spot_img
spot_img

Bihar सरकार में मंत्री के भाई-पुत्र व समधी पर आर्म्स एक्ट के तहत FIR

बेतिया मुफस्सिल थाना के हरदिया में रविवार को मारपीट के मामले में बिहार सरकार में पर्यटन मंत्री नारायण साह के भाई, पुत्र व समधी सहित सात लोगों के विरुद्ध एफआईआर दर्ज की गई है।

Betiah: बेतिया मुफस्सिल थाना के हरदिया में रविवार को मारपीट के मामले में बिहार सरकार में पर्यटन मंत्री नारायण साह के भाई, पुत्र व समधी सहित सात लोगों के विरुद्ध एफआईआर दर्ज की गई है।

थानाध्यक्ष उग्रनाथ झा ने सोमवार को बताया कि हरदिया निवासी लालबाबू प्रसाद की पत्नी रीना देवी की शिकायत पर एफआईआर दर्ज की गई है। जिसमें पर्यटन मंत्री के भाई बिशुनपुरा निवासी हरेंद्र साह, पुत्र नीरज कुमार उर्फ बबलू, चनपटिया थाना क्षेत्र के चुहड़ी निवासी विजय कुमार, हरदिया के विश्वनाथ महतो, बगम्बरपुर के संतोष साह, बगम्बरपुर तुरहाटोली के रंजीत कुमार, पूर्वी चंपारण के मलाही थाना क्षेत्र अंतर्गत पुरंदरपुर निवासी झुनझुनू कुमार को नामजद किया गया है। घटनास्थल से मिले रायफल , पिस्तौल , स्कोर्पियो गाड़ी , रायफल की चार तथा पिस्तौल की 6 गोली को जब्त कर लिया गया है । झुनझुन कुमार पर्यटन मंत्री के समधी हैं।

रीना देवी ने आरोप लगाया है कि उनके व गांव के कुछ अन्य लोगों का जमीन नापी के दौरान हरेंद्र साह के जमीन में से निकल गया था। इस जमीन को उसके परिजन व अन्य जमीन वाले लोग जोत लिए थे। जिसके चलते हरेंद्र साह तथा बिहार सरकार के पर्यटन मंत्री नारायण साह के परिवार के लोग मार कर खत्म कर देने की फिराक में रहते थे। बीते 23 जनवरी को उसके पुत्र जनार्दन कुमार तथा गांव के 15-20 लड़के हरदिया मिडिल स्कूल के पश्चिम स्थित बगीचा में क्रिकेट खेल रहे थे। पुरानी दुश्मनी साधने के नियत से आरोपी अपनी गाड़ी से हाथ में लोहे का रॉड, पिस्तौल कट्टा, राइफल, बंदूक तथा अन्य हथियार लेकर आए । क्रिकेट खेल रहे बच्चों को घेर कर मारपीट करने लगे। नीरज कुमार उर्फ बबलू तथा हरेंद्र साह उसके पुत्र को जान से मारने की नियत से अपने हाथ में लिए पिस्टल, राइफल से फायर किए। लेकिन इधर उधर भागने के कारण गोली नहीं लगी।

विजय कुमार साह तथा झुनझुनू कुमार हाथ में लिए लोहे की रॉड से अंधाधुन मारने लगे। बबलू ने लोहे की रॉड से उसके पुत्र के सिर पर मारा। जिससे उसका सिर फट गया और वह वही गिरकर तड़पने लगा। अन्य आरोपी भी मारपीट कर रहे थे, जिससे कई लड़के घायल हो गए। बच्चों के चीखने और गोली की आवाज सुनकर गांव की महिला पुरुष वहां पहुंच कर बच्चों को बचाने लगे। जिससे उन लोगों को भी चोट लगी। रीना ने बताया है कि इसके बाद पुलिस को फोन किया गया। सूचना पर दो-तीन गाड़ी के साथ पुलिस आई। पुलिस और ग्रामीणों को देखकर आरोपी भागने लगे। पुलिस और ग्रामीणों के सहयोग से भागते लोगों के पास से पिस्टल, राइफल तथा गोली बरामद किया गया। लेकिन भीड़ का लाभ उठा सभी भाग गए। रीना ने पुलिस ने बताया है कि उसका पुत्र अभी जीएमसीएच अस्पताल में जीवन-मौत के बीच जूझ रहा है।

Leave a Reply

Hot Topics

Related Articles

Don`t copy text!