसराय जिला के बखरी थाना क्षेत्राधीन परिहारा ओपी के सांखू गांव में बेखौफ अपराधियों ने 20 मई की रात पत्रकार सुभाष कुमार की सरेआम गोली मारकर हत्या कर दी। बेगूसराय में हुए इस हत्या से जिला भर में भय, दहशत और आक्रोश है।

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!